लक्ष्य, पथ, प्रण, अन्त्योदय का स्वप्न हो रहा साकार : गोरखनाथ

भाजपा शासन में तेजी से बदल रही है गांव की तस्वीर

अयोध्या। मोदी-योगी विकास रथ यात्रा से गांव-गांव भ्रमण करने के बाद भाजपा पार्टी कार्यालय में मिल्कीपुर क्षेत्र के विधायक गोरखनाथ बाबा ने कहा कि लक्ष्य पथ, प्रण, अन्त्योदय का स्वप्न साकार हो रहा है। भाजपा शासन के दौरान गांव का तेजी से विकास हो रहा है।
भाजपा विधायक गोरखनाथ बाबा ने विकास रथ यात्रा के भ्रमण के दौरान गांवों के प्रवास के अनुभवों को पत्रकारों से साझा किया। उन्होंने कहा कि भाजपा के डेढ़ साल के शासन में मिल्कीपुर क्षेत्र को विकास मद में अरबों रूपया मिला है। उन्होंने कहा कि मैने 58 गांवो के भ्रमण का संकल्प लिया था अबतक 31 गांवो में भ्रमण कर चुका हूं। एक दिन में पांच गांवो का भ्रमण और प्रत्येक गांव में दो घंटा रहा। ग्रामीणों से वार्ता करने पर ज्ञात हुआ कि विकास कार्य तेजी से हुए हैं।
उन्होंने कहा कि शौंचालय निर्माण में सबसे अधिक शिकायतें मिलीं जिन गांवो मे वह गये वहां एक भी शौंचालय निर्मित नहीं मिला। ग्राम प्रधान और सिक्रेटरी ने हमने साफ-साफ कहा कि यदि उनके द्वारा शौंचालय मद का धन डकारने की शिकायत मिलेगी तो सख्त कार्यवाही की जायेगी। यही हाल प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना का भी रहा गांव में मात्र पांच फीसदी लाभार्थी मिले। इसलिए तय हुआ है कि शत प्रतिशत योजना का लाभ लोगों को मिले इसलिए गांवो में शिविर लगाकर लाभार्थियों का खाता खुलवाया जायेगा। उज्जवला योजना के तहत गैस सिलेंडर सभी पात्रों को मिले इसके लिए निमय सरल कर दिये गये हैं। राशन कार्ड और आधार कार्ड देने मात्र से ही पात्रों को गैस सिलेंडर व कनेक्शन दे दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि भ्रमण के दौरान उन्होंने देखा कि आपरेशन कायाकल्प धरती पर उतर रहा है और प्राथमिक स्कूलों में उल्लेखनीय परिवर्तन हो रहे हैं। हमने हिदायत दी है कि स्कूलों को मन्दिर की तरह सजाओ, क्षेत्र के परिषदीय विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों को 50 हजार से एक लाख रूपये तक रिपेयरिंग के नाम पर दे दिया गया है। जिसका उपभोग भी तेजी से हो रहा है। अभी तक 30-40 विद्यालयों का उद्घाटन वह कर चुके हैं सभी छात्रों को बैठने के लिए स्कूल में डेस्क व वेंच उपलब्ध करायी जा रही है। पत्रकार वार्ता में भाजपा जिलाध्यक्ष अवधेश पाण्डेय बादल, पूर्व जिलाध्यक्ष ओम प्रकाश सिंह, मीडिया प्रभारी दिवाकर सिंह आदि मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े  पंचकोसी परिक्रमा : आस्था की डगर पर बढ़े श्रद्धालुओं के कदम

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More