in ,

कायदे कानून ताख पर रख एलपी से क्रय की जा रही दवाएं

सात किमी दूर मेडिकल स्टोर को दे दिया गया ठेका

योध्या। कायदे कानून को ताख पर रखकर सरकारी जिला चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक ने लोकल परचेज दवाओं के क्रय करने का ठेका जिला मुख्यालय से सात किमी दूर स्थित मेडिकल स्टोर को दे दिया है। दूसरी ओर मुख्य चिकित्सा अध्किारी डा. हरिओम श्रीवास्तव का कहना है कि एलपी दवा का मेडिकल स्टोर जिला चिकित्सालय से एक किमी परिधि में होना चाहिए। चुनाव अधिसूचना जारी होने के बाद मार्च माह में एलपी दवा का टेंडर नहीं हो पाया था ऐसे हालात में मरीजों की आवश्यकता को देखते हुए चिकित्सालय के सीएमएस अपने विवेक का इस्तेमाल करते हुए किसी भी दूकान से एलपी दवा क्रय कराने के लिए आवंटन कर सकते हैं। एलपी दवाएं इसके पूर्व जिला चिकित्सालय से चंद कदमों की दूरी पर स्थित गोयल मेडिकल हाल से क्रय की जाती थीं। चूंकि एक फार्मासिस्ट के माध्यम से एलपी दवाएं क्रय होती थीं जिससे सीएमएस कार्यालय के वरिष्ठ लिपिक नाराज थे। नाराजगी का मुख्य कारण क्रय की गयी दवाओं का कमीशन चूंकि वरिष्ठ लिपिक अयोध्या निवासी हैं इसलिए उन्होंने श्रीराम राजकीय चिकित्सालय अयोध्या के समीप स्थित प्रकाश मेडिकल स्टोर को एलपी दवाओं का ठेका दिला दिया। सबसे बड़ी परेशानी आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थी मरीजों की है। इन मरीजों को तत्काल एलपी की दवाएं उपलब्ध कराये जाने का प्रावधान है। दूसरी ओर 7 किमी दूर स्थित मेडिकल स्टोर से कैसे और कौन ले आयेगा इसके लिए चिकित्सालय प्रशासन ने किसी कर्मचारी की तैनाती भी नहीं की है। दूसरी ओर वर्तमान व पूर्व विधायक, सांसद, एमएलसी व स्वतंत्रता संग्राम सेनानी को भी एलपी से परचेज करके दवां उपलब्ध कराने का प्रावधान है। नई व्यवस्था के चलते ये लोग भी समय से जीवन दायिनी दवाएं नहीं पा रहे हैं जिससे उनमे व्यापक असंतोष है। प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. ए.के. राय इस मामले में पूरी तरह चुप्पी साधे हुए है।

What do you think?

Written by Next Khabar Team

सपा कार्यकारिणी से मांगा सुझाव, दिया चुनाव जीतने का मंत्र

सोशल मीडिया पर भाजपा कार्यकर्ता मर्यादा का रखें ध्यान : डा. महेन्द्र नाथ पाण्डेय