खड़ी ट्रक से टकराई स्कार्पियो, सात घायल

रौनाही पुलिस ने आपस में भिड़े वाहनों को
क्रेन से हटवाया

सोहावल। रौनाही थाना क्षेत्र के एनएच 28 बरई कला लोहिया पुल के पास तेज रफ्तार स्कार्पियो खड़ी ट्रक में जा घुसी। दुर्घना में सात लोग घायल हो गये जिनमें से तीन की हालत गम्भीर बनी हुई है। 108 एम्बूलेंस से सभी घायलों को तत्काल जिला चिकित्सालय पहुंचाया गया जहां से उन्हें मेडिकल कालेज लखनऊ रिफर कर दिया गया।
रौनाही थाना क्षेत्र के बरई कला गांव स्थित प्राचीन शिव मन्दिर के समीप ट्रक सं0 यू पी 41एटी खड़ी थी। अयोध्या से लखनऊ की ओर जा रही स्कार्पियो यूपी 32 ईपी 0077 सामने से जा टकरायी जिससे स्कार्पियो में सवार दो महिला, एक किशोरी सहित सात लोग घायल हो हुये। स्कार्पियो के पीछे आ रही स्विफ्ट डिजायर डीएल 8 सीयू 4776 भी आ टकरायी। जिसमें सवार तो बाल बाल बच गये। सभी घायलों को सत्तीचैरा चैकी प्रभारी आरएन वर्मा ने उपचार के लिये जिला चिकित्सालय भेजवाया। कुछ समय के लिये सड़क पर जाम की स्थिति बन गयी। आपस में भिड़े वाहनों को क्रेन से हटवाकर पुलिस ने यातायात बहाल कराया।
जानकारी के अनुसार शहर के सहादतगंज मोहल्ला में आयोजित विवाह समारोह में शामिल होने के बाद कनौसी थाना कृष्णा नगर जनपद लखनऊ निवासी परिवार वापस घर लौट रहा था। सोमवार को दोपहर लगभग डेढ़ बजे जैसे ही लोहिया पुल के पास स्कार्पियो पहुंची अनियंत्रित होकर खड़ी ट्रक में जा घुसी। दुर्घटना में 75 वर्षीया श्यामा सिंह पत्नी स्व. के.बी. सिंह, 48 वर्षीय धीरेन्द्र प्रताप सिंह पुत्र स्व. के.बी. सिंह, 17 वर्षीया हर्षिता सिंह पुत्री धीरेन्द्र प्रताप सिंह, 28 वर्षीय अभय प्रताप सिंह पुत्र पुष्पेन्द्र सिंह, 45 वर्षीया रमा सिंह पत्नी पुष्पेन्द्र प्रताप सिंह, 70 वर्षीय कैलाशपति सिंह पुत्र स्व. राजेन्द्र प्रताप सिंह व 50 वर्षीय पुष्पेन्द्र प्रताप सिंह पुत्र स्व. के.बी. सिंह घायल हो गये। घायलों को तत्काल जिला चिकित्सालय पहुंचाया गया। इलाज कर रहे आर्थो सर्जन डा. आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि दुर्घअना में सभी के सिर में चोटंे लगी हैं जिनमें तीन की हालत चिन्ताजनक है एक घायल के पैर की हड्डी चटक गयी है। चूंकि सभी घायल लखनऊ शहर के निवासी है इसलिए उनकी मर्जी से सभी को लखनऊ मेडिकल कालेज रिफर कर दिया गया है।

इसे भी पढ़े  हादसे में तीन कैटरिंग कर्मियों की मौत, एक घायल

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More