जे.ई./ए.ई.एस. पखवाड़ा का प्रचार प्रसार नहीं किये जाने पर डीएम ने जताया रोष

 

2 अप्रैल से 16 अप्रैल तक मनाया जाएगा पखवाड़ा

फैजाबाद। जिलाधिकारी डा0 अनिल कुमार की अध्यक्षता में राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियन्त्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत जे0ई0/ए0ई0एस0 पर प्रभावी नियन्त्रण हेतु अन्र्तविभागीय समन्वय समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष मंे आयोजित की गई। बैठक के दौरान उन्होने कहा कि अगामी माह 02 अपै्रल से 16 अपै्रल 2018 तक जे0ई0/ए0ई0एस0 पखवाड़ा मनाया जाना है और अभी तक इलेक्ट्राॅनिक तथा प्रिन्ट मीडिया के माध्यम से इसका प्रचार प्रसार नही किया गया, इस बात पर रोष व्यक्त करते हुये उन्होनें मुख्य चिकित्साधिकारी को कड़े निर्देश देते हुये कहा कि उक्त रोग के प्रभावी नियन्त्रण हेतु चलाये जाने वाले अभियान का कार्ययोजना बनाकर दो दिन के भीतर मुख्य विकास अधिकारी को प्रेषित करें।

उन्होनें मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश देते हुये कहा कि इस अभियान कार्यक्रम को शुरू होने से पहले बैनरों, पोस्टरो, अखबारों तथा इलेक्ट्राॅनिक चैलनों से इसका प्रचार-प्रसार करा दिया जाये, जिससे लोग पहले से इस कार्यक्रम से अवगत हो जाये और इस अभियान का सही लाभ पा सकें। जे0ई0 रोग के रोकथाम और उपचार हेतु लोगो को बताया जाये कि किस ढंग से अपने को सुरक्षित रखें जिससे इस रोग से बचा जा सके तथा सभी स्कूलो में इसके बचाव के दिशा-निर्देश दिवारो पर लिखवा दिये जायें, जिससे बच्चे पढ़े और उस पर अमल करें।

जिलाधिकारी ने इन्सेफ्लाइटिस/एक्यूट इन्सेफ्लाइटिस सिंड्रोम पर प्रभावी नियन्त्रण एवं कार्यवाही हेतु विभिन्न विभागो को उत्तर दायित्व निर्धारण करते हुये कहा कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ए0ई0एस0/जे0ई0 रोकथाम एवं नियन्त्रण गतिविधियों हेतु जनपद, ब्लाक तथा पंचायत/ग्राम स्तरो पर विभिन्न विभागो के बीच समन्वय हेतु नोडल विभाग का कार्य करेगा। आशा, ए0एन0एम0 तथा आगंनबाड़ी कार्यकत्रियों के सहयोग से समय पर उपचार एवं सन्दर्भन हेतु समुदाय स्तर पर बुखार के मरीजो की ट्रैकिंग। ए0ई0ए0 केसेज की निगरानी (सर्विलेंस) और रोगियो के उपचार की व्यवस्था प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा जनपद स्तरीय चिकित्सालयों में स्थापित मस्तिष्क रोग उपचार केन्द्र के माध्यम से किये जायेगें। रोगियों के निःशुल्क परिवहन हेतु रोगी वाहन सेवी की व्यवस्था जे0ई0 टीकाकरण, संवेदनशील ग्रामो में सभी बच्चो का जे0ई0 के टीके से आच्छादन सुनिश्चित करना तथा टीकाकरण आच्छादन के सापेक्ष जे0ई0 रोगियों की संख्या के आंकड़ो का विश्लेषण तथा टीकाकरण सत्रों का निरीक्षण एवं पर्यवेक्षण। यह सुनिश्चित करना कि नगरीय मलिन बस्तियों में संवेदनशील समूहो के बच्चे भी पूर्णतः आच्छादित है तथा वाहक नियन्त्रण गतिविधियों से ग्रामीण क्षेत्र में वाहक के घनत्व का आकलन स्रोतो में कमी, लार्वारोधी गतिविधियों तथा आवश्यकतानुसार फागिंग।

इसे भी पढ़े  युवकों ने किया प्रयागराज हाईवे को जाम

उन्होने शिक्षा विभाग को निर्देश देते हुये कहा कि प्रत्येक विद्यालय में एक नोडल शिक्षक को नामित किया जाये जो प्रतिदिन प्रार्थना सभा के समय बीमारी से बचाव के बारे में बतायेगा। ए0ई0एस0/जे0ई0 तथा अन्य संक्रामक रोगो से बचाव, वातावरणीय तथा व्यक्तिगत स्वच्छत के उपायों में शौच न करने तथा हाथ धोने इत्यादि के विषय में छात्र, छात्राओं को जागरूक करना, संक्रामक रोगो पर नियन्त्रण तथा इस हेतु स्वच्छता को अपनाये जाने के सन्देश के साथ रैलियांे का आयोजन, स्वच्छता जागरूकता के लिये सामाजिक गोष्ठी, वाद विवाद प्रतियोगिता, कला प्रतियोगिता एवं रैली आदि का आयोजन किया जायेगा, पशुपालन विभाग सूकर बाडों को आबादी से दूर व जागरूकता, पंचायती राज, नाली साफ-सफाई प्रभात फेरी निकालेंगे, कृषि विभाग खरपतवार सफाई, चूहा नियन्त्रण कार्य करेगें, बाल विकास विभाग जे0ई0/ए0ई0एस0 प्रभावित बच्चों सहित सभी को पोषक आहार वितरण, जल निगम इण्डिया मार्क-2 हैण्डपम्प की मरम्मत व फाउन्डेशन निर्माण करायेगें। प्रत्येक विभाग इस पखवाड़े के दौरान दैनिक आधार पर गतिविधियों का संचालन कर आने विभाग का महत्वपूर्ण योगदान देगें। जिससे जे0ई0/ए0ई0एस0 के प्रभाव को नियन्त्रित किया जा सके। बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी अशोक कुमार, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी वी0बी0डी0, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी आर0सी0एच0 तथा अन्य विभागीय अधिकारीगण उपस्थित थे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More