जीआरपी सिपाहियों ने लोको पायलट को पीटा

    आक्रोशित रेल कर्मियों ने किया हंगामा, घेरा जीआरपी थाना, रोकी गंगा सतलज एक्सप्रेस

    Advertisement


    फैजाबाद। इंजन संटिंग के दौरान जीआरपी के एक उप निरीक्षक व दो आरक्षियों ने लोको पायल को थप्पड़ो से पीटा जिससे आक्रोशित रेलवे कर्मचारियों ने हंगामा किया। मंगलवार की सुबह आन्दोलित रेल कर्मचारियों ने गंगा सतलज एक्सप्रेस ट्रेन को भी रोंक दिया जिससे रेल यातायात बाधित हुआ।
    सहायक लोेको पायलट नरसिंह यादव प्लेटफार्म नम्बर 5 पर इंजन की संेटिंग कर रहे थे इसी समय जीआरपी के चार आरक्षी घूमते हुए आये और लोको पायलट से पूंछताछ करने लगे। लोको पायलट ने उन्हें बताया कि वह संटिंग कराने आये हैं इंजन चलाने में अभी समय है इसलिए प्लेटफार्म नम्बर पांच पर वह बैठे है। इतना सुनने के बाद एक उपनिरीक्षक व अन्य आरक्षियों ने उन्हें थप्पड़ों से पीटना शुरू कर दिया। लोको पायलट ने चिल्लाकर अपने स्टाफ को आवाज लगायी जब लोग दौड़े तो आरक्षी भाग खड़े हुए। लोको पायलट की पिटाई से आक्रोशित सैकड़ो रेल कर्मचारियांे ने जीआरपी थाना को घेर लिया और नारेबाजी करने लगे रेल कर्मचारियों के हंगामा के कारण लोको पायलट को पीटने वाले आरोपी पुलिसकर्मी भाग खड़े हुए।
    फैजाबाद जंक्शन पर ड्यूटी पर तैनात लोको पायलट कर्मचारी नरसिंह यादव का आरोप है कि ड्यूटी के दौरान नशे में 3 जीआरपी के सिपाहियों ने उसकी अकारण पिटाई कर दी। पिटाई के बाद जब शिकायत करने पीड़ित जीआरपी थाने पहुंचा तो थाने पर भी अभद्रता की गई। अभद्रता के बाद रेलवे कर्मचारी ने अपने साथियों को सूचना दी . जिसके बाद सैकड़ों की संख्या में कर्मचारियों ने प्लेटफॉर्म पर आ रही गंगा सतलज ट्रेन को रोक दी और नारेबाजी करते हुए पटरी पर बैठ गए। मामला बिगड़ता देख एसएचओ जीआरपी ने आनन फानन में जीआरपी के सिपाही रवींद्रनाथ गौड़, कमलेश यादव व उमेश चंद्र वर्मा के खिलाफ मारपीट का मुकदमा दर्ज कर लिया । हालांकि रेलवे कर्मचारियों की मांग थी कि तीनो सिपाहियों को सस्पेंड किया जाए. मौके पर पहुंचे रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने समझा-बुझाकर कर्मचारियों को शांत कराया. जिसके बाद मामला शांत हुआ और गंगा सतलुज एक्सप्रेस फैजाबाद जंक्शन से लखनऊ के लिए रवाना हो सकी।