The news is by your side.

बेटी का प्रेमी ही निकला हत्यारा

डफरिन चतुर्थ श्रेणी कर्मी की हत्या का पुलिस ने किया खुलासा

आलाकत्ल सहित मृतका का मोबाइल व हत्या में प्रयुक्त कार बरामद

अयोध्या। डफरिन जिला महिला चिकित्सालय के चुतुर्थ श्रेणी कर्मी शिवशंकर यादव की हत्या का पुलिस ने खुलासा करते हुए मृतक की बड़ी पुत्री के प्रेमी अब्दुल मोईन को गिरफ्तार कर जेल रवाना कर दिया। हत्याकाण्ड का खुलासा करते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जोगेन्द्र कुमार ने बताया कि डफरिन चतुर्थ श्रेणी कर्मी 55 वर्षीय शिव शंकर यादव की हत्या 21 जनवरी को कर दी गयी थी तथा शव को सांई कुटिया के पास झाड़ी में फेंक दिया गया था। 22 जनवरी को सुबह लोगों ने शव को देखा तो पुलिस को सूचना दिया। शव की शिनाख्त शिवशंकर यादव पुत्र पंचम यादव निवासी जलालपुर भग्गू थाना कोतवाली बीकापुर व हाल मुकाम जिला महिला अस्पताल के पीछे कर्मचारी आवास के रूप में हुई। मृतक जिला महिला चिकित्सालय में चपरासी था। उन्होंने बताया कि हत्याकाण्ड का अनावरण करना पुलिस के लिए चुनौती था क्योंकि मृतक की स्थानीय स्तर पर कोई दुश्मनी किसी से नहीं थी। मृतक के मोबाइल नम्बर से प्राप्त सीडीआर व मृतक की पुत्री के मोबाइल नम्बर से प्राप्त सीडीआर से ज्ञात हुआ कि अभियुक्त अब्दुल मोईन पुत्र यार मोहम्मद निवासी हैबतपुर थाना कोतवाली अयोध्या का करीब एक वर्ष से प्रेम सम्बंध मृतक की बड़ी पुत्री से चल रहा था। प्रेम प्रसंग की जानकारी होने पर मृतक ने अभियुक्त को डाटा डपटा था और कहा था कि अगर हमारे घर पर आओगे तो ठीक नहीं होगा। चूंकि मृतक शराबी प्रवृत्ति का था जिसका लाभ अभियुक्त ने उठाते हुए उससे व्यवहार बनाया और रास्ते से हटाने की योजना बना डाली। योजना के तहत अब्दुल मोईन ने शिवशंकर यादव को फोन से बुलाकर रिकाबगंज में स्विफ्ट डिजायर कार यूपी 78 बीवाई 9909 में बैठाकर शराब पीने के बहाने नाका ले गया जहां अंग्रेजी शराब खरीदकर वह लोग मसौधा पहुंचे मसौधा में गाड़ी रोंककर मृतक को इतनी शराब पिलाई जिससे वह लुढ़क गया। इसी दौरान अभियुक्त ने क्लच वायर तार से शिवशंकर का गला कसकर मौत के घाट उतार दिया। हत्या के बाद इधर उधर घूमते घुमाते शव को ले जाकर सांई दाता कुटिया के सामने सूनसान स्थान पर कूड़े के ढ़ेर पर फेंक दिया। इसके बाद मृतक का मोबाइल फोन ईंट से कूंचकर दरगाह बगिया प्राइमरी स्कूल के पीछे झाडी में आला कत्ल क्लच वायर के साथ फेंक दिया गया।
उन्होंने बताया कि अभियुक्त से कड़ी पूंछतांछ करने के बाद उसकी निशानदेही पर कत्ल में इस्तेमाल क्लच वायर, कूंची हुई जीओ मोबाइल फोन व हत्या में प्रयुक्त कार बरामद कर लिया गया। इस सम्बन्ध में अभियुक्त के विरूद्ध मु.अ.सं. 39/19 आईपीसी की धारा 302 व 201 के तहत कोतवाली अयोध्या में मुकदमा दर्ज किया गया। हत्या का अनावरण करने वाले पुलिस दल में प्रभारी निरीक्षक कोतवाली अयोध्या जगदीश उपाध्याय, एसएसआई सर्वेन्द्र अस्थाना, चौकी प्रभारी रानोपाली निर्मल सिंह, आरक्षी चालक शेषनाथ यादव, आरक्षी हरेश कुमार शर्मा, आरक्षी प्रदीप कुमार व आरक्षी पंकज यादव शामिल थे। इन्हें पुरस्कार देने की घोषणा की गयी।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.