नाजायज संबंधों में रोड़ा बनने पर की गयी किशोरी की हत्या

बड़ी बहन ने प्रेमी के साथ मिलकर गला घोटकर उतरवाया मौत के घाट


गोसाईगंज। गोसाईगंज थाना क्षेत्र के ग्राम जमुनीपुर जमपुरवा गांव में बड़ी बहन सुषमा प्रेमी विनोद निषाद के साथ मिलकर अपनी छोटी व नाबालिग बहन ममता को मौत के घाट उतरवा दिया। इस घटना से एक बार फिर इंसानियत शर्मसार हुई है।
सीओ सदर वीरेेन्द्र विक्रम ने प्रेम संबंधों में बाधा बनी बच्ची की हत्या करने वाली बड़ी बहन व उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर किशोरी के शव के मामले से पर्दा उठा दिया। उल्लेखनीय है कि गोसाईगंज थाना क्षेत्र के ग्राम जमपुरवा जमुनीपुर निवासी सालिक राम की पुत्री ममता उम्र को 14 वर्ष जो घर पर मौजूद थी। उसकी हत्या कर दी गई। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के कुशल निर्देश में क्षेत्रीय अधिकारी सदर वीरेंद्र विक्रम के नेतृत्व में थाना प्रभारी श्री निवास पांडे हमराही कांस्टेबल धर्मेंद्र सिंह यादव शैलेंद्र यादव अशोक राय उपनिरीक्षक राम प्रकाश सिंह के द्वारा अभियुक्त विनोद निषाद पुत्र जोखूराम निषाद निवासी जमुनीपुर जमपुरा थाना गोसाईगंज अयोध्या की गिरफ्तारी टडौली से की गई। पूछताछ के क्रम में अभियुक्त के द्वारा यह जानकारी प्राप्त हुई कि अभियुक्त का मृतका का ममता की बड़ी बहन सुषमा से नाजायज संबंध था। अभियुक्त विनोद निषाद कोलकाता में ईंट भट्ठे पर कार्य करता था। वहां से करीब 25 दिन से गांव आया था। यह तथ्य भी प्रकाश में आया था कि अभियुक्त मनचला का अयास किस्म का व्यक्ति है। वह कोलकाता में भी छेड़खानी जैसी घटनाओं का अंजाम दिया था। 21/ 22 जून की रात अभियुक्त विनोद मृतका की बहन से नाजायज संबंध स्थापित किया था। जिसको मृतका ममता द्वारा देख लिया गया था। इसी कारण अभियुक्त विनोद तथा मृतिका की बहन सुषमा के द्वारा मृतिका का गला घोटकर तथा मुंह दबाकर हत्या कर शव को घर के पीछे खेत में शीशम के पेड़ के नीचे फेंक दिया गया। उक्त घटना से घटित होने के तुरंत बाद केस का अनावरण करने वाले पुलिस अधिकारी कर्मचारीगण को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा 5000 का पुरस्कार प्रदान करने की घोषणा की गई है वही विनोद निषाद पुत्र जोखू रामनिवास निषाद निवासी जमुनीपुर जमपुरवा थाना गोसाईगंज जनपद अयोध्या सुषमा पत्नी राजेश निवासी रसूलपुर थाना अतरौली जनपद अंबेडकरनगर हालपता निवासी जमुनीपुर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

इसे भी पढ़े  संयम, सजगता की कमी से सुरक्षा प्रणाली में सेंध लगा पाता है एचआईवी : डॉ. उपेन्द्रमणि

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More