The news is by your side.

पैसा दुगना करने वाली कंपनी एलबीआर वाई पर कार्यवाही की मांग

उपभोक्ताओं ने किया प्रदर्शन, कम्पनी संचालकों पर दर्ज किया गया मुकदमा

कुमारगंज। थानाक्षेत्र के कस्बा कुमारगंज में एक साल में पैसा दुगना करने वाली कंपनी एलबी आरवाई के हजारो उपभोक्ताओं ने थाना कुमारगंज पहुंचकर प्रदर्शन किया।करीब 400 से अधिक उपभोक्ताओं ने कुमारगंज थाने में लिखित तहरीर देते हुए कंपनी संचालको के ऊपर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है।
ज्ञात हो कि बीते एक बर्ष से कस्बा कुमारगंज में जनता मेडिकल स्टोर के मालिक शिवभवन पांडेय के मकान में एलबीआरवाई म्यूचुअल बेनीफिट निधि लिमिटेड के नाम से अंकित अग्रहरि पुत्र लालचन्द निवासी लोहंगी धनपतगंज थाना कूरेभार जनपद सुल्तानपुर व सर्वेश कुमार पुत्र रग्घू निवासी ग्राम गोकुला थाना कुमारगंज जनपद फैजाबाद व एक अज्ञात कम्पनी चला रहे थे और क्षेत्र के हजारों ग्रहको का करोड़ों रुपये 9ः मासिक ब्याज देने का वादा करके जमा कराए।
बीते माह लखनऊ में अंकित के पास से 3 करोड़ 85 लाख रुपये का चोरी होने के मामले में खबर सुर्खियों में आने से कम्पनी के निवेशकों का विश्वास उठने लगा और अपना अपना पैसा वापस मांगने लगे। कुछ निवेशकों को तो पैसा वापस किया उसके बाद आज कल्ह कहकर टरकाया जाने लगा । इसी बीच निवेशकों को पता चला कि अंकित अपने कुछ साथियों के साथ विदेश जाने वाला है और लखनऊ में है उसके घर पहुँच गए और पकड़ कर सर्वेश कुमार के घर गोकुला गांव ले आये वहां पर बंधक बनाकर पैसा वापस करने का दबाव बनाने लगे।इसी बीच कुमारगंज पुलिस को घटना की सूचना मिली तो बुधवार-गुरुवार की रात गोकुला गांव पहुँचकर अंकित अग्रहरि , धनपतगंज निवासी उसका साथी अश्वनी पांडेय पुत्र श्याम विहारी ,अनुराग सिंह पुत्र विश्वनाथ सिंह निवासी गोकुला व शैलेन्द्र सिंह पुत्र शेषनाथ सिंह निवासी जयसिंहमऊ को पकड़ कर थाने लाकर पूछताछ करना शुरू की।वहीं निवेशक पैसा मिलने की आस में पूरे दिन थाने पर जमावड़ा लगाए रहे। अंततोगत्वा देर शाम तक पुलिस ने अंकित , सर्वेश कुमार व एक अन्य के विरुद्ध जनता इंटरनेट के संचालक रामभवन पांडेय की तहरीर पर अपराध संख्या 80/2019 धारा 420 व 406 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज किया।वहीं सूत्रों की माने तो कम्पनी को सात से अधिक लोग मिलकर चला रहे थे। पुलिस कम्पनी के कुछ सरगना लोगो को बचाने में जुटी है। वहीं निवेशकों की माने तो कम्पनी की गहनता से छानवीन की जाय तो यूनियन बैंक, यूको बैंक, बैंक आफ बड़ौदा ,पंजाब नेशनल व ओरियन्टल बैंको में कम्पनी का पैसा, कम्पनी चलाने वाले समूह के अलह अलग लोगो के नाम भारी मात्रा में जमा है ।जिसपर लेनदेन करने की रोक लगाकर निवेशकों की गाढ़ी कमाई वापस कराई जा सकती है। निवेशकों में अधिकतर किसान मजदूरों के 10 हजार से लेकर 50 हजार की रकम तक के साथ लाखो लाख जमा करने वाले धनाढ्य भी शामिल है। वहीं कुमारगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत इसी प्रकार से दर्जनों कंपनियां संचालित है और लोगों के पैसे जमा हो चुके हैं जो को आश्वासन दिया जा रहा है कि हम आपका पैसा वापस करेंगे कुछ चक्कर लगा रहे हैं और कुछ दुकानों पर बैठकर गुपचुप बातें करना । वहीं स्थानीय बैक अपने पैसे का ग्राफ बढाने के लिए अपने उच्चाधिकारियों को विना अवगत कराएं पैसे का लेनदेन करते थे। यही नही बैंक के कुछ कर्मचारी भी बैंक के ग्रहको का पैसा कम्पनी में जमा कराते थे एवज में कम्पनी से ऊँचा कमीशन लेते थे । फिलहाल मामले में गहनता से छानबीन की जाएगी तो कई और बड़ी मछलियां जाल में फंस सकती है।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.