The news is by your side.

प्रदेश का लक्ष्य एक ट्रिलियन अर्थव्यवस्था : प्रो. निशी पाण्डेय

-यूपी ग्लोबल समिट में युवाओं की भागीदारी महत्वपूर्ण

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के स्वामी विवेकानंद सभागार में सोमवार को दोपहर 12 बजे यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2023 को लेकर छात्रों की बीच संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता लखनऊ विश्वविद्यालय लखनऊ की प्रो0 निशी पाण्डेय ने कहा कि जी-20 व ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट वैश्विक स्तर पर आर्थिक सहयोग के एक संगठन के रूप में 1999 में गठित हुआ। जिसका मुख्य उद्देश्य वैश्विक स्तर पर व्याप्त मंदी से बाहर निकलने के लिए योजना तैयार करना था। वर्ष 2008 में यह संगठन ग्लोबल लीडर्स फोरम के रूप में सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्षों द्वारा वैश्विक स्तर पर व्यापार, स्वास्थ्य, पर्यावरण, रोजगार और औद्योगिक विकास की रणनीतियों को तैयार करने का एक मंच बना। यह विश्व के 20 देशों का एक साक्षा मंच है। इस बार जी-20 की अध्यक्षता भारत कर रहा है।

Advertisements

प्रो0 निशी पाण्डेय ने कहा कि भारत की प्रगति के लिए कृषि क्षेत्र, सेवा क्षेत्र, उद्योग क्षेत्र को बढ़ावा देने से ही हम विकसित राष्ट्र का मार्ग तय करने में सक्षम हो सकेंगे। उन्होंने कहा कि आज वर्तमान स्वरूप में भारतीय अर्थव्यवस्था में कुल जीडीपी में 30 प्रतिशत का योगदान कृषि क्षेत्र का है। शेष 70 प्रतिशत का योगदान सेवा एवं उद्योग का क्षेत्र है। जबकि भारतीय कृषि में 60 प्रतिशत लोग इस क्षेत्र में कार्य कर रहे है। इस स्वरूप को बेहतर करने के लिए व्यापक स्तर पर वैज्ञानिक तकनीकों एवं कौशल विकास के क्षेत्र में भागीदारी बढ़ाना होगा। उन्होंने बताया कि इस समिट में निजी निवेश की संभावना अधिक है। इससे युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. प्रतिभा गोयल ने कहा कि उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश बनने जा रहा है। यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स के इस मेगा आयोजन से प्रदेश का आर्थिक ढॉचा मजबूत होगा।

इसे भी पढ़े  भारतीय सेना के जवानों ने जोश और उत्साह के मनाया 10वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

औद्योगिक निवेश से प्रदेश में रोजगार के साथ-साथ कृषि, सेवा क्षेत्र एवं उत्पादन में गति मिलेगी। प्रदेश सरकार द्वारा विकास की गति को तीब्र करने एवं एक ट्रिलियन अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ने में मदद मिलेगी। कुलपति ने कहा कि भारत युवाओं का देश है। हर क्षेत्र में रोजगार की असीम संभावनाएं है। युवाओं को अपने कौशल को विकसित करना होगा। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि नगर आयुक्त विशाल सिंह ने कहा कि ग्लोबल समिट का उद्देश्य 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र बनाने का देश के सभी युवाओं को जोड़ने का अनूठा प्रयास भी है। प्रदेश की प्रगति में एक जनपद एक उत्पाद योजना देशभर में लागू की जा रही है। इसके उत्साहजनक परिणाम मिल रहे है। उन्होंने कहा कि अयोध्या मंदिर निर्माण के साथ अयोध्या 2047 का लक्ष्य तय कर लिया गया है। अयोध्या को सक्षम अयोध्या, सुरम्य अयोध्या और सुगम अयोध्या बनाना है।

इससे प्रदेश की अर्थव्यवस्था को गति देने में बल मिलेगा। कार्यक्रम शुरूआत अतिथियों द्वारा मॉ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन के साथ किया गया। इसके उपरांत कुलगीत की प्रस्तुति की गई। अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ, अंगवस्त्रम एवं रामचरित मानस भेट की गई। कार्यक्रम के दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का रिकार्डेड संदेश का प्रस्तुतिकरण किया गया। इसके उपरांत ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का वीडियो प्रसारित किया गया। कार्यक्रम का संचालन इंजीनियर शाम्भवी एम0 शुक्ला व अंकित मिश्र द्वारा किया गया। धन्यवाद ज्ञापन विश्वविद्यालय के कुलसचिव उमानाथ ने किया।

इस अवसर पर वित्त अधिकारी पूर्णेदु शुक्ला, यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट विश्वविद्यालय के नोडल अधिकारी डॉ. सुरेन्द्र मिश्र, र्प्रो. चयन कुमार मिश्र, प्रो. जसवंत सिंह, प्रो. हिमांशु शेखर सिंह, प्रो. आशुतोष सिन्हा, प्रो. नीलम पाठक, प्रो. फारूख जमाल, प्रो. अशोक राय, प्रो. एसएस मिश्र, प्रो. अनूप कुमार, प्रो. शैलेन्द्र वर्मा, प्रो. शैलेन्द्र कुमार, प्रो. रमापति मिश्र, डॉ. अनिल कुमार, डॉ. विजयेन्दु चतुर्वेदी, डॉ. अनुराग पाण्डेय, डॉ. आरएन पाण्डेय, डॉ. वन्दिता पाण्डेय, डॉ. अनिल कुमार विश्वा, डॉ. उमेश वर्मा, डॉ. प्रत्याशा मिश्रा, डॉ. सुमनलाल, डॉ. चन्द्रशेखर सिंह, डॉ. मनीषा यादव, इजीनियर अनुराग सिंह, डॉ. महेन्द्र पाल सिंह, डॉ. अंशुमान पाठक सहित बड़ी संख्या में शिक्षक एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

Advertisements

Comments are closed.