The news is by your side.

छह दिन में 15 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने किए श्रीरामलला के दर्शन

– रामभक्तों को रामलला के सुगम दर्शन कर लिए मुख्यमंत्री योगी ने किए हैं कई इंतेजाम

अयोध्या। श्रीरामलला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद रामनगरी में दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं का जत्था अनवरत देखा जा सकता है। प्राण प्रतिष्ठा से लेकर अबतक छह दिनों में 15 लाख से अधिक रामभक्तों ने नव्य-भव्य मंदिर में दर्शन-पूजन कर किया है। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दिशानिर्देश पर गठित उच्चस्तरीय कमेटी की देखरेख में श्रद्धालुओं को सुगमता के साथ दर्शन-पूजन की व्यवस्था उपलब्ध कराई जा रही है।

Advertisements

प्राण प्रतिष्ठा के बाद पहले दिन यानी 23 जनवरी को मंदिर के पट भक्तों के लिए खुले तो लाखों की संख्या में श्रद्धालु उमड़ पड़े। जानकारी के अनुसार रोजाना दो लाख से अधिक रामभक्त श्रीरामलला के दरबार में सुगमता पूर्वक पहुंचकर दर्शन-पूजन कर रहे हैं। अयोध्या नगर से लेकर मंदिर परिसर में दिनभर जय श्रीराम का जयघोष गूंज रहा है। देश-विदेश, विभिन्न राज्यों और उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों से रोजाना बड़ी संख्या में श्रद्धालु श्रीरामलला के दर्शन को पहुंच रहे हैं। वहीं रविवार को भी करीब दो लाख कि संख्या में श्रद्धालुओं ने श्रीरामलला के दर्शन किए।

अयोध्या के इंट्री प्वाइंट से वाहनों का प्रवेश शुरू

अयोध्या। राम मंदिर में रामलला का दर्शन अब आसानी से हो सकेगा। अभी तक भीड़ अनियंत्रित होने से रूट डाइवर्ट था। यातायात पुलिस ने अयोध्या धाम के इंट्री प्वाइंट उदया चौराहा और साकेत पेट्रोल पंप से आवागमन को शुरू कर दिया है। ई-बसों और ई-रिक्शा का संचालन शुरू हो गया है। साथ ही भक्तों के वाहनों को भी मंदिर के पास तक जाने की छूट दी जा रही है।

इसे भी पढ़े  इंडस्ट्री व एकेडमिक सहयोग से व्यावहारिक विशेषज्ञता सीखने को मिलेगीः मनोज सिंह

रामलला प्राण प्रतिष्ठा के बाद अचानक पहले दिन रामंदिर में दर्शन के लिए लाखों श्रद्वालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मोर्चा संभालना पड़ा था। कोर कमेटी के अफसरों के साथ बैठक करके स्थिति को काबू में किया गया था। तभी से व्यवस्था में सुधार होने लगा। अब भीड़ नियंत्रित होने के बाद व्यवस्था ठीक होने लगी है। इसलिए अयोध्या धाम के वाहनों के प्रवेश पर लगी पाबंदी पर ढिलाई बरती जा रही है।

हालांकि अभी पूरी तरह छूट नहीं है, लेकिन अयोध्या धाम के इंट्री प्वाइंट साकेत पेट्रोल पंप और उदया चौराह रानोपाली से ई-रिक्शा, ई-बस और बाइक को प्रवेश दिया जाने लगा है। ई-बस और ई-रिक्शा को भी लता मंगेशकर चौक और टेढ़ी बाजार तक जाने की छूट है। हालांकि चलने-फिरने में अक्षम या असक्त व्यक्ति को मंदिर के पास तक जाने की छूट दी जा रही है।

पुलिस उपाधीक्षक यातायात एपी सिंह के हवाले से पीआरओ दिलीप कुमार दूबे ने बताया कि अयोध्या में भीड़ नियंत्रण में है। जिलों की सीमाओं से आवागमन बहाल हो गया है। उन्होंने बताया कि चलने-फिरने में अक्षम या असक्त व्यक्ति को मंदिर के पास तक जाने की सुविधा है। एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन व बस स्टेशन पर यातायात पुलिस तैनात की गई है जो श्रद्वालुओं की मदद कर रहे हैं।

राम-लला प्राण प्रतिष्ठा के बाद से लगातार बढ़ रही श्रद्धालुओं की संख्या

– 23 जनवरी – पांच लाख
– 24 जनवरी – दो लाख
– 25 जनवरी – दो लाख
– 26 जनवरी – ढाई लाख
– 27 जनवरी – दो लाख
– 28 जनवरी – दो लाख

Advertisements

Comments are closed.