The news is by your side.

जिलाधिकारी ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया निरीक्षण

-राहत एवं बचाव कार्य की तैयारियों का लिया जायजा


अयोध्या। जिलाधिकारी नितीश कुमार ने जनपद में सम्भावित बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया भौतिक निरीक्षण। राहत एवम् बचाव कार्य हेतु तैयारियों का लिया जायजा। सभी संबंधित विभाग के अधिकारियों को दिए आवश्यक दिशा निर्देश। इस दौरान जिलाधिकारी द्वारा तहसील रुदौली के संभावित बाढ़ प्रभावित ग्राम मंहगू का पुरवा का भ्रमण भौतिक निरीक्षण किया तथा ग्रामीणों से स्थिति की जानकारी ली। इस अवसर पर तहसील द्वारा बताया गया कि संभावित बाढ़ को देखते हुए पर्याप्त संख्या में नावों की व्यवस्था कर ली गई है जिससे आवश्यकता पड़ने पर बाढ़ प्रभावितों को सुगमता से सुरक्षित स्थल पर बनाई गई बाढ़ शरणालय में विस्थापित किया जा सके।

Advertisements

इस दौरान जिलाधिकारी ने आशा से जिलाधिकारी द्वारा ग्रामीणों में क्लोरीन की गोली व ओआरएस आदि के उपलब्धता की जानकारी ली तथा सीएचसी प्रभारी अधीक्षक को ग्रामीणों को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने तथा सरकार द्वारा दी जा रही विभिन्न सेवाओं का सुगमता से पहुंचाना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। तदोपरांत जिलाधिकारी द्वारा ग्राम पंचायत महोली में स्थापित किए गए बाढ़ शरणालय का निरीक्षण किया गया तथा वहां पर उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी ली गई सीएचसी अधीक्षक द्वारा अवगत कराया गया कि बाढ़ शरणालय पर आवश्यकता अनुसार चिकित्सा टीम तैनात कर दी गई है तथा यहां प्रयाप्त मात्रा में सभी आवश्यक दवाइयां उपलब्ध हैं आवश्यकतानुसार लोगों को सुविधा उपलब्ध कराई जा रही हैं। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने ग्राम पंचायत महोली उपरहार में जल जीवन मिशन योजना के अंतर्गत जन सामान्य स्वच्छ पेय जल उपलब्ध कराने हेतु संचालित शिरोपरि जलाशय संयंत्र का निरीक्षण किया तथा उपस्थित ऑपरेटर को नियमित ग्रामीणों को जल आपूर्ति सुनिश्चित रखने के साथ ही परिसर में वृक्षों को भी आरोपित करने के निर्देश दिए।

इसे भी पढ़े  देश विदेश से रामलला दरबार में पहुंचे 300 जादूगरों ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में घाघरा (सरयू) नदी पर दो तटबन्ध स्थित हैं- प्रथम रौनाही तटबन्ध यह तटबंध घाघरा नदी के दायें तट पर स्थित है। जिसकी लम्बाई 14.550 कि0मी0 है। द्वितीय- अयोध्या बिल्वहरिघाट तटबन्ध 13.140 कि0मी0 है। उपरोक्त के अतिरिक्त तमसा नदी (मड़हा) के बायें तट पर गोशाईंगंज शहर सुरक्षा तटबंध है, जिसकी लम्बाई 05. 340 कि०मी० है। उपरोक्त तटबंध सुरक्षित हैं। जनपद में तीन तहसीलों यथा तहसील सदर के 10 गांव (01-मांझा मूड़ाडीहा अयोध्या, 02-मांझा मूड़ाडीहा बस्ती, 03-मांझा सलेमपुर 04- मांझा पूरे चेतन, 05-मांझा पिपरी संग्राम, 06-माझा मड़ना, 07-माझारामपुरपुवारी, 08-माझा काजीपुर, 09-माझा मीरापुर ढाबा, 10-छावनी गौरा बारिक), तहसील रुदौली के 07 गांव (01-मुजेहना मजरे सरायनासिर, 02-पूरे मंहगू मजरे पसैया, 03-पूरे महंगू मजरे सण्डरी, 04-अब्बूपुर मजरे बरई, 05-कैथी माझा मजरे कैथी, 06-सुलेमपुर मजरे उधरौरा, 07-सल्लाहपुर मजरे कैथी) तथा सोहावल का 01 गांव मांझाकलॉ कुल 18 गांव संभावित बाढ़ प्रभावित गांव हैं। वर्तमान में कोई गांव बाढ़ से प्रभावित नही है।

उक्त सभी तटबंधो, ग्रामों व क्षेत्रों में राजस्व विभाग व अन्य विभागों द्वारा सम्भावित बाढ़ के दृष्टिगत सतत् निगरानी रखी जा रही है। बाढ़ के निगरानी हेतु जनपद स्तर पर व तहसील स्तर कण्ट्रोल रूम स्थापित किया गया है। जिसका 24 गुणे 7 संचालन किया जा रहा है। जनपद अयोध्या में बाढ़ के दृष्टिगत प्रभावित क्षेत्रों में आवश्कतानुसार तहसील सदर में 06, तहसील सोहावल में 01 एवं तहसील रूदौली में 03, कुल 10 बाढ़ केन्द्र/राहत शिविर स्थापित किये गये हैं। उक्त चैकियों में राजस्व/स्वास्थ्य/पशु चिकित्सा विभाग के कर्मचारियों की ड्यूटी 15 जून से ही लगा दी गयी है। चिकित्सा विभाग द्वारा बचाव एवं राहत हेतु 37 टीमों तथा पशु चिकित्सा विभाग द्वारा 21 टीमों का गठन किया गया है।

इसे भी पढ़े  कार्यकाल के तीन वर्ष पूर्ण होने पर जिला पंचायत अध्यक्ष ने गिनाई उपलब्धियां

स्टीयरिंग ग्रुप/बाढ़ की बैठक कर सम्भावित बाढ़ के दृष्टिगत बचाव एवं राहत कार्य किये जाने हेतु सभी सम्बन्धित विभागों को समस्त आवश्यक प्रबन्ध किये जाने हेतु निर्देशित किया गया है। तहसील सदर, सोहावल व रुदौली के उपजिलाधिकारी/तहसीलदार को सतत् निगरानी रखने के साथ ही आवश्यकतानुसार खाद्यान्न वितरण व पशुओं के चारे हेतु भूसे का वितरण किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सम्बन्धित उपजिलाधिकारी/तहसीलदार, चिकित्सा विभाग व पशुचिकित्सा विभाग द्वारा बनाई गयी टीमों द्वारा भी बाढ़ क्षेत्रों का भ्रमण किया जा रहा है।

चिकित्सा विभाग की टीमों द्वारा भी टीकाकरण का कार्य भी किया जा रहा है। जनपद में सम्भावित बाढ़ से प्रभावित होने वाले परिवारों को राहत खाद्य सामग्री यथा त्रिपाल, एवं राशन किट का वितरण किये जाने का प्रबन्ध किया गया है, आवश्यकतानुसार राहत सामग्री का वितरण किया जायेगा। सम्भावित बाढ़ से होने वाले प्रभावित परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर रखे जाने की भी व्यवस्था कर ली गई है। प्रयाप्त संख्या में नावों की व्यवस्था की गई है। इस दौरान जिलाधिकारी ने आकस्मिकता की स्थिति में किसी भी बाढ़ प्रभावित व्यक्ति/परिवार को कोई असुविधा न हो साथ ही उन्हें वहां पर प्रकाश, स्वास्थ्य, पेयजल, साफ-सफाई आदि का विशेष प्रबंध किये जाने हेतु सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया। इस अवसर पर उप जिलाधिकारी रुदौली प्रवीण यादव, तहसीलदार रुदौली, प्रभारी अधीक्षक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रुदौली सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Advertisements

Comments are closed.