काला अध्याय था आपातकाल: संतोष सिंह

    भाजपा ने 31 लोकतंत्र रक्षक सेनानियों को समारोह पूर्वक किया सम्मानित

    Advertisement

    फैजाबाद। भाजपा के द्वारा पूरे देश में आयोजित लोकतंत्र रक्षक सेनानी सम्मान के क्रम में जिले में समारोह का आयोजन किया गया। भाजपा के प्रदेश मंत्री संतोष सिंह, महापौर ऋषिकेश उपाध्याय, जिलाध्यक्ष अवधेश पाण्डेय बादल ने संयुक्त रुप से 31 सेनानियों को सम्मानित किया। सम्मानित होने वाले सेनानियों में प्रमुख रुप से लोकतंत्र रक्षक सेनानी परिषद के जिलाध्यक्ष माता प्रसाद तिवारी, सांसद लल्लू सिंह, पूर्व मंत्री अनिल तिवारी, पूर्व जिलाध्यक्ष कमलाशंकर पाण्डेय, आदित्यनारायन मिश्रा, उदयराज, शिवनाथ, अब्दुल हकीम, नूर मोहम्मद, ओम प्रकाश सोनकर, रविन्द्र शुक्ला, वरिष्ठ पत्रकार रमेश शर्मा, ओम प्रकाश सोनकर, हरिश्चंद्र सिंह, जयराम, अयोध्या नाथ, रामचन्दर, गिरधर गोपाल, शेषमणि मिश्रा, सत्य प्रकाश राजपाल सहित 31 लोगो को अंगवस्त्र और माल्यापर्ण कर सम्मानित किया गया।
    भाजपा के प्रदेश मंत्री व कार्यक्रम के मुख्य अतिथि संतोष सिंह ने कहा कि लोकतंत्र के लिए काला अध्याय आपातकाल था। लोकतंत्र सेनानी रक्षको ने इन्द्रिरा गांधी की सरकार के आगे सिर नहीं झुकाया और जेल की यातनाएं सही। इन्हीं के संघर्षो के परिणाम स्वरुप पुनः लोकतंत्र की बहाली सम्भव हो पायी। सांसद लल्लू सिंह ने कहा कि आपातकाल की यादे संघर्ष की याद ताजा करती है। इंदिरागांधी की सरकार के द्वारा आपातकाल लगाते ही सड़को पर सिर्फ सायरन और बूट की आवाजे सुनायी देने लगी थी। जिले से लेकर राष्ट्रीय स्तर के सभी विपक्षी नेताओं को जेल के भीतर बंद कर दिया गया था। महापौर ऋषिकेश उपाध्याय ने कहा कि सहिष्णुता की बात करने वाली तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने मीडिया तक पर बैन लगा दिया था। कांग्रेस के कारनामों का ही परिणाम है कि देश कांग्रेस मुक्त की ओर बढ़ रहा है। समापन अवसर पर जिलाध्यक्ष अवधेश पाण्डेय बादल ने लोकतंत्र रक्षक सेनानी की सम्मान राशि पांच हजार प्रदेश सरकार के द्वारा बढ़ाये जाने पर खुशी का इजहार किया व सभी को बधाई दी। इस अवसर पर पूर्व जिलाध्यक्ष विश्वनाथ सिंह, बांके बिहारी मणि त्रिपाठी, सुधीर चैरसिया, डा बाके बिहारी मणि त्रिपाठी, संजीव सिंह, मनोज श्रीवास्तव, राधेश्याम त्यागी, सुधीर चैरसिया, रमापति पाण्डेय, मनमोहन जायसवाल, दिवाकर सिंह, संजय पराग, रामकुमार सिंह राजू, बिन्दू सिंह इत्यादि प्रमुख थे।