लकी ड्रा में 2.51 लाख का इनाम निकलने का झांसा दे 56 हजार की ठगी

गोसाईगंज । शातिर ठगों ने एक व्यक्ति को लकी ड्रा में 2.51 लाख रुपये व सोने का सिक्का एक कार इनाम देने का झांसा देकर अलग-अलग बैंक खातों में उससे करीब 56 रुपये जमा करा लिए। बाद में फिर से 51 हजार रुपये की मांग की। तब पीड़ित को ठगे जाने का एहसास हुआ। घटना की शिकायत पर गोसाईगंज कोतवाली पुलिस ने धोखाधड़ी का तहरीर लिया है।
गोसाईगंज कोतवाल सुरेश पांडे के मुताबिक लालपुर बनकटवा निवासी रामचंद्र तिवारी 66 ने रिपोर्ट लिखाई कि 6 दिसम्बर, 2018 को उसके मोबाइल पर 919877167 नंबर से फोन आया। कॉल करने वाले ने अपना नाम संजय त्रिपाठी गांधीनगर सेक्टर 2 नई दिल्ली बताते हुए कहा कि आपके वोडा नंबर पर 2 लाख 51 हजार रुपये का लकी ड्रा निकला है। इनाम की राशि पाने के लिए आपको खाता नंबर 3435 1484 411 स्टेट बैंक आफ इंडिया में 2500 सौ रुपये जमा करने होंगे। इनाम में बड़ी रकम पाने के लालच में रामचंद्र तिवारी ने बताए गए खाते में पैसे जमा कर दिए। कुछ देर बाद दोबारा उसी व्यक्ति ने कॉल करके 8 हजार 500 रुपये काउंटर साइन होना है। वह रुपया खाता नंबर 593102010020729 जमा करने कहा और बताया कि अब आपके इनाम की राशि बढ़कर 5 लाख 2 हजार रुपये हो गई है। इसके बाद दोपहर एक बजे बजे पुनः फोन पर कहा कि इनाम की रकम के टैक्स के रूप में 16 हजार रुपये इस खाता नंबर 5041 2738 131 में जमा करें। रामचंद्र तिवारी ने शातिर ठग के झांसे में फंसकर वैसा ही किया।

इस तरह से देते रहे लालच

ठगी के शिकार रामचंद्र तिवारी ने बताया कि 7 दिसम्बर 2018 को ठग ने मोबाइल नंबर 87 56 0 142 एवं 8127 92 50 50 अलग-अलग समय से फोन कर ठगों ने अधिक इनाम का लालच देते हुए कहा कि आपके नाम से वाहन भी लक्की ड्रा में फंसा है। सभी इनाम पाने के लिए इलाहाबाद बैंक के खाताधारक बसंती कुमारी के खाता नंबर 5041 2738 131 में 29 हजार रूपये इस तरह कुल एक 56 हजार रुपये जमा करा लिए। दूसरे दिन रामचंद्र तिवारी ने इनाम की राशि खाते में जमा करने को कहा तो ठगों ने नया गाड़ी देने का झांसा देकर गाड़ी का रोड़ टैक्स के नाम पर 51 हजार फिर लगातार दबाव बनाने पर ठगी की आशंका हुई।

(दिनेश जायसवाल)

इसे भी पढ़े  पेड़ से टकराई बाइक, कटीले तार में उलझे सवार,हुई मौत

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More