in ,

एटीएस व एसटीएफ की निगरानी में होगा श्रावण झूला मेला

-झूला मेला व कावड़ यात्रा को लेकर मुख्य सचिव ने अधिकारियों के साथ की बैठक


अयोध्या। सूबे मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह व डीजीपी प्रशांत कुमार रविवार को रामनगरी अयोध्या पहुंचे।यहाँ पर पहुंचकर उन्होंने विकास प्राधिकरण के सभागार में विकास कार्यों सावन झूला मेला व कावड़ यात्रा की तैयारी को लेकर अधिकारियों के साथ बैठक की।करीब डेढ़ घंटे बैठक चली। बैठक के बाद डीजीपी प्रशांत कुमार ने बताया कि एटीएस व एसटीएफ की निगरानी में सावन झूला मेला व कावड़ यात्रा संपन्न कराया जाएगा, मेले को ड्रोन से लाइव स्ट्रीमिंग लिया जाएगा, सरयू में एनडीआरएफ एसडीआरएफ की टीम तैनात होंगे। धार्मिक आयोजन में असामाजिक तत्वों ने की खुराफात तो सख्त कार्रवाई होंगी।

मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने बैठक के दौरान निर्देश दिये कि अयोध्या में आने वाले श्रद्वालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा न होने पाये इसका जिला प्रशासन एवं पुलिस विभाग विशेष रूप से ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि सावन झूला मेला क्षेत्र एवं कांवड़ यात्रा मार्गो पर पर्याप्त साफ सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित की जाय इसके लिए शासन द्वारा 1500 अतिरिक्त सफाई कर्मचारियों की व्यवस्था की जा रही है तथा मार्गो के गड्ढे, खराब सड़के, मार्ग जलभराव आदि को भी यथाशीघ्र सही कराया जाय और इसका वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा निरीक्षण कर सुनिश्चित कर लिया जाय, की सभी मार्ग पैदल यात्रा करने वालों के लिए अनुकूल है और यह व्यवस्था अयोध्या के साथ साथ आसपास के जनपदों में भी सभी जिलाधिकारियों द्वारा सुनिश्चित की जाय।

उन्होंने कहा कि वर्षा ऋतु तथा कांवड़ियों द्वारा कलश से जलाभिषेक किये जाने के कारण मार्गो एवं मंदिर की सीढ़ियों व शिवलिंग के आसपास फिसलन की सम्भावना बढ़ जाती है इसके लिए इसकी नियमित सफाई होती रहे इसका भी विशेष ध्यान दिया जाय। मुख्य सचिव ने कहा कि कांवड़ यात्रा मार्ग तथा मेला क्षेत्र में पर्याप्त मात्रा में पेयजल की व्यवस्था, साफ सुलभ शौचालय, चिकित्सा केन्द्रों पर पर्याप्त दवाईयों की व्यवस्था तथा पूर्ण मात्रा में फस्टऐड किट, श्रद्वालुओं के लिए टीन शेड विश्राम स्थल, क्षतिग्रस्त विद्युत तार व पूर्ण प्रकाश की व्यवस्था व निर्वाध विद्युत आपूर्ति, पार्किंग की सकुशल व्यवस्था आदि समय पर पूर्ण कर लिये जाय। उन्होंने यह भी कहा कि कांवड़ यात्रा के मार्गो पर श्रद्वालुओं के लिए भक्तों द्वारा भण्डारें, पेयजल, फूड स्टाल आदि के इंतजाम होते है, इसमें यह सुनिश्चित कर लिया जाय कि किसी भी प्रकार का भण्डारा, फूड स्टाल आदि मार्गो पर न लगाये जाय तथा हाईवे व पैदल मार्ग से निर्धारित उचित दूरी पर ही लगे ऐसा सुनिश्चित किया जाय तथा निराश्रित गौवंश पर भी विशेष ध्यान देते हुये उनको निराश्रित आश्रय स्थलों में पहुंचाये जिससे श्रद्वालुओं को किसी भी प्रकार की समस्या न होने पायें। श्रद्वालुओं की सुविधा के लिए जगह-जगह पर सहायता केन्द्र, अस्थायी उपचार केन्द्र तथा मेला कन्ट्रोल रूम के नम्बर के प्रदर्शन का व्यापक व्यवस्था की जाय।

पुलिस महानिदेशक उत्तर प्रदेश प्रशांत कुमार ने सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा करते हुये कहा कि सर्वप्रथम पुलिस कर्मियों द्वारा श्रद्वालुओं से विनम्रता पूर्वक व्यवहार किया जाय। इसके साथ ही सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में तथा आवश्यकतानुसार सी0सी0टी0वी0 कैमरे लगवाकर सम्पूर्ण मेला क्षेत्र की निगरानी करें तथा भीड़ को नियंत्रण करने के लिए बैरीकेटिंग आदि का प्रयोग करें। उन्होंने यह भी कहा कि श्रावण झूला मेला एवं कांवड़ यात्रा के दौरान श्रद्वालुओं द्वारा सरयू नदी में स्नान कर जलाभिषेक किया जाता है, इसके लिए सरयू नदी में निर्धारित स्नान स्थलों पर ही स्नान करने दिया जाय तथा जल बैरिकेटिंग लगाकर श्रद्वालुओं की सुरक्षा की जाय और मौके पर गोताखोर, जल सुरक्षा कर्मी व स्टीमर की पर्याप्त व्यवस्था रहें। अधिकारीद्वय ने यह भी निर्देश दिये कि जिला प्रशासन एवं पुलिस विभाग आपसी समन्वय करते हुये कांवड़ यात्रा/श्रावण मेला के पूर्व सभी स्थलों का 2-3 बार स्थलीय निरीक्षण स्वयं करें तथा अन्य नामित मजिस्ट्रेटों की नियमित समीक्षा करते हुये तैयारियों का जायजा लें तथा डायवर्जन प्लान को समय से लागू करने व पार्किंग की पर्याप्त व्यवस्था समय से पूर्ण करें।

22 जुलाई से 19 अगस्त तक चलेगा श्रावण झूला मेला

-जिलाधिकारी नितीश कुमार ने कांवड़ यात्रा व श्रावण झूला मेला से सम्बंधित प्रस्तुतीकरण करते हुये बताया कि श्रावण मास 22 जुलाई 2024 से प्रारम्भ होकर 19 अगस्त 2024 को समाप्त होगा, जिसमें जनपद बहराइच, गोंडा, बस्ती, अम्बेडकरनगर, सुल्तानपुर, अमेठी, रायबरेली एवं बाराबंकी के श्रद्वालुओं का जनपद अयोध्या में आगमन होता है तो सरयू नदी का जल लेकर नयाघाट राम की पैड़ी होते हुये नागेश्वरनाथ/क्षीरेश्वरनाथ मंदिर में जलाभिषेक करते हुये अपने जनपद को जाते है। साथ ही हनुमानगढ़ी, श्रीरामलला आदि मंदिरों में दर्शन पूजन करते है।

उन्होंने मेले के सम्बंध में की जा रही तैयारियों के विषय में जानकारी देते हुये बताया कि नगर निगम के द्वारा सफाई व्यवस्था, शुद्व पेयजल व्यवस्था, फागिंग/एंटीलार्वा छिड़काव, जनसुविधओं की व्यवस्था सहित अन्य आवश्यक कार्यवाही जैसे विद्युत पोलों पर प्लास्टिक सीट, गलियों तथा नालियों का सुदृढ़ीकरण आदि की जा रही है। इसी क्रम में स्वास्थ्य विभाग द्वारा कांवड़ यात्रा के रूट में 108 एम्बुलेंस की तैनाती, सी0एच0सी0/पी0एच0सी0 को 24 घंटे क्रियाशील रखने की व्यवस्था, मेला क्षेत्र में एम्बुलेंस की व्यवस्था, राजकीय चिकित्सालयों में आरक्षित बेडों की उपलब्धता, अस्थायी उपचार केन्द्र व तैनात मानव संसाधन आदि की जानकारी दी गयी। उन्होंने एन0एच0ए0आई0, लोक निर्माण विभाग, परिवहन विभाग, विद्युत विभाग, सरयू नहर/सिंचाई खण्ड, अग्निशमन विभाग सहित अन्य विभागीय व्यवस्थाएं की भी विस्तृत जानकारी देते हुये कहा कि समय पर सभी व्यवस्थाएं पूर्ण कर ली जायेंगी और इसके निर्देश सम्बंधित जिला स्तरीय अधिकारियों को दे दिये गये है।

भीड़ नियंत्रण के लिए 7 ड्रॉप डाउन बैरियर की स्थापना

-वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजकरन नैय्यर ने सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी देते हुये कहा कि भीड़ नियंत्रण हेतु राम पथ पर गांधी आश्रम बैरियर से टेढ़ीबाजार के मध्य 7 ड्रॉप डाउन बैरियर की स्थापना, भक्ति पथ पर श्रृंगार हाट से बड़ा स्थान तक 7 ड्राप डाउन बैरियर की स्थापना, भक्ति पथ पर श्रृंगार हाट से हनुमानगढ़ी तिराहे तक 6 लेन हेतु रेलिंग की व्यवस्था, जन्मभूमि पथ प्रारम्भ से एक्सरे बूथ तक, पीएफसी से डी-1 चेकिंग तक, डी-1 से परकोटा द्वार तक तथा मंदिर के अंदर 6 लेन के लिए रेलिंग की व्यवस्था, जन्मभूमि पथ दर्शनमार्ग, टीएफसी आदि स्थानों पर पर्याप्त बैठने की व्यवस्था तथा नागेश्वरनाथ मंदिर की भीड़ नियंत्रण के लिए 14 ड्राप डाउन बैरियर की स्थापना की जा रही है। इसके साथ ही धर्म पथ, राम पथ, भक्ति पथ व जन्मभूमि पथ पर यातायात व पुलिस प्रबन्ध, घाट क्षेत्र में 2 प्लाटून एसडीआरएफ, जलपुलिस, फ्लड कम्पनी, स्थानीय गोताखोर की व्यवस्था, नागेश्वनाथ, हनुमानगढ़ी, श्रीरामजन्मभूमि परिसर व अन्य मुख्य मंदिर, आश्रम एवं महत्वपूर्ण स्थलों पर भीड़ प्रबन्धन व पुलिस प्रबन्ध की व्यवस्था की जा रही है।

समीक्षा बैठक का संचालन मण्डलायुक्त गौरव दयाल द्वारा किया गया तथा मेले के लिए की जा रही तैयारियों के सम्बंध में विस्तृत जानकारी जिलाधिकारी नितीश कुमार द्वारा दी गयी। इसके साथ ही देवीपाटन मण्डल व बस्ती मण्डल के मंडलायुक्त व वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सम्बंधित जिलाधिकारियों द्वारा अपने अपने जिलों में की जा रही तैयारियों की बिन्दुवार जानकारी दी गयी। बैठक में प्रबन्धक मध्यांचल विद्युत निगम लिमिटेड, नगर आयुक्त, उपाध्यक्ष अयोध्या विकास प्राधिकरण, मुख्य विकास अधिकारी, अपर जिलाधिकारी नगर/मेलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक नगर व रेलवे लखनऊ, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एस0टी0एफ0, पुलिस विभाग के अधिकारी तथा मण्डल एवं जिला स्तरीय अधिकारीगण उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े  बीकापुर विधायक डॉ. अमित सिंह चौहान ने सीएम योगी से की मुलाकात

What do you think?

Written by Next Khabar Team

10 जुलाई को होगी अवध विवि की पांच विषयों की प्रवेश परीक्षा

मुख्य सचिव ने मेला क्षेत्र का किया स्थलीय निरीक्षण