The news is by your side.

अनूप जलोटा ने अध्यात्म शक्तिपीठ पर टेका माथा

-देवी-देवताओं का दर्शन कर दी सांस्कृतिक प्रस्तुति

सोहावल। आध्यात्मिक विभूति रामकृष्ण पांडेय आमिल की कर्मस्थली श्रीअध्यात्म शक्तिपीठ पर शुक्रवार को एक और इतिहास रचा गया। भजन सम्राट अनूप जलोटा ने मुबारकगंज स्थित शक्तिपीठ पहुंचकर परिसर में स्थापित देवी-देवताओं का दर्शन किया व सांस्कृतिक प्रस्तुति दी।पद्मश्री जलोटा ने मंदिर के गर्भगृह में भगवती तारा, मां पीतांबरा, महाकाली, महालक्ष्मी, महासरस्वती, गुरुधाम में दतिया पीठाधीश्वर स्वामीजी महाराज, श्रीयंत्र तथा पीठ के संस्थापक गुरु आमिल के विग्रह के समक्ष माथा टेका। उपस्थित दर्शकों को उन्होंने भक्ति रस से सराबोर कर दिया।

Advertisements

श्री जलोटा ने श्रद्धालुओं को ’ऐसी लागी लगन मीरा हो गई मगन’, ’कौन कहता है भगवान आते नहीं’,’ सुनाया जिसे सुनकर श्रोता आनंद से झूमते रहे। गायिका अर्चना खंडेलवाल ने गायन में उनका साथ दिया। इससे पूर्व पीठ परिसर में पहुंचने पर न्यास अध्यक्ष, देवमित्र पांडेय, आचार्य गिरिजा प्रसाद मिश्र, मुख्य अर्चक सुधीर कुमार पांडेय, डा. सुधाकर अदीब, रोहित पांडेय मुन्ना, राहुल पांडेय, अनुराग पांडेय ने स्म़ृति-चिन्ह देकर व बुके भेंटकर उनका, गायिका अर्चना खंडेलवाल तथा भरत ओझा आदि का स्वागत किया। इससे पूर्व परिसर में ’राम नाम अति मीठा’ नाम से सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इसमें भजन सम्राट अनूप जलोटा के शिष्य व सहयोगी संजय शैंगलू ने गणेश वंदना समेत भगवान राम पर आधारित भजन प्रस्तुत किये। जिसे सुनकर श्रद्धालु भावविभोर हो गये। तबले पर संगत किशोर मिश्र ने की तो गिटार पर शरद शैंगलू रहे। संचालन अयाज खां ने किया।

वासंतिक नवरात्र के समापन पर शुक्रवार को श्रीअध्यात्म शक्तिपीठ परिसर में न्यास अध्यक्ष देवमित्र पांडेय, आचार्य गिरिजा प्रसाद मिश्र तथा मुख्य अर्चक सुधीर पांडेय के मार्गदर्शन में सामूहिक हवन-पूजन किया गया। श्रद्धालुओं ने भगवती तारा, मां पीतांबरा, स्वामीजी महाराज तथा गुरुदेव आमिल के विग्रहों की पूजा अर्चना की व भंडारे में प्रसाद ग्रहण किया। इलाहाबाद के संजय श्रीवास्तव, व आलोक माथुर, लखनऊ के संजय मालवीय, शोभा अदीब, सुरेंद्र प्रताप सिंह, प्रेम प्रकाश पांडेय, रेमी पांडेय, लवली, प्रमोदकांत मिश्र, अमित प्रकाश, सुनीता सिंह, श्रवण, नागेंद्र, दुलुदल ने प्रसाद ग्रहण किया।

Advertisements

Comments are closed.