The news is by your side.

इंटरनेट देश, समाज व परिवार की आवश्यकता : प्रो. दिनेश सिंह

“इंटरनेट ऑफ थिंग्स” कार्यशाला का दूसरा दिन

अयोध्या। डॉ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के आई0ई0टी0 संस्थान में सूचना प्रौद्योगिकी विभाग एवं ए0आई0टी0 बैंगलोर के संयुक्त तत्वावधान में फैकल्टी डेवलेपमेंट प्रोग्राम के तहत “इंटरनेट ऑफ थिंग्स” विषय पर एक सप्ताह की कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। कार्यशाला के दूसरे दिन मुख्य वक्ता मोती लाल नेहरू प्रौद्योगिकी संस्थान प्रयागराज के प्रो0 दिनेश सिंह रहे।
कार्यशाला को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता प्रो0 दिनेश सिंह ने कहा कि आज इंटरनेट देश, समाज एवं परिवार के लिए एक प्रमुख आवश्यकता बन गया है। इस साधन का प्रयोग वैज्ञानिक रूप से और बेहतर कर सकते है। प्रो0 सिंह ने बताया कि वर्तमान समय में आने वाली समस्या एवं उससे निपटने के लिए इंटरनेट अत्यंन्त उपयोगी है। इस संबंध में छात्र-छात्राओं को इंटरनेट के उपयोग के तरीकों पर विस्तार से प्रकाश डाला। कार्यक्रम की संयोजक इं0 समृद्धि सिंह ने छात्र एवं छात्राओं को संबोधित करते हुए बताया कि रोबोट को कैसे मॉर्डन बनाया जाये और इसके होने वाले दुष्प्रभाव को कैसे कम किया जाये। इं0 सिंह ने रोबोटिक्स विषय पर बहुत ही उपयोगी व्याख्यान दिया। संस्थान के शिक्षक इं0 रमेश मिश्र ने एंड्रॉयड डेवलपमेन्ट के सभी चरणों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी और छात्रों द्वारा लाइव प्रोजेक्ट भी बनवाया। ए0आई0टी0 बंगलौर से आये रिर्सोस पर्सन के रूप में इं0 बाला जी टी0एस0, इं0 जावेद बैज, इं0 दिनकरन एम0 एवं इं0 धनंजय तिवारी ने छात्र-छात्राओं को एंड्राइड एप से प्रोजेक्ट बनाने और उसकी पूरी प्रक्रिया की जानकारी दी।
संस्थान के निदेशक प्रो0 रमापति मिश्र ने कार्यशाला में आये अतिथियों को पुष्पगुच्छ एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर प्रो0 मिश्र ने बताया कि कार्यशाला के तीसरे दिन मोती लाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के प्रो0 दुष्यन्त सिंह का विशेष व्याख्यान होगा। आज के कार्यक्रम में डॉ0 वंदिता पांडेय, डॉ0 प्रियंका श्रीवास्तव, डॉ0 महिमा चौरसिया, डॉ0 अतुल सेन, इं0 समृद्धि, इं0 कृति श्रीवास्तव, इं0 श्वेता मिश्र, इं0 मनीषा यादव, इ0 रमेश, ंइ0परिमल, इं0 पारितोष, इं0 अशुतोष मिश्र, डॉ0 संजीत पांडेय सहित समस्त शिक्षक, कर्मचारी एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रही।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.