समाजवादी आन्दोलन में जनेश्वर मिश्र का महत्वपूर्ण योगदान

    सपाईयों ने मनाई छोटे लोहिया स्व. जनेश्वर मिश्र की 86वीं जयन्ती

    Advertisement

    फैजाबाद। समाजवाद के पुरोधा छोटे लोहिया स्व0 जनेश्वर मिश्र की 86वीं जयन्ती के मौके पर सपा जिलाध्यक्ष गंगासिंह यादव ने उनके चित्र पर माल्यार्पण करते हुए कहा कि शुरूआती दौर में समाजवादी आन्दोलन करने में डाॅ0 लोहिया के बाद जनेश्वर मिश्र का महत्वपूर्ण योगदान है। सपा कार्यालय में आयोजित 86वीं जयन्ती के अवसर पर आयोजित एक विचार गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए सपा जिलाध्यक्ष गंगासिंह यादव ने कहा कि किसी गैर पिछड़े के द्वारा पिछड़ों को हर क्षेत्र में भागीदारी देने की वकालत करना अपने आप में महान कार्य है। उन्होंने कहा कि आज जब भाजपा की सरकार पिछड़ों के हकों में डकैती डाल रही है ऐसे में स्व0 जनेश्वर मिश्र के कार्य व विचार आज भी प्रासंगिक हैं। विचार गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए सपा जिला उपाध्यक्ष बाबूराम गौड़ ने कहा कि नौजवानों को स्व0 जनेश्वर मिश्र द्वारा किये गये संघर्षों से प्रेरणा लेनी चाहिए। सपा महानगर के महासचिव श्यामकृष्ण श्रीवास्तव ने कहा कि जनसंघर्षों के प्रेरणा पुरूष छोटे लोहिया समाजवादी पार्टी के एक राजनेता थे और समाजवादी विचारधारा के प्रति उनके दृढ़ निष्ठा के कारण वे छोटे लोहिया के नाम से प्रसिद्ध थे। अनुसूचित जाति/जनजाति व पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रभारी छोटेलाल यादव ने कहा कि स्व0 जनेश्वर मिश्र को आजाद भारत के विकास की राह समाजवादी सपनों के साथ आगे बढ़ने में दिखी और समाजवादी आन्दोलन में इतना आगे बढ़ गये कि उन्हें लोग छोटे लोहिया के तौर पर ही जानने लगे।
    सपा के पूर्व प्रदेश सचिव मो0 हलीम पप्पू ने कहा कि छोटे लोहिया के संघर्षों को कभी भी भुलाया नहीं जा सकेगा। नौजवानों को छोटे लोहिया के द्वारा लिखी गयी पुस्तकों को पढ़ना चाहिए। लोहिया वाहिनी के जिलाध्यक्ष शैलेन्द्र यादव व अनुसूचित जाति/जनजाति प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष ओरौनी प्रसाद पासवान ने संयुक्त रूप से कहा कि देश के पूर्व प्रधानमंत्रियों मोरारजी देसाई, चैधरी चरण सिंह, विश्वनाथ प्रताप सिंह, चन्द्रशेखर, एच0डी0 देवगौड़ा और इन्द्रकुमार गुजराल के मंत्रिमण्डलों ने स्व0 जनेश्वर मिश्र ने काम किया। दोनों ने कहा कि सात बार केन्द्रीय मंत्री रहने के बाद भी उनके पास न अपनी गाड़ी थी और न ही बंगला। सपा प्रवक्ता ओम प्रकाश ओमी ने बताया कि जयन्ती के अवसर पर उनके चित्र पर पुष्पाजंलि देकर हामिद जाफर मीसम, वसी हैदर गुड्डू, मो0 अपील बब्लू, बालकृष्ण मिश्र, चन्द्रभान यादव, श्यामलाल निषाद, रक्षाराम यादव, शमशेर यादव, रामभवन यादव, राम अंजोर यादव, चिन्टू सागर, सनी यादव, मुकेश यादव, शिवांशु तिवारी, उमेश यादव, आभास यादव, ईसा कुरैशी, तालिब खान, शाहबाज खान शालू, रमेश यादव आदि ने उनके जीवन में किये गये संघर्षों व फैजाबाद में कई बार उनका आगमन हुआ उन पुरानी यादों पर चर्चा की।