पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर दिया धरना, किया प्रदर्शन

विभिन्न कर्मचारी संगठनों के सदस्य धरना प्रदर्शन में हुए शामिल

फैजाबाद। कर्मचारी, शिक्षक, अधिकारी -पुरानी पेंशन बहाली मंच (उ0प्र0) के बैनर तले हजारों शिक्षकों, कर्मचारियों एवं अधिकारियों ने पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर तिकोनिया पार्क में धरना दिया। धरने में केन्द्रीय व प्रदेशीय कर्मचारी संगठन टोपी और टी-शर्ट पहन कर नारेबाजी करते हुये जुलूस की शक्ल में धरना स्थल पर पहुंचे। धरने की अध्यक्षता कर रहे प्रा0शि0सं0 के प्रांतीय आडिटर व मंच के जिला अध्यक्ष नीलमणि त्रिपाठी ने कहा कि पुरानी पेंशन बहाल होने तक लड़ाई जारी रहेगी। उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुये कहा कि यदि हमारी जायज मांग नहीं मांनी जाती तो अधिकारी, कर्मचारी और शिक्षक सरकार के खिलाफ माहौल तैयार कर उन्हें सत्ता से बाहर कर देगें। संयोजक एवं राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के जिला अध्यक्ष ओ0पी0 सिंह ने कहा कि पुरानी पेंशन बहाल किये जाने का वादा अमल में लाया जाय। नई पेंशन नीति को झुंझुना बताते हुये अप्रसांगिक कहा। धरने में कर्मचारी नेताओं ने सरकार पर जमकर भड़ास निकाली। इस अवसर पर चकबंदीकर्ता संघ के प्रांतीय अध्यक्ष सरनाम सिंह पर्यवेक्षक के रूप में मौजूद रहे। सभा का संचालन प्रा0शि0सं0 के जिला मंत्री अजीत सिंह ने किया। धरने के अन्त में मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को सौपा गया।
मीडिया प्रमुख ओम प्रकाश यादव ने बताया कि पूर्वाहन 11 बजे विभिन्न कर्मचारी संगठनों के सदस्य जुलूस बनाकर नारेबाजी करते हुये धरना स्थल पर पहुंचना शुरू हो गये। उन्होंने पांच हजार कर्मियों के धरना में शामिल होने का दावा किया। धरने को सम्बोधित करते हुये नार्दन रेलवे मेन्स यूनियन के नेता आर0जे0 कनौजिया ने सरकार की जमकर खिचायी करते हुये पुरानी पेंशन को बहाल करने की जोरदार वकालत की। विद्यालय निरीक्षक संघ के जिला अध्यक्ष राम शंकर ने अपने उदबोधन में कहा कि पुरानी पेंशन कर्मियों की सामाजिक सुरक्षा की गारंटी है सरकार को इस बावत विचार करना चाहिए। लेखपाल संघ के अमरनाथ पाण्डेय, जयनरायन तिवारी, प्रा0शि0सं0 के संजय उपाध्याय, चक्रवर्ती सिंह, डिप्लोमा इंजी0 महासंघ के रामानुज मौर्या, अजय शुक्ला, उद्यान सेवा संघ के अरविन्द सिंह महाविद्यालय कर्मचारी संघ के सुशांत यादव व कमल देव , विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ के राजेश सिंह, रेलवे मेन्स यूनियन के हीरालाल, सफाई कर्मचारी संघ के कमला प्रसाद यादव, विद्यालय निरीक्षक संघ के अरूण वर्मा, कमला प्रजापति, उ0प्र0 जूनियर शिक्षक हाईस्कूल संघ, पेंशनर समन्वयक समिति के राम किशोर त्रिपाठी, ग्राम पंचायत अधिकारी संघ के अध्यक्ष शम्भू नाथ पाठक, ग्राम विकास अधिकारी संघ के अध्यक्ष नरेश शुक्ला, जू0हा0 शिक्षक संघ के समर जीत सिंह, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अरविन्द कुमार सिंह, पोस्टल/एन0एफ0परि0ह0 के आर0डी0 मौर्य, उ0प्र0 प्रा0 शिक्षक संघ फैजाबाद के जिला मंत्री अजीत सिंह, राजकीय शिक्षक संघ के अजीत प्रताप सिंह, कोषागार कर्मचारी संघ कृपा राम पाण्डेय, सिंचाई विभाग कर्मचारी संघ के संजय पासवान, मिनिस्ट्रीयल कर्मचारी संघ के अशोक पाठक, चतुर्थ श्रेणी स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के अभय दूबे, वाणिज्य कर कर्मचारी संघ के बृजेश मौर्य, मीडिया प्रमुख डेनियल भारती, विशिष्ट बी0टी0सी0 संघ के अनिल प्रजापति, चिकित्सा कर्मचारी संघ के अजीत प्रताप सिंह, राजस्व संग्रह अमीन संघ के उदय भान सिंह, कृषि मिनि0 संघ के अरविन्द सिंह, गन्ना पर्यवेक्षक संघ के अवधेश प्रताप सिंह ‘बब्बू’, एक्स-रे टेक्नीशियन संघ के राजेश श्रीवास्तव, उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के अविनाश पाण्डेय, बोरिंग टेक्नीशियन संघ के अवधेश मिश्रा, डिप्लोमा फार्मेसिस्ट संघ के विनोद त्रिपाठी, आई0टी0आई0 कर्मचारी संघ के विनोद भारती, नरेन्द्र देव कृषि विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ के रणधीर सिंह, श्रम विभाग कर्मचारी संघ के विनय कटियार, उ0प्र0 लेखपाल संघ के विनोद पाण्डेय, विकास भवन कर्मचारी संघ के राम अवध, पेंशनर एसोसिएशन के सनत कुमार सिंह, राजस्व अमीन संघ के दिलीप कुमार सिंह, लघु सिंचाई के देवेन्द्र सहाय, उ0प्र0 प्राथमिक शिक्षक संघ के वीरेन्द्र कुमार भारती, साकेत महाविद्यालय शिक्षक संघ के वी0डी0 द्विवेदी, साकेत महाविद्यालय शिक्षक संघ के डा0 मनोज छापड़िया, उ0प्र0 सेवा निवृत्ति प्रा0 शिक्षक कल्याण परिषद के राम किशोर त्रिपाठी, यू0पी0 एजूकेशन मिनि0 संघ के सूर्यभान सिंह, अमित सिंह, ओमकार नाथ शुक्ल, महेन्द्र , जयहिन्द, विजय, अविनाश, रामगोपाल, अमरनाथ, सतेन्द्र गुप्त, योगेश्वर सिंह, शैलेन्द्र, अवधेश शर्मा आदि ने भी विचार व्यक्त किया।

इसे भी पढ़े  किसानों का शोषण करने की खुली छूट देता है नया कृषि कानून : सभाजीत सिंह

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More