एक और सेवा प्रदाता कंपनी ने दी नोटिस, हड़ताल करेंगे कर्मी

अयोध्या। प्रदेश सरकार की नीति के मुताबिक आउटसोर्सिंग के सहारे चल रही स्वास्थ्य सुविधाएं संभलने का नाम नहीं ले रही हैं। एक और आउटसोर्सिंग सेवा प्रदाता कंपनी ने अपने कर्मियों को संविदा समाप्त की नोटिस भेजी है। आंदोलित कर्मियों ने एक बार फिर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को ज्ञापन देकर प्रशासनिक हस्तक्षेप की मांग रखी है। ऐसा न होने पर 24 से सांकेतिक और 27 से अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी दी है।
स्वास्थ्य महकमे में ज्यादातर काम आउटसोर्सिंग कंपनियों के सहारे उपलब्ध कराए गए कर्मचारियों से कराए जा रहे हैं। कुछ दिन पूर्व ही एक सेवा प्रदाता कंपनी का अनुबंध सरकार ने समाप्त कर दिया था। सेवा प्रदाता कंपनी के माध्यम से रोजगार पाए कर्मचारियों की 8 महीने से ज्यादा की सैलरी फंसी हुई है। अब स्वास्थ्य महकमे के क्षेत्र में काम करने वाली एक और सेवा प्रदाता कंपनी ने अपने कर्मचारियों को नोटिस थमा दी है। कहा है कि 30 सितंबर को उनकी संविदा समाप्त हो रही है और वह अब जिम्मेदारी से मुक्त माने जाएंगे।
आंदोलित कर्मचारियों ने शुक्रवार को जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक एके राय से मुलाकात की ओर एक ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में कहा गया है कि वह लोग यूपीएचएसएसपी टी एंड एम परियोजना के तहत स्वास्थ्य विभाग में कार्य कर रहे हैं। सेवा प्रदाता कंपनी की ओर से सभी को 28 अगस्त को मेल भेजकर कहा गया है कि 30 सितंबर को सभी की संविदा खत्म हो जाएगी। कर्मचारियों का कहना है कि जिला अस्पताल में रजिस्ट्रेशन कलक, स्टाफ नर्स,मेडिकल रिकॉर्ड असिस्टेंट, सीएसएसडी टेक्निशियन और स्टोरकीपर पद पर बीते 3 साल से इसी सेवा प्रदाता कंपनी से संबंध होकर वह लोग काम कर रहे हैं। सेवा समाप्त होने के डर से आर्थिक और मानसिक परेशानी शुरू हो गई है। ऐसा हुआ तो लोगों के सामने जीवन यापन की समस्या खड़ी हो जाएगी और भविष्य अंधकारमय हो जाएगा। कर्मचारियों ने सीएमएस से मांग रखी कि हस्तक्षेप कर उन लोगों का सेवा विस्तार कराया जाए। पूर्व में भी वह अपनी शिकायत अस्पताल प्रशासन के समक्ष रह चुके हैं लेकिन कोई सार्थक कार्यवाही नहीं हुई। कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि कार्यवाही न होने पर 24 सितंबर से 3 दिनों तक सुबह 8ः00 से 11ः00 तक सांकेतिक हड़ताल की जाएगी और समस्या का निदान न होने पर 27 सितंबर से लखनऊ में अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी जाएगी। ज्ञापन की प्रति जिला अधिकारी और मुख्य चिकित्सा अधिकारी को भी भेजी गई है। ज्ञापन पर विकास कुमार, प्रीति राय,अंकुर,अर्चना,संगीता, नगमा बानो, हिना खान, मंजू सिंह, खुशबू, सुनीता, विकास पटेल, सीपी सिंह, ममता, राधा, सोनी, सीता आदि के हस्ताक्षर हैं।

Facebook Comments
इसे भी पढ़े  प्रधानमंत्री स्वच्छ भारत अभियान को ठेंगा दिखा रहा धर्मदासपुर