The news is by your side.

ट्रस्ट ने मीडिया को राम मंदिर निर्माण कार्यों से कराया अवगत

-एलएण्डटी कम्पनी की देखरेख में किया जा रहा निर्माण

अयोध्या। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव/अन्य सदस्यों द्वारा मीडिया कर्मियों की मांग पर गुरूवार को राम जन्मभूमि परिसर का निर्माण कार्य हेतु लगभग 1 बजे भ्रमण कराया गया। भ्रमण के पूर्व जिलाधिकारी अनुज कुमार झा एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पांडेय द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों तथा ट्रस्ट के सदस्यों एवं अन्य अधिकारियों के साथ श्रीराम जन्मभूमि क्षेत्र का भ्रमण किया गया।

Advertisements

इसके बाद भीषण बरसात के बावजूद लगभग  चार दर्जन से ज्यादा प्रिंट, इलेक्ट्रानिक मीडिया के पत्रकारों ने श्रीराम जन्मभूमि परिसर के नींव/आधार तक के निर्माण का अवलोकन किया। उल्लेखनीय है कि श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का भगवान प्रभु श्रीराम एवं हनुमान जी की कृपा से न्यास क्षेत्र द्वारा एलएण्डटी कम्पनी की देखरेख में निर्माण कराया जा रहा है तथा यह कार्य बहुत तेजी से हो रहा है।

निर्माण स्थल पर जहां गर्भगृह है वहां पर एक केसरियां रंग का ध्वज भी लगा हुआ है।  जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा उक्त अवसर पर न्यास के सहयोग के लिए प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों एवं सूचना विभाग के अधिकारियों के लिए डियुटी लगायी गयी थी।

सभी का प्रवेश क्रासिंग नम्बर 2 से हुआ और पुनः सभी का उसी गेट से वापसी भी हो गयी तथा न्यास क्षेत्र द्वारा उक्त भ्रमण में भाग लेने वाले मीडिया कर्मियों एवं शासकीय कर्मियों को प्रसाद भी दिया गया तथा ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने यह भी कहा कि भविष्य में समय-समय पर मीडिया कर्मियों को श्रीराम जन्मभूमि निर्माण की प्रगति से ऐसे ही अवगत कराया जाता रहेगा।

इसे भी पढ़े  भाकपा प्रत्याशी ने 80 किमी जुलूस निकालकर किया शक्ति प्रदर्शन

जमीन के नीचे ढ़़ाली गयी है 12 मीटर मोटी चट्टान : चम्पत राय

-श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट महासचिव चम्पत राय ने बताया कि 12 मीटर मोटी एक चट्टान जमीन कि नीचे ढाली गई है इस चट्टान को ढालने मैं 6 महीने का समय लगा हुआ है इसके बाद दृश्य बदल जाएगा इसलिए पहला फेस दिखाने का प्रयास किया है वर्षा अगर नहीं होती तो शायद ज्यादा अच्छा होता ढलाई के ऊपर डेढ़ मीटर मोटी एक दूसरी चट्टान आएगी जो पहले की तुलना में ज्यादा मजबूत होगी

डेढ़ मीटर मोटी वह दूसरी चट्टान उसके लिए टेक्निकल शब्द है राफ्ट उस राफ्ट के बाद पत्थरों का फिटिंग शुरू होगा और मंदिर का प्लिंथ तैयार होगा वह प्लिंथ ग्रेनाइट और मिर्जापुर के पत्थर से बनेगा लगभग 30,000 पत्थर एक के ऊपर एक रखकर प्लिंथ को 16 फीट की ऊंचाई दी जाएगी दिक्कतें प्राकृतिक साथ हैं यह कार तेज गति के साथ चलने के कारण सितंबर तक पूरा हो गया है रास्ते में एक जाली लगाई गई है उस जाली से पूरी तरह से साफ दिखता है कि मंदिर का निर्माण कार्य किस तरह से चल रहा है डेढ़ मीटर की एक मोटी चट्टान बनाई जाएगी और उसके बाद पत्थरों से प्लिंथ की ऊंचाई 16 घन फिट का 30,000 पत्थर लगेंगे वह पूरी प्लिंथ ऊंची हो जाएगी उसके बाद पत्थरों का निर्माण होगा।

Advertisements

Comments are closed.