विज्ञान व उद्योग की सभी समस्याओं का हल सिमुलेशन विधि द्वारा संभव

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के गणित एवं सांख्यिकी विभाग तथा इंटरनेशनल एकेडमी फिजिकल साइंसेज अयोध्या चैप्टर, उत्तर प्र्देश के संयुक्त तत्वावधान में “आर-कम्प्यूटिंग फॉर लर्निंग एंड इंडस्ट्रियल एप्लीकेशन“ विषय पर चौथे दिन कार्यशाला के मुख्य वक्ता दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के गणित एवं सांख्यिकी विभाग के प्रो0 विजय कुमार ने डीपीक्यूआर माॅडल पर प्रकाश डालते हुए प्रतिभागियों को बताया कि डी से डेनसिटी, पी से प्रोबिलिटी, क्वारटाइल फलन, आर रेन्डम सेम्पल जिससे किसी शोध माॅडल को पर्याप्त रूप से जाना जा सकता है। प्रो0 कुमार ने माॅडल में आर-की सहायता से हल करते हुए प्रतिभागियों के समक्ष ग्राफ को प्रदर्शित किया जिसमें सिमुलेशन का प्रोग्राम लिखना, उसका प्रदर्शन करना प्रमुख रहा। उन्होंने बताया कि सिमुलेशन आजकल शोध के लिए बहुत ही उपयोगी विधि है, क्योकि वर्तमान समय में रीयल टाइम डेटा आसानी से उपलब्ध नहीं हो पाता है। ार्यशाला के संयोजक प्रो0 एस0एस0 मिश्र ने बताया कि यह कार्यशाला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित की प्रेरणा एवं उनके आर्शीवाद से संचालित हो रही है। इस कार्यशाला में प्रतिभागियों के समक्ष अबतक गणितीय समस्याओं को रखा गया। इन समस्याओं में प्रमुख रूप से मैट्रिक्स एलजेबरा, सिमुलेशन, डेनसिटी का प्रोग्राम किया जाना रहा। प्रो मिश्र ने बताया कि गणित एवं सांख्यिकी विषय के वैज्ञानिक कम्प्यूटिंग का ज्ञान होने पर स्टाक मार्केट, वैज्ञानिक क्षेत्रों में रोजगार के अच्छे अवसर प्राप्त हो सकते है। कार्यशाला में मिड वेस्टर्न विश्वविद्यालय नेपाल के डाॅ0 आर0एस0वाई तथा त्रिभुवन विश्वविद्यालय नेपाल के डाॅ0 बाबू शाह ने प्रतिभागियों को गणितीय समस्याओं को आर-कम्प्यूटिंग के माध्यम से हल कराने में सहयोग प्रदान किया। कार्यशाला के सचिव डाॅ0 अभिषेक सिंह ने संचालन किया। इस अवसर पर विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो0 चयन कुमार मिश्र, प्रो0 लाल साहब सिंह, प्रो0एस0के0 रायजादा, डॉ श्याम किशोर, संदीप रावत, वीर बहादुर सिंह, सहित प्रतिभागी एवं छात्र-छात्राओं की उपस्थित रही।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More