प्रदेश में थिरकेंगे ‘डांसिंग  डियर’

0
  • हिरण की लुप्तप्राय प्रजाति के सरंक्षण के लिए जंतु उद्यान मंत्री से मिले जंतु विज्ञानी

  • जंतु विज्ञानी डॉ. जितेंद्र कुमार शुक्ला ने किया है संघाई हिरण पर शोध

  • डांसिंग डियर के नाम से विख्यात है संघाई हिरण

लखनऊ । देश में लुप्तप्राय हिरण प्रजाति संघाई पर शोध करने वाले जंतु विज्ञानी डॉ. जितेंद्र कुमार शुक्ला एवं प्रोफेसर वी.पी. सिंह ने उत्तर प्रदेश में इनके प्रजनन और सरंक्षण की आवश्यकता जताई है। इस सम्बन्ध में उन्होंने प्रदेश के जंतु उद्यान मंत्री दारा सिंह चौहान को अपने शोध का ब्यौरा देकर उन्हें संदर्भित शोध की प्रति भेंट की।
         जंतु उद्यान मंत्री श्री चौहान ने जंतु विज्ञानी डॉ. शुक्ला के शोध की सराहना करते हुए कहा कि प्रदेश में संघाई हिरणों के प्रजनन और सरंक्षण के लिए सरकार शीघ्र ही प्रभावी कदम उठाएगी। इस अवसर पर डॉ. शुक्ला ने बताया कि वर्ष 1951 में संघाई हिरण को विलुप्तप्राय घोषित किया गया था। उन्होंने बताया कि संघाई हिरण को थामिन डियर के नाम से भी जाना जाता जाता है। इसके सींगों कि विशेष बनावट होती है। इस कारण इसे ब्रोइंटेलर डियर के नाम से भी पुकारा जाता है। यह हिरण तमाम अवसरों पर अपने आगे के दोनों पैरों को हवा में उठा लेता है। ऐसा लगता है कि मानों यह नाच रहा हो। इस वजह से इसे डांसिंग डियर या नाचता हुआ हिरण भी कहते है।
        जंतु विज्ञानी डॉ. शुक्ला ने बताया कि यह मणिपुर का राज्य पशु है।  इसका पर्यावास मुख्य रूप से वहां के जंगलों और झीलों में है। कानपुर प्राणि उद्यान में इस प्रजाति के 11 नर और 3 मादा हैं।  यहाँ दो मादा संघाई हिरणों को मंगाया जाना प्रस्तावित है।  अपने शोध ‘ स्टेटस इकोलॉजी एंड एक्स सी टू कंजर्वेशन ऑफ़ ब्रो एंटलर्ड डियर’ कि चर्चा करते हुए डॉ. शुक्ला ने बताया कि उन्होंने संघाई डियर पर वर्ष 2008 से प्रोफ़ेसर वी.पी. सिंह के निर्देशन में शोध प्रारम्भ किया था।  शोध के दौरान उन्होंने पाया कि दुनिया में इस हिरण के अस्तित्त्व पर बड़ा खतरा मंडरा रहा है। इनकी संख्या लगातार तेजी से घट रही है। वर्ष 1950  में इनके पर्यावास पूर्णरूपेण विलुप्त हो गए थे। किन्तु वर्ष 1975 के आते-आते संघाई हिरण अपने पर्यावास में पुनः देखे गए। उस समय इनकी संख्या मात्र 14  थी। संरक्षण  के प्रयासों के फ़लस्वरूप इनकी संख्या मौजूदा समय में 260 है।
           डॉ. शुक्ला ने बताया कि हिरण कि यह प्रजाति अत्यंत आकर्षक है। मणिपुर में इसके लिए ‘संघाई मेले’ और ‘संघाई दिवस’ का आयोजन  किया जाता है। भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी ‘संघाई मेले’ में शिरकत कर चुके हैं। डॉ. शुक्ला ने बताया कि जंतु उद्यान मंत्री श्री चौहान ने प्रदेश में संघाई हिरणों के समुचित सरंक्षण और विकास के लिए आश्वस्त किया है। इसके लिए शीघ्र ही विशेषज्ञों के साथ परामर्श कर प्रजनन और संरक्षण के प्रयासों को गति प्रदान की जाएगी। जंतु उद्यान मंत्री से भेंट कर संघाई डियर पर चर्चा करने वाले जंतु विज्ञानियों में डॉ. शुक्ला के अतिरिक्त प्रोफ़ेसर वी.पी.सिंह, जंतुप्रेमी रणविजय सिंह  आदि के नाम उल्लेखनीय हैं।
-पूजा शुक्ला
 ए.जे.एस.अकादमी 
इसे भी पढ़े  गणेश वंदना से हुआ अयोध्या की रामलीला का भव्य आगाज

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

%d bloggers like this: