in ,

शौर्य दिवस : गुजरात के कच्छ में 9 अप्रैल 1965 को सीआरपीएफ ने पाकिस्तानी सेना के छुड़ाए थे छक्के

63 वीं वाहिनी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल में शौर्य दिवस का आयोजन कर रणबांकुरों को किया याद

अयोध्या। आज के ही दिन 09 अप्रैल 1965 को अद्भुत शौर्य व साहस का परिचय देते हुए पाकिस्तान की 3500 जवानों की पूरी इन्फेंट्री ब्रिगेड के द्वारा गुजरात के रण आफ कच्छ की सरदार पोस्ट पर हमले को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की छोटी सी टुकड़ी ने नाकाम कर दिया था। अदम्य साहस  के आगे पाक की  सेना के इरादे विफल रहे।
पाकिस्तान सेना अपने दो ऑफिसर  तथा 34 सैनिकों के शव पीछे छोड़ भाग खड़ी हुई थी। पाकिस्तान सेना के इन नापाक इरादों को विफल करने में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की द्वितीय वाहिनी के 07जवान वीरगति को प्राप्त हुए । परंतु उन शहीद जवानों ने अपनी शहादत से पहले शौर्य की जो गाथा लिख दी वह केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के त्याग व बलिदान से भरे इतिहास में चार चांद लगाती है। उन जवानों की शहादत आज भी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के लिए प्रेरणा का स्रोत है।

संयुक्त राष्ट्र संघ भी समय-समय पर मांगता है भारत से केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल

63 वी वाहिनी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल,  चांदपुर हरबंस, अयोध्या में आयोजित शौर्य दिवस पर कमांडेंट छोटेलाल, कमांडेंट सरकार राजा रमन व अन्य अफसरों की मौजूदगी में हुए समारोह पर सर्वप्रथम वाहिनी क्वार्टर गार्ड पर सलामी ली गई। अपने संबोधन में कमांडेंट छोटेलाल ने कहा कि आज का दिन केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के लिए गर्व का है।
विश्व के सबसे बड़े अर्धसैनिक बलों में से यह एक है । देश के किसी भी हिस्से में कानून व्यवस्था को बनाए रखने की हो या शांत व्यवस्था बहाल करने की या फिर विश्व के सबसे बड़े इस लोकतांत्रिक देश भारत में शांतिपूर्वक चुनाव कराने की हो भारत सरकार द्वारा सर्वप्रथम केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की तैनाती की जाती है। कमांडेंट ने कहा कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की कर्तव्य परायणता व अनुशासन का अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि संयुक्त राष्ट्र संघ के द्वारा समय-समय पर केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की मांग भारत सरकार से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तैनाती के लिए की जाती है।

 63 वाहिनी के अब तक 2700 से ज्यादा शहीद वीरता पदक से सम्मानित

  शौर्य  दिवस के अवसर पर वाणी कमांडेंट द्वारा 63 वाहिनी के 21 शहीदों के नाम मंच से पढ़कर सुनाएं तथा उनको नमन किया। कहा कि यह हमारे लिए गर्व का विषय है कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल को भारत सरकार द्वारा अपनी शौर्य पूर्वक कर्तव्य प्रन्यता तथा कर्तव्य पथ पर शहादत के लिए अब तक 2700 से ज्यादा वीरता पदको से सम्मानित किया जा चुका है।
देश में शांति तथा सुरक्षा बनाए रखना तथा देश की अखंडता को अक्षुण्ण रखने को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल पूर्ण समर्पित व प्रतिबद्ध है। आवश्यकता पड़ने पर हम सभी को अपना सर्वस्व बलिदान देने को तत्पर रहना चाहिए। इस अवसर पर  वाहिनी के अति उत्कृष्ट सेवा पदक / उत्कृष्ट सेवा पदक तथा महानिदेशक प्रशस्ति पत्र प्राप्त करने वाले कार्मिकों को उनके पदको / प्रशस्तिपत्र  से अलंकृत किया गया। इस अवसर पर 63 वाहिनी मुख्यालय में सैनिक सम्मेलन खेल प्रतियोगिता तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया

What do you think?

Written by Next Khabar Team

कोयले की लोडिंग को ग्रामीणों ने रोका, किया प्रदर्शन

चैत्र रामनवमी मेला को लेकर डीएम-एसएसपी ने की बैठक