राजकीय श्रीराम चिकित्सालय में लगेगा वाटर ट्रीटमेंट प्लांट

ईटीपी के जरिए फिल्टर किया जाएगा अस्पताल का दूषित पानी, प्लांट के लिए 10लाख स्वीकृत शीघ्र शुरू होगा काम

अयोध्या। अयोध्या के राजकीय श्री राम चिकित्सालय में भर्ती मरीजों एवं उनके तमीरदारो सहित प्रतिदिन आने वाले मरीजों को भी शुद्ध पेयजल मिल सके इसके लिए अस्पताल में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाया जाएगा। ईटीपी (ईफ्युलेन्स ट्रीटमेंट प्लांट) लगाने के लिए 10लाख का बजट भी जारी हो गया है । लोकसभा चुनाव के बाद इस पर इस पर काम शुरू हो जाएगा।
श्री राम अस्पताल में प्रतिदिन आसपास के जिलों से मरीज इलाज को आते हैं । यहां प्रतिदिन की ओपीडी आम दिनों में भी 800 से लेकर 1000 तक की होती है। अयोध्या फैजाबाद शहर व ग्रामीण क्षेत्रों गोसाईगंज, पूरा बाजार, दर्शन नगर आदि सहित आसपास के जिलों गोंडा, नवाबगंज, हर्रैया, बस्ती से भी बड़ी संख्या में मरीज श्रीराम अस्पताल में इलाज के लिए पहुंचते हैं। मरीजों को प्रदूषण मुक्त पानी मिल सके इसके लिए अस्पताल में 10 लाख की लागत से ईटीपी लगाए जाने की तैयारी है। अस्पताल के प्रबंधक शिशिर बताते हैं कि इस प्लाट के जरिए अस्पताल से निकलने वाले दूषित पानी को फिल्टर कर उन्हें प्रदूषण मुक्त किया जाएगा। बताया कि अस्पताल में एड्स, डायरिया , हेपिटाइटिस, टाइफाइड जैसी गंभीर बीमारियों से ग्रसित मरीज भी आते हैं ऐसे में दूषित पानी से संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है। साथ ही राम अस्पताल का दूषित पानी अस्पताल के आसपास की नालियों में गिराया जाता है। जिससे जानवरों के लिए भी खतरा होता है और वातावरण भी प्रदूषित होता है। जानवर दूषित पानी का सेवन कर बीमार हो सकते हैं उनकी जान भी जा सकती है । बताया कि जून माह से ईटीपी लगाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।
श्री राम चिकित्सालय के सीएमएस डॉ अनिल कुमार बताते हैं कि मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधा देने के लिए अस्पताल प्रबंधन प्रतिबद्ध है। अस्पताल में संसाधन तो है लेकिन डॉक्टरों की कमी बड़ी समस्या है । अस्पताल में रेडियोलॉजिस्ट, कार्डियोलॉजिस्ट ईएनटी सर्जन सहित कई प्रमुख पद रिक्त पड़े हैं । डॉक्टर के अभाव में अल्ट्रासाउंड मशीन भी बंद पड़ी है। डॉक्टरों की नियुक्ति के लिए शासन से पत्राचार किया जा चुका है लेकिन अब तक कोई परिणाम नहीं आया।

Facebook Comments
इसे भी पढ़े  रेल यात्रियों को पिलाया ठंडा जल