The news is by your side.

डीपीआरओ को जांच में अधूरा मिला सामुदायिक शौचालय

-पंचायत भवन, सेक्रेटरी भी नहीं बता पाए, कैसे हुई गड़बड़ी

मिल्कीपुर। मिल्कीपुर तहसील के अमानीगंज विकास खंड के ग्राम पंचायत बकचुना में बने पंचायत भवन, सामुदायिक शौचालय व दिव्यांग शौचालय का जिला पंचायती राज अधिकारी अयोध्या दमनप्रीत अरोड़ा ने स्थलीय जांच की।जांच के दौरान सामुदायिक शौचालय, दिव्यांग शौचालय का निर्माण अधूरा पाया गया। पंचायत भवन का निर्माण भी पूरा नहीं मिला। कार्य अधूरा होने के बावजूद भुगतान करा लिए जाने के मामले में डीपीआरओ ने प्रभारी एडीओ पंचायत हरेंद्र सिंह व ग्राम पंचायत अधिकारी प्रवीण कुमार से पूछताछ हुई तो कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए।

Advertisements

डीपीआरओ दमनप्रीत अरोड़ा ने जब ग्राम प्रधान राजेश यादव व ग्राम पंचायत अधिकारी प्रवीण कुमार से पूछा कि ग्राम सचिवालय में तैनात पंचायत सहायक कहां है तो उन्होंने कहा कि कहीं गए होंगे, मौके पर मौजूद ग्रामीणों ने कहा कि पंचायत सहायक व ग्राम पंचायत अधिकारी कभी पंचायत भवन में बैठते ही नहीं, डीपीआरओ ने जब पंचायत भवन में लगे सीसीटीवी कैमरे का अवलोकन किया तो उसमें फरवरी माह 1से 2 दिन ही पंचायत सहायक आए दिखे।बकचुना गांव के उमेश कुमार तिवारी ने जिला पंचायत राज अधिकारी अयोध्या के यहां प्रार्थना पत्र दिया था। कि ग्राम में बने पंचायत भवन की रंगाई पुताई नहीं की गई है, और न ही कुर्सी, मेज, कंप्यूटर आदि की कोई सुविधा उपलब्ध है।नियुक्ति होने के बाद से अब तक पंचायत सहायक कभी नहीं बैठे और न ही कभी गांव में विकास कार्यों को लेकर खुली बैठक ही की गई।

ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत अधिकारी ने सांठगांठ करके बगैर इंडिया टू मार्का हैंडपंप का रिबोल कराएं ही पैसों के भुगतान कराने का आरोप लगाया था।जिला पंचायत राज अधिकारी दमनप्रीत अरोड़ा ने बताया कि शिकायत थी प्रार्थना पत्र के आधार पर मौके पर जाकर निरीक्षण किया गया तो पंचायत भवन, दिव्यांग शौचालय व सामुदायिक शौचालय के कार्य पूर्ण नहीं पाए गए हैं। 3 दिवस में कार्य को पूर्ण कराने का निर्देश दिया गया है, यदि कार्य पूर्ण नहीं किया जाएगा होगा तो ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत अधिकारी, एडीओ पंचायत के खिलाफ नियमानुसार विभागीय कार्यवाही की जाएगी।

Advertisements

Comments are closed.