क्रीडा संकुल में अंतरराष्ट्रीय आयोजन के लिए बढ़ेगी सुविधा: डॉ. आर.पी. सिंह

  • निदेशक खेल व महासचिव हैंडबाल ने किया निरीक्षण

  • एक करोड की लागत से तैयार है आधुनिक जिम, खिलाडियों से भेट कर जानी तैयारी

फैजाबाद। जनपद को खेल का हब बनाने के लिए खेल विभाग और खेल संगठन मिलकर कार्ययोजना तैयार कर रहे हैं। पूरब के एक मात्र अंर्तंराष्ट्रीय क्रीडा संकुल को अंर्तंराष्ट्रीय मानक का स्वरूप दिलाने के लिए निदेशक खेल डा. आरपी सिंह, भारतीय हैंडबाल संघ के महासचिव और उत्तर प्रदेश ओलम्पिक संघ के महासचिव आनन्देश्वर पांडेय ने क्रीडा संकुल में एक करोड की लागत से बन रहे जिम और भारतीय हैंडबाल टीम के खिलाडियों से भेट कर तैयारी का जायजा लिया।
भारतीय हैंडबाल संघ के महासचिव आनन्देश्वर पांडेय और निदेशक खेल उत्तर प्रदेश डा. आरपी सिंह ने संयुक्त प्रेस वार्ता में बताया कि फैजाबाद के अंर्तंराष्ट्रीय क्रीडा संकुल को अंर्तंराष्ट्रीय मानक के अनरूप तैयार कर अंर्तंराष्ट्रीय खेल आयोजन कराने की योजना पर काम चल रहा है। फैजाबाद में मल्टीपरपज इंडोर स्टेडियम को विकसित करने के साथ अंर्तंराष्ट्रीय खेल शिविरो व आयोजनो के लिए जरूरी सुविधा उपलब्ध कराने के लिए कार्ययोजना बनाई गई हैं। उन्होने कहा कि इसी के तहत भारतीय हैंडबाल फेडरेशन ने इंडोर हाल में टैरा फलैक्स उपलब्ध कराया है जिस पर भारतीय टीम अभ्यास कर रही है। उत्तर प्रदेश ओलम्पिक संघ के महासचिव आनन्देश्वर पांडेय ने जिले में राष्टीय खेल के लिए शिविर और भारतीय हैंडबाल टीम के अगामी शिविर भी फैजाबाद में लगाने की जानकारी दी। उन्होने कहा कि भारतीय टीम के शिविर से खेल छात्रावास के खिलाडी और स्थानीय खिलाडियों को लाभ मिल रहा है। अपने आदर्श के बीच खिलाडी नई उडान के लिए तैयार हो रहे हैं। सीडीओ की जांच में निर्माण में मिली खामी के बाबत पूछे जाने पर निदेशक खेल ने कहा कि गडबडी मिली तो क्रीडा अधिकारी भी जिम्मेदार होगें। अणिकरी अपनी देख रेख में निर्माण कराए गडबडी को दुरस्त कराए कार्यदायी संस्था द्वारा सुधार न होने पर उच्च अधिकारी को अवगत कराए कार्यवाही होगी। पत्रकार वर्ता के दौरान क्षेत्रीय क्रीडा अधिकारी आरपी सिंह, उत्तर प्रदेश हैंडबाल संघ के सुयक्त सचिव परमेन्द सिंह, विद्यालयीय क्रीडा समिति के सचिव धर्मेन्द्र सिंह, भारतीय टीम के प्रशिक्षक शिवाजी संघू , भुवन चंद भट्, उपस्थित रहें।

इसे भी पढ़े  प्रशासन का चला बुलडोजर, ढहाया गया आशियाना व अन्य निर्माण

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More