The news is by your side.

समाज के उत्थान के प्रति दृढ़ संकल्पित थे विवेकानंद : डॉ. चैतन्य

-अवध विश्वविद्यालय में विश्व बंधुत्व दिवस पर आयोजित हुआ कार्यक्रम

अयोध्या। डॉ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के योगोपचार विभाग में विश्व बंधुत्व दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता विवेक सृष्टि संस्थान, अयोध्या के निदेशक डॉ0 चैतन्य ने विश्व बंधुत्व के संदर्भ में स्वामी विवेकानंद के दृष्टिकोण पर प्रकाश डालते हुए कहा कि समाज के साधारण व्यक्ति हिंदुत्व के विकास विषय पर चिंता किया करते थे परंतु स्वामी विवेकानंद समाज के सभी वर्गों के उत्थान पर दृढ़ संकल्पित थे।

Advertisements

संपूर्ण विश्व मानवता को बंधुत्व के एक सूत्र में बांधने का अनवरत चिंतन व प्रयास करते रहे। चैतन्य ने कहा कि आज मानव समाज ने प्रगति कर ली है सुख-सुविधाओं के अवसरों की कोई कमी नहीं है। इसी कारण लोगों को अध्यात्म की कोई आवश्यकता प्रतीत नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि समर्पण ही शक्ति है। स्वामी विवेकानंद ने अपने गुरु के प्रति जीवन का सर्वस्व समर्पित कर दिया फलस्वरूप सृष्टि का कण-कण उनके लिए प्रेरणा व शक्ति का स्रोत बन गया। विद्यार्थियों से अपील करते हुए डॉ0 चैतन्य ने कहा कि विद्यार्थी जीवन में कर्तव्यों के प्रति भी पूर्व निष्ठा से समर्पण कीजिए तभी आपको विद्याशक्ति का ज्ञान प्राप्त होगा। सुख की लालसा व कामना से परे होकर लक्ष्य के प्रति समर्पित हो जाए तभी जीवन की सार्थकता है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विभाग के निदेशक प्रो0 एस.एस. मिश्र ने स्वामी विवेकानंद द्वारा शिकागो में दिए गए समस्त भाषणों में समाहित प्रेरणाओं की आत्मा भारतीय है किंतु यह संपूर्ण विश्व को बंधुत्व के एक सूत्र में बांधती है इसी कारण विश्व बंधुत्व दिवस भारत ही नहीं अपितु संपूर्ण विश्व में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। विशिष्ट अतिथि डॉ0 विजय कुमार ने कहा कि वर्तमान समय में योग एक प्रभावी चिकित्सा के रूप में प्रसिद्धि प्राप्त कर चुका है। भारत सरकार ने नई शिक्षा नीति के अंतर्गत योग विषय को फिजियोलॉजी में अनिवार्य विषय के रूप में सम्मिलित कर लिया है। ब्लड कैंसर के उपचार हेतु अनुलोम विलोम एवं सूर्य नमस्कार के योगाभ्यास पर प्रभावी अनुसंधान हो चुके हैं।

इसे भी पढ़े  अयोध्या की धार्मिक, ऐतिहासिक सांस्कृतिक विरासतों का हो संरक्षण

कार्यक्रम का संचालन आलोक तिवारी ने किया। धन्यवाद ज्ञापन अनुराग सोनी द्वारा किया गया। अतिथियों का स्वागत गायत्री वर्मा ने किया। इस अवसर पर डॉ शशिकांत यादव राम बुझारत मिश्र, मनोज कुमार दुबे डॉ0 अंजली सिंह, डॉ0 अनिल मिश्रा, डॉ0 अनुराग पांडे, डॉ0 अर्जुन सिंह, डॉ0 कपिल राणा, डॉ0 त्रिलोकी यादव, डॉ0 मुकेश वर्मा, मोहिनी, स्वाति उपाध्याय, संघर्ष सिंह, देवेंद्र वर्मा, दिवाकर पांडेय सहित अन्य उपस्थित रहे।

Advertisements

Comments are closed.