The news is by your side.

राम की नगरी से पीएम ने देश को दिया विकास का नया संदेश

-पीएम मोदी ने 15,700 करोड़ की 46 बड़ी परियोजनाएं कीं समर्पित


अयोध्या। विकास के क्षितिज पर शनिवार से नई अयोध्या का उदय हुआ, जब प्रधानमंत्री ने राम नगरी से 15,700 करोड़ की 46 बड़ी परियोजनाएं अयोध्या- प्रदेश व देश को समर्पित की। इसी के साथ विकास के नए युग का प्रारंभ हो गया। त्रेता युग में पुष्पक विमान वाली अयोध्या को कलियुग में शंखनाद व राजा राजा के उद्घोष संग महर्षि वाल्मीकि अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट की सौगात मिल गई। अयोध्या से बड़ा कोई धाम नहीं, राम से बड़ा कोई नाम नहीं। यहां लघु फिल्म के जरिए अयोध्या की विकास यात्रा दिखाई गई।

Advertisements

लोकार्पित होने वाली अन्य प्रमुख परियोजनाएं

-अमेठी के त्रिसुंडी रिफाइनरी की 11 टीएमटीपीए से 60 टीएमटीपीए तक क्षमता उच्चीकरण
-जाजमऊ टेनरी कलस्टर के लिए 20 एमएलडी सीईटीपी की स्थापना
-कानपुर के पनखा में 30 एमएलडी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का विकास
-जाजमऊ जोन में 130 एमएलडी एसटीपी तथा सीवेज ट्रीटमेंट अवस्थापना सुविधाओं का पुनर्विकास
-एनएच-330 ए का जगदीशपुर-फैजाबाद खंड
-एनएच-730 के खुटार-लखीमपुर खंड के किमी 82 से किमी 140 तक का सुदृढीकरण एवं उच्चीकरण
– एनएच- 233 के गोसाई का बाज़ार बाईपास (किमी 240.340) से वाराणसी (किमी 299.350) तक फोर लेन
-जौनपुर-अयोध्या-बाराबंकी रेल लाइन परियोजना के अंतर्गत चार खंडों का दोहरीकरण
-मल्हौर-डालीगंज रेलखंड का विद्युतीकरण के साथ दोहरीकरण
-राम पथ (सहादतगंज से नया घाट तक)
-भक्ति पथ (अयोध्या मुख्य मार्ग से हनुमान गढ़ी होते हुए श्री राम जन्मभूमि तक)
– धर्म पथ (एनएच-27 से नया घाट पुराने पुल तक)
-राजर्षि दशरथ स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय
-एनएच-27 बाईपास महोबरा बाजार होते हुए टेढ़ी बाजार श्रीराम जन्मभूमि तक 4 लेन सड़क
-महर्षि अरुंधति पार्किंग एवं व्यावसायिक संकुल (पूर्वी एवं पश्चिमी)
-सहादतगंज- नया मार्ग घाट-श्री राम जन्मभूमि तक सड़क
-कलेक्ट्रेट में लक्ष्मण कुंज स्मार्ट वाहन बहुमंजिला पार्किंग
-सोहावल क्षेत्र के ग्रामसभा-पिखरौली में सॉलिड वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट
-अमानीगंज में वाहन पार्किंग एवं व्यावसायिक कॉम्लेक्स
-बड़ी बुआ रेलवे क्रॉसिंग पर उपरिगामी सेतु
-अयोध्या-सुलतानपुर राष्ट्रीय राजमार्ग-330 से एयरपोर्ट तक 4 लेन सड़क

शिलान्यास होने वाली प्रमुख परियोजनाएं

-एनएच-27 के लखनऊ-अयोध्या खंड में किमी 8.000 से किमी 121.600 तक का ईपीसी मोड में चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण
-एनएच-27 पर अयोध्या बाईपास के किमी 121.600 से किमी 144.020 तक ईपीसी मोड में चौड़ीकरण एवं सुदृढीकरण
-ग्रीनफील्ड टाउनशिप परियोजना
-वशिष्ठ कुंज आवासीय परियोजना
-नगर निगम एवं विकास प्राधिकरण कार्यालय भवन
-सीपेट केंद्र
– गुप्तार घाट एवं राजघाट के मध्य नए पक्के घाटों एवं पूर्व निर्मित घाटों का पुनरुद्धार
-राम की पैड़ी पर दर्शक दीर्घा
-राम की पैड़ी से रामघाट तक, राजघाट से श्री राम जन्मभूमि मंदिर तक श्रद्धालु भ्रमण पथ का सुदृढ़ीकरण एवं जीर्णोद्धार
– 4 ऐतिहासिक प्रवेश द्वारों का संरक्षण एवं सौंदर्यीकरण

इसे भी पढ़े  संविधान संशोधन की बात कहकर बाबा साहब का अपमान कर रहे बीजेपी के लोग : के.एच. मुनियप्पा

अयोध्या के इतिहास में स्वर्णाक्षरों में दर्ज हुई 30 दिसंबर की तारीख

दिव्य नव्य व भव्य अयोध्या के त्रेतायुगीन वैभव को लौटाने का जो संकल्प पीएम नरेंद्र मोदी ने लिया उसे उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के कुशल क्रियान्वयन में पूर्ण किया जा रहा है। शनिवार को अयोध्या में हुई जनसभा में 15700 करोड़ की परियोजनाएं देश को समर्पित करने के दौरान जनसभा कार्यक्रम में संबोधन करते हुए केंद्रीय रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव व केंद्रीय नागर विमानन व उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने संबोधन में पीएम के विजन और सीएम योगी के कुशल क्रियान्वन की जमकर तारीफ की। दोनों ही मंत्रियों ने अपने संबोधन में कहा कि अयोध्या के इतिहास में 30 दिसंबर की तारीख स्वर्णाक्षरों में दर्ज हो गई है। 30 दिसंबर 2023 की तारीख विकास के प्रतिमान स्थापित करने के साथ ही पीएम मोदी के विजन और सीएम योगी के कुशल क्रियान्वयन के लिए भी जाना जाएगा।

केंद्रीय रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव ने अपने संबोधन में कहा कि आज अयोध्या विश्व से जुड़ रही है। 22 जनवरी के पूर्व 30 दिसंबर की तिथि भी अयोध्या जी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। पीएम के विजन के कारण अयोध्या में विकास की बयार बह रही है। पीएम द्वारा आज अयोध्या धाम स्टेशन का उद्घाटन किया गया जो अयोध्या की विरासत को सहेजने के साथ ही नई सुविधआओं से लैस करने की प्रक्रिया को दर्शाता है। इसी प्रक्रार, 6 वंदे भारत व 2 अमृत भारत ट्रेनें आज भारत को समर्पित की गई हैं। इनके जरिए अयोध्या समेत देश के विभिन्न कोनों को जोड़ा गया है। दिल्ली से वंदेभारत के ट्रेन के जरिए व पुश पुल टेक्नोलॉजी आधारित अमृत भारत ट्रेन के जरिए माता सीता की स्थली अयोध्या से जुड़ चुकी है। उन्होंने कहा कि 2009 से 2014 तक केवल 11 हजार करोड़ रुपए का रेल बजट उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य को आवंटित होता था। वहीं, अब 17100 करोड़ रुपए के बजट के जरिए उत्तर प्रदेश में रेलवे का विकास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पीएम ने 20300 करोड़ की रेल परियोजनाएं देश को समर्पित की हैं। उत्तर प्रदेश के हर स्टेशन का स्वरूप बदला है तथा प्रत्येक स्टेशन के इलेक्ट्रिफिकेशन समेत रीफॉर्मेशन के तमाम कार्यों को संपन्न किया गया है।

इसे भी पढ़े  छात्राओं ने निकाली मतदाता जागरूकता रैली

सूर्यवंश व अयोध्या के खोए वैभव को लौटाने का मार्ग हुआ प्रशस्त

केंद्रीय नागर विमानन व उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने संबोधन में कहा कि आज का दिवस ऐतिहासिक दिवस है। हजारों वर्षों के इंतजार की अब घड़ी अब खत्म होने जा रही है। 22 जनवरी को अयोध्या में प्रभु श्रीराम के भव्य मंदिर में श्रीविग्रह को स्थापित करने का कार्य पूर्ण होगा जो सूर्यवंश समेत अयोध्या के वैभव लौट आएगा। भारत अब दुनिया में आर्थिक नक्षत्र के तौर पर उभर रहा है तो वहीं पीएम मोदी का प्रयास है कि भारत की आध्यात्मिक शक्ति से भी दुनिया अवगत हो।

चाहें देवघर एयरपोर्ट हो, वाराणसी का एयरपोर्ट हो, महाकाल की नगरी उज्जैन की इंदौर एयरपोर्ट से कनेक्टिविटी हो, पीएम के विजन के अनुसार देश के आध्यात्मिक केंद्रों को एयरपोर्ट व रेलवे स्टेशन के नेटवर्क के जरिए देश-दुनिया से जोड़ा जा रहा है। अयोध्या में अब बोइंग व एयरबस जैसे हवाईजहाज भी लैंड कर सकेंगे और दिल्ली व अहमदाबाद की फ्लाइटों का यहां से संचालन किया जाएगा। अयोध्या को भारत के कोने-कोने से जोड़ा जाएगा। पीएम का संकल्प है कि भारत का पुनर्जागरण हो। एक ओर, विपक्षी सरकारों ने अयोध्या को कोई सम्मान नहीं दिया, वह प्रभु श्रीराम के अस्तित्व को नकारते थे, वहीं पीएम मोदी ने श्रीराम के सम्मान को बरकरार रखते हुए अयोध्या का खोया वैभव लौटाने का प्रयास किया है। यह पीएम मोदी की गारंटी के कारण ही संभव हो सका है।

महर्षि वाल्मीकि के नाम पर एयरपोर्ट का नामकरण भारत की परंपरा पर गौरव कराने वाला क्षण : सीएम योगी

अवधपुरी प्रभु आवत जानी, भई सकल शोभा के खानी… 22 जनवरी को प्रधानमंत्री मोदी जी के करकमलों से प्रभु अपने भव्य मंदिर में विराजमान हो रहे हैं। 500 वर्षों का इंतजार समाप्त होने जा रहा है। प्रभु के आगमन से पहले प्रधानमंत्री का सपना था कि अयोध्या को दुनिया की सुंदरतम नगरी के रूप में स्थापित करेंगे। जिस भव्यता के साथ पीएम का स्वागत अयोध्यावासियों ने किया है, यह नए भारत की नई अयोध्या का दर्शन कराता है। यह बातें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहीं। उन्होंने शनिवार को अयोध्या में आयोजित जनसभा को संबोधित किया। सीएम ने उप्र व अयोध्या के विकास के लिए हजारों करोड़ की परियोजना के लिए यूपीवासियों की तरफ से प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए आभार जताया। सीएम ने बाल रामलला की मूर्ति प्रधानमंत्री को भेंट की।

सीएम ने कहा कि अयोध्या बेहतरीन फोरलेन, सिक्स लेन व आठ लेन के रोड मार्ग से जुड़ा है। इसका उद्घाटन पीएम के करकमलों से होने जा रहा है। रेल की बेहतरीन सुविधा, नए रेलवे स्टेशन के साथ-साथ वंदे भारत ट्रेन का शुभारंभ और अमृत भारत के नाम पर दो नई ट्रेन पीएम ने प्रभु राम की जन्मभूमि अयोध्या से माता सीता के प्रकटीकरण स्थल सीतामढ़ी से जोड़ने के कार्यक्रम का शुभारंभ किया। भगवान राम त्रेता में पुष्पक विमान से अयोध्या आए होंगे, आज प्रधानमंत्री जी ने उद्घाटन कर अयोध्या को इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उपहार अयोध्वासियों को दे दिया।

इसे भी पढ़े  गरीबों के कल्याण को लेकर बनेंगी और योजनाएं : अनुप्रिया पटेल

सबसे अधिक बार आने का रिकॉर्ड प्रधानमंत्री मोदी जी के नाम

 

सीएम ने कहा कि यह वही अयोध्या है, जहां आने की बात तो दूर, नाम लेने में भी लोग संकोच करते थे। सबसे अधिक बार अयोध्या आने वाले प्रधानमंत्री का रिकॉर्ड मोदी जी के नाम पर बन गया है। उत्तर प्रदेश व अयोध्या जैसे विरासत से जुड़ी नगरियों को नई पहचान मोदी जी के कारण संभव हो पाया है। आज प्रधानमंत्री जी 22 जनवरी से पहले विकास, इंफ्रास्ट्रक्चर, कनेक्टिविटी से जुड़ी अयोध्या को बेहतरीन सुविधाओं से संपन्न कर रहे हैं।

सीएम ने आभार जताते हुए कहा कि प्रभु राम से इस लोक का मिलन कराने वाले त्रिकालदर्शी ऋषि महर्षि वाल्मीकि जी के नाम पर इस अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे का नाम प्रधानमंत्री ने किया है। रामायण को लौकिक रूप से हम सब तक पहुंचाने वाले पहले ऋषि महर्षि वाल्मीकि हैं। उनके नाम से अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का नामकरण भारत के अंदर भारत की परंपरा व विरासत पर गौरव की अनुभूति कराने वाला क्षण है। सीएम ने कहा कि आगामी समय में हम सब अपने दायित्वों का निर्वहन कर पाएंगे। अयोध्या में 22 जनवरी के बाद अतिथि देवो भव का नया अनुभव देश-दुनिया को कराना है। उन्होंने विश्वास जताया कि हम सब पूरी तैयारी के साथ 22 जनवरी के कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत उसी तत्परता व जोश-खरोस से कर पाएंगे।
इस अवसर पर राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव, ज्योतिरादित्य सिंधिया, वीके सिंह, यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, ब्रजेश पाठक, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी भूपेंद्र सिंह, महापौर गिरीश पति त्रिपाठी, प्रदेश सरकार के मंत्री सूर्य प्रताप शाही, जितिन प्रसाद, दयाशंकर सिंह, जयवीर सिंह, सांसद लल्लू सिंह, विधान परिषद सदस्य हरिओम पांडेय, विधायक वेदप्रकाश गुप्त, डॉ. अमित सिंह चौहान, जिला पंचायत अध्यक्ष रोली सिंह आदि की मौजूदगी रही।

Advertisements

Comments are closed.