भाजपा का संकल्प पत्र झूठ व जुमलों का विस्तार : सभाजीत सिंह

ब्यूरो। आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता सभाजीत सिंह ने  भाजपा द्वारा जारी किए गए संकल्प पत्र पर कहा कि “यह घोषणा पत्र लोगों को धोखा देने के लिए झूठ और जुमलों का विस्तार मात्र है। सिंह ने कहा, “भाजपा जिस संकल्प पत्र को संकल्प पत्र कह रही है, वह वास्तव में देश की शांति और समृद्धि को नष्ट करने के लिए भाजपा का संकल्प है। उन्होंने बीजेपी को जुमला पार्टी करार दिया और कहा कि चुनाव से ठीक तीन दिन पहले अपना घोषणापत्र जारी किया है ताकि अपनी विफलताओं और झूठे वादों को आम आदमी की जांच से छिपा सके। ”
2014 में, भाजपा ने महिलाओं के लिए आरक्षण का वादा किया, उन्होंने हमारे युवाओं के लिए प्रति वर्ष 2 करोड़ नौकरियों का वादा किया, उन्होंने काले धन को वापस लाने का वादा किया अथवा गंगा नदी को साफ करने का वादा किया। लेकिन बीजेपी सभी मोर्चों पर प्रदर्शन करने में पूरी तरह से विफल रही है। भाजपा ने किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया और फसल की लागत का डेढ़ गुना मूल्य देने का वादा भी जुमला निकला ।
आप प्रवक्ता ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि राष्ट्रीय पार्टी भाजपा एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी बनकर सीमित हो गई है जो हजारों करोड़ रुपये विज्ञापनों पर खर्च करती है, यह एक ऐसी पार्टी है जो जाति और धर्म के नाम पर लोगों को विभाजित करने में विश्वास रखती है। उन्होंने कहा कि तीन दशक से भाजपा कर रही थी न्यायालय नहीं तय करेगा कि राम का जन्म कहां हुआ था और अब अपने संकल्प पत्र में समविधान के दायरे में रहकर मंदिर निर्माण की बात कह रही है तो फिर तीन दशक तक राम मंदिर पर सियासत करने व नफ़रत फैलाने का काम क्यों किया।  श्री राम लला के सामने BJP नेताओं को  माफ़ी माँगनी चायिए ।
आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता सभाजीत सिह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी जब भगवान राम की नहीं हुई तो देश की जनता की क्या होगी तीन दशक मंदिर मुद्दे पर वोट मांगने व देश में नफरत फैलाने वाली बीजेपी जब राम कि नहीं हुई तो जनता की क्या होगी । बीजेपी के लिए राम मंदिर का मुद्दा सिर्फ सत्ता तक पहुंचने का साधन है और जब जब चुनाव आता है तब बीजेपी को राम मंदिर की याद आती है।श्री सिंह ने देश की जनता से आग्रह किया है वे ” भारतीय झूठा पार्टी से सावधान रहें। जो लोग राम के नही हुए वो आपके क्या होंगे।

Facebook Comments
इसे भी पढ़े  भ्रष्ट राजनीतिज्ञों को त्यागे फैजाबाद के लोग: एस.एन. सिंह