in ,

प्रशासन ने समाप्त कराया सपा नेता का अनशन

विशाल यादव हत्याकाण्ड को लेकर अनशन पर बैठे थे सपा नेता चन्दन सिंह यादव

अयोध्या। आमरण अनशनकारी युवा सपा नेता चन्दन सिंह यादव की मॉंगे वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जुगेन्द्र कुमार ने मानी। चन्दन सिंह यादव का क्षेत्राधिकारी सदर विक्रमवीर सिंह ने जूस पिलवाकर अनशन खत्म करवाया। युवा सपा नेता चन्दन सिंह यादव ने कहा कि बेगुनाह लोगों व मासूम बच्चों की लगातार हत्यायें हो रही हैं जिससे प्रदेश की कानून व्यवस्था दिनों-दिन खराब होती जा रही है। युवा सपा नेता बीते 07 मार्च से लगातार 26 घण्टों से बिना अन्न, जल ग्रहण किये आमरण अनशन पर बैठे थे। थाना रौनाही के बेनीपुर गॉंव में बीते दिनों 16 वर्षीय मासूम विशाल यादव की हत्या कर दी गयी थी जिसकी एफआईआर रौनाही थाने में 58/19 के अन्तर्गत धारा 201 व 302 के तहत दर्ज की गयी थी परन्तु पीड़ित परिवार की ओर से दी गयी तहरीर को एफआईआर में शामिल नहीं किया गया था। पुलिस के द्वारा पीड़ित परिवार का ही उत्पीड़न किया जा रहा था जिसके कारण परिवार गॉंव के बाहर रहने को मजबूर हो गया था। सपा नेता चन्दन सिंह यादव और समाजसेवी प्रदीप यादव ने पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिये लगातार 26 घण्टे तहसील स्थित अमर शहीद हेमू कालाणी पार्क में अनशन का सहारा लिया जिसमें दोनों युवा नेताओं के साथ अरविन्द यादव देवराज, सुभाष यादव, अतुल वर्मा, रिक्की यादव, शंकर प्रताप यादव, विवेक यादव, दिनेश यादव किन्नू, आकाश यादव, रक्षाराम यादव, इन्द्रसेन पहलवान, मंजीत यादव, शमशेर यादव, अरविन्द यादव, आदित्य दूबे, धु्रव राना यादव आदि अनशन पर बैठे थे और अपनी मॉंग पर अड़े रहे। जिस पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने सपा नेताओं को वार्ता के लिये बुलाया। सपा प्रवक्ता ओम प्रकाश ओमी ने बताया कि वार्ता में सपा जिलाध्यक्ष गंगासिंह यादव, पूर्व राज्यमंत्री तेजनारायण पाण्डेय पवन, महानगर अध्यक्ष मोहम्मद कमर राईन, महानगर के महासचिव श्यामकृष्ण श्रीवास्तव, सयुस के प्रदेश सचिव जयसिंह यादव, रक्षाराम यादव, शमशेर यादव आदि नेता शामिल रहे। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से मॉंग की गयी कि पीड़ित परिवार की तहरीर भी मुकदमें में शामिल हो। पीड़ित परिवार को न सताया जाय तथा निष्पक्ष जॉंच करायी जाय को मानते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने कहा कि सच्चाई का पता लगाने के लिये जेल में बन्द दो अभियुक्तों तथा पीड़ित परिवार की तहरीर में शामिल तीन अन्य लोगों सहित पॉंच लोगों का नारको टेस्ट कराया जायेगा। प्रवक्ता ने बताया कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने प्रतिनिधि मण्डल को आश्वासन देते हुए कहा कि पीड़ित परिवार की तहरीर दर्ज मुकदमें में शामिल कर ली जायेगी। पीड़ित परिवार के पास पुलिस नहीं जायेगी। शासन से मुआवजे की मॉंग की जायेगी और नारको टेस्ट के आधार पर ही दोषी पहचाने जायेंगे। प्रवक्ता ने बताया कि लगातार चले 26 घण्टे अनशन में सपा जिलाध्यक्ष गंगासिंह यादव, पूर्व राज्यमंत्री तेजनारायण पाण्डेय पवन, पूर्व मंत्री आनन्दसेन यादव, पूर्व विधायक जयशंकर पाण्डेय व समाजवादी छात्रसभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिमेष प्रताप सिंह राहुल व पार्टी के कई नेता व कार्यकर्ता शामिल हुए।

What do you think?

Written by Next Khabar Team

लोहिया के आर्थिक व सामाजिक विचारों को अपनाने की जरूरत : प्रो. मनोज दीक्षित

गुणवत्तापरक विश्व स्तरीय शोध कार्यों को बढ़ावा देने की पहल