The news is by your side.

संस्कारवान, समर्पित व सुरक्षित हिंदू समाज बनाने के संकल्प के साथ विहिप की बैठक सम्पन्न

–धर्मांतरण रोकने व घर वापसी के कार्य को और दिया जाएगा गति

 

अयोध्या। विश्व हिन्दू परिषद की केंद्रीय प्रन्यासी मंडल व प्रबंध समिति की त्रिदिवसीय बैठक मंगलवार को चिंतन, मंथन और आगामी कार्ययोजनाओं पर प्रस्ताव के साथ सम्पन्न हो गई।अयोध्या धाम के पवित्र स्थल कार सेवक पुरम् में संपन्न हुई बैठक में देश की वर्तमान स्थिति पर चर्चा कर हिंदू समाज के समक्ष खड़ी चुनौतियों से निपटने के लिए षष्ठी पूर्ति वर्ष में संगठन के विस्तार की योजनाएं भी बनाई गईं।

Advertisements

विश्व हिन्दू परिषद के नव-निर्वाचित महामंत्री बजरंग लाल बागड़ा ने प्रेसवार्ता में बताया कि बैठक में देश – विदेश से पधारे प्रतिनिधियों ने अनेक विषयों पर चर्चा के साथ यह संकल्प लिया कि भगवान श्री राम का भव्य मंदिर तो बन गया, अब हम संगठन, समाज और विदेशस्त हिंदुओं में रामत्व के प्रसार के साथ संस्कारित व सबल समाज की पुनर्स्थापना करेंगे। इसके लिए विहिप के इस षष्ठीपूर्ति वर्ष के अंत तक हम देश भर में लगभग एक लाख स्थानों तक अपने कार्य का विस्तार करेंगे। श्री राम की मर्यादाओं की पुनर्स्थापना जन-जन के अंतःकरण में करा कर एक संस्कारवान, समर्पित व सुरक्षित हिंदू समाज बनाएंगे।

विहिप महामंत्री ने कहा कि सेवा कार्यों का विस्तार, गौ रक्षा व गौ संवर्धन के साथ धर्मांतरण को रोकने व घर वापसी के कार्य को और गति देने के बारे में भी बैठक में विस्तार से चर्चा हुई। विदशों में बसे हिंदुओं के साथ संपर्क व समन्वय को और अधिक मज़बूत बना कर उनकी समस्याओं के यथोचित समाधान हेतु भी अनेक देशों से आए प्रतिनिधियों ने अपनी कार्य योजना बताई। नवनिर्वाचित महामंत्री बागड़ा ने बताया कि समान नागरिक संहिता लागू करने पर उत्तराखंड सरकार का अभिनंदन करते हुए प्रन्यासी मंडल ने आशा व्यक्त की शेष राज्य भी एक सशक्त समान नागरिक संहिता लाएंगे जिससे देशवासियों के बीच भेदभाव समाप्त हो कर सभी बच्चों व महिलाओं को समान अधिकार मिल सकें।उन्होंने यह भी कहा कि सामाजिक समरसता की दृष्टि हमने बहुत कार्य किया है किंतु अभी और बहुत कुछ करने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़े  तीन दिवसीय बालिका आत्मरक्षा शिविर का सांसद ने किया समापन

धर्मांतरण रोकने के लिए कुछ राज्यों ने कठोर कानून बनाए हैं किंतु अन्य राज्य भी इस बारे में आगे बढ़ें, इस बात पर भी प्रन्यासी मंडल ने चिंतन किया। ब्।। यानी नागरिकता संशोधन अधिनियम के नियम जारी होते ही हमारे कार्यकर्ता पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से धर्म आधारित उत्पीड़न का शिकार हिंदू जैन, सिख, बौद्ध बंधु भगिनियों की नागरिकता के संदर्भ में भी शीघ्रता के साथ कार्रवाई करें, ऐसा भी निवेदन हुआ।

त्रिवार्षिक चुनाव की प्रक्रिया के अंतर्गत विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में वर्तमान कार्याध्यक्ष व वरिष्ठ अधिवक्ता श्री आलोक कुमार तथा नवीन महामंत्री के रूप में वर्तमान संयुक्त महामंत्री श्री बजरंग लाल बागड़ा को निर्वाचित किए जाने पर भी सदन ने हर्ष व्यक्त किया।

साथ ही विहिप के केंद्रीय संगठन महामंत्री के रूप में वर्तमान महामंत्री मिलिंद परांडे और सह संगठन महामंत्री के रूप में श्री विनायक राव देशपांडे की नियुक्ति को भी सदन ने ओम की ध्वनि के साथ स्वीकृति प्रदान की। यह बैठक हर 6 महीने में आयोजित की जाती है जिसमें विश्व हिन्दू परिषद के संपूर्ण विश्व में रहने वाले प्रन्यासी तथा प्रबंध समिति के सदस्य भाग लेते हैं। इस अयोध्या बैठक में कुल 371 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। प्रेस वार्ता में विहिप के नवनिर्वाचित अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष व वरिष्ठ अधिवक्ता श्री आलोक कुमार तथा संयुक्त महामंत्री डॉ सुरेन्द्र जैन भी उपस्थित थे।

Advertisements

Comments are closed.