The news is by your side.

रिमझिम बारिश से सब्जियों व धान की फसलों को भारी नुकसान

-किसानों के खेत में भरा पानी, बढ़ सकते हैं सब्जियों के दाम

मिल्कीपुर। मिल्कीपुर क्षेत्र में दो दिनों से रुक रुक कर हवा के साथ हो रही तेज बारिश से सब्जियों की फसलों को काफी नुकसान हो रहा है। लौकी, कद्दू, मूली, पालक, धनिया, मिर्चा आदि कम पानी वाली सब्जियों की फसल को काफी नुकसान पहुंच रहा है। इससे अब सब्जियों के दामों में भी तेजी आने की संभावना बढ़ गई है। क्योंकि खेतों में हुए जल भराव से सब्जियां सड़ना शुरू कर दी है। 50 प्रतिशत किसान धान की कटाई कर रहे हैं। लेकिन दो दिनों से हो रही बारिश के चलते खेतों में जल भराव हो जाने से काटी गई धान की फसलें पानी में तैरने लगी हैं।

Advertisements

यदि और वर्षा हुई तो काटी गई धान की फसल खेत में ही अंकुरित हो जाएगी, जो धान की फैसले नहीं कटी थीं वह बारिश के साथ तेज हवा के झोंकों के चलते खेतों में गिर गई हैं। किसान धान की फसलों को बचाने के लिए खेतों में भरे पानी को पंपिंग सेट से बाहर भी निकल रहे हैं। कृषक प्रदीप कुमार, रामजीत, दयाराम मौर्या, त्रियोगीनाथ वर्मा, बेद प्रकाश, दीनानाथ, राजू व श्याम बिहारी सहित अन्य किसानों का कहना है कि सब्जियों के खेतों में मेड़ों के बराबर पानी भरा हुआ है। कद्दू, लौकी, खीरा, मूली, पालक सब खेतों में ही सड़ जा रही है। पानी निकासी की खेतों से कोई व्यवस्था नहीं है। यदि ऐसे बारिश हुई तो सब्जी की सारी फैसलें चौपट हो जाएंगी।

किसान राजेश मौर्या, रामनाथ तिवारी, राधेश्याम शर्मा, रामधीरज पाण्डेय, देवदत्त पाण्डेय, राजित राम, दयानंद का कहना है कि जब पानी की किसानों को जरूरत थी, तब बरसात नहीं हो रही थी। धान की फैसले कट रही है, तो बारिश हो रही है। ऐसे में धान की फैसले खराब हो जा रही है। किसानों को आलू सरसों की बुवाई में भी काफी लेट हो रहा है। जो फैसले अभी तैयार नहीं थी, वह हवा के चलते गिर गई है और ऊपर से पानी भी भर गया है।

इसे भी पढ़े  प्रधान संघ के जिला महासचिव व कई ग्राम प्रधानों ने ग्रहण की भाजपा की सदस्यता

 

Advertisements

Comments are closed.