श्रेयस्कर है सुग्राह्य शिक्षा: जितेंद्र शुक्ला

समारोह पूर्वक मनाया गया विद्यार्थी-अभिभावक अभिनन्दन समारोह

लखनऊ। गुणवत्तापरक शिक्षा से ही विद्यार्थियों की सफलता का मार्ग प्रशस्त होता है। तकनीक के इस दौर में भी अध्यापकीय शिक्षा का कोई विकल्प नहीं है। यह अपेक्षित अवश्य है कि समय, सूचना और समाज के परिप्रेक्ष्य में अध्यापक स्वयं को अनुशीलक बनाए रखते हुए सदैव अपडेट रहें। यह उद्गार शिक्षाविद् जितेंद्र कुमार शुक्ला ने ए.जे.एस. संस्थान द्वारा आयोजित विद्यार्थी अभिनन्दन समारोह में व्यक्त किए।

सीबीएसई परीक्षा में विद्यालय टॉप करने वाले दसवीं कक्षा के विद्यार्थी शिवम् और अभिभावक लल्लन सिंह का सम्मान करते हुए संस्थान के निदेशक श्री शुक्ला ने कहा कि विद्यार्थियों को सदैव उत्कृष्टता के लक्ष्य को प्राप्त करने की तैयारी करनी चाहिए। यह लक्ष्य नियमित अध्ययन और शिक्षकों के सम्यक मार्गदर्शन से प्राप्त किया जा सकता है। शिक्षा विद्यार्थियों के सुग्राह्य हो, इसपर शिक्षकों को ज़रूर ध्यान देना चाहिए।टॉपर विद्यार्थी शिवम ने गुरुजनों के प्रति आभार प्रकट करते हुए अपनी सफलता का श्रेय शिक्षकों और अभिवावकों को दिया। शिवम् ने कहा कि सफलता का मूलमंत्र परिश्रम है, शिक्षकों का मार्गदर्शन सफलता के पथ को प्रशस्त करता है।
इस अवसर पर राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित लेखक और डॉ.राममनोहर लोहिया विवि.के पूर्व व्याख्याता यदुनाथ सिंह मुरारी ने सफल विद्यार्थी और अभिवावक को शाल और पुष्पगुच्छ भेंट कर अभिनन्दन किया। श्री मुरारी ने अपने सम्बोधन में कहा कि राष्ट्रनिर्माण में शिक्षकों का अहम् योगदान है। शिक्षक की भूमिका विद्यार्थियों को श्रेष्ठतम् मार्ग की ओऱ ले जाना है। उन्होंने सफल विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य की कामना की।
अभिनन्दन समारोह में ए जे एस क्लासेज के शिक्षक अमित शुक्ला, पूजा मैम के अलावा बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। सभी लोगों ने सफल विद्यार्थियों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

इसे भी पढ़े  कोहरे व पछुआ हवाओं से बढ़ी ठण्ड, अलाव बना सहारा

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More