The news is by your side.

अपने ही देश में 5-जी की टेक्नोलाॅजी करें पैदा: प्रो. मनोज दीक्षित

5-जी इंडस्ट्रीयल इंटरनेट आफ थिग्स विषय पर कार्यशाला का हुआ शुभारम्भ

अयोध्या। डॉ राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के आई0 ई0 टी0 संस्थान एवं ए0आई0टी0 बैंगलोर के संयुक्त संयोजन में 1 अप्रैल 2019 से “5-जी इंडस्ट्रीयल इंटरनेट आफ थिग्स“ विषय पर एक सप्ताह की कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला के उद्घाटन के मुख्य अतिथि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित एवं विशिष्ट अतिथि आई0 आई0 एस0 सी0 बैग्लोर से आये प्रो0 चंन्द्रमणी किशोर सिंह, विशेषज्ञ के रूप में आई0 आई0 टी0 रोपण के डाॅ0 सत्यम अग्रवाल एवं कोरिया के इं0 विशाल करीरा रहे। कार्यशाला की अध्यक्षता कार्यशाला की नोडल आॅफिसर डाॅ0 प्रियंका श्रीवास्तव ने की।
उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि अमेरिका एवं यूरोप के देशो में युवाओं को रोजगार के अवसर न तलाशते हुए अपने ही देश में 5-जी की टेक्नोलाॅजी को ग्रामीण क्षेत्रों में उपलब्ध कराने का अवसर पैदा करना चाहिए। इस प्रकार देश में रोजगार के साथ-साथ बेहतर टेक्नोलॉजी सबके लिए सुलभ हो सकेगी। प्रो0 दीक्षित ने कहा कि आज के परिवेश में टेक्नोलॉजी को जानने वाले समाज ओर न जानने वाले समाज के रूप में चिन्हित किया जायेगा। प्रतिभागियों एवं संस्थान के शिक्षकों से प्रो0 दीक्षित ने आह्वान किया कि समाज का प्रत्येक व्यक्ति आधुनिक तकनीक से परिचित हो सके इसके लिए कार्य किया जाये। आनलाइन बैकिंग, सोशल नेटर्वक का प्रयोग, स्मार्टफोन का प्रयोग जैसी तकनीक सभी लोगों तक सुलभ हो इस पर रिसर्च की आवश्यकता है। विशिष्ट अतिथि आई0 आई0 एस0 सी0 बैग्लोर के प्रो0 चंन्द्रमणी किशोर सिंह ने इंटरनेट आफ थिंग्स पर अपना विचार रखते हुए बताया कि यह क्षेत्र वर्तमान समय के लिए आवश्यक एवं महत्वपूर्ण है। इस क्षेत्र में चुनौतियों के साथ प्रगति की भी अपार संभावनाये है। आई0 आई0 टी0 रोपण के डाॅ0 सत्यम अग्रवाल ने नेटर्वक इन 5-जी नेटर्वक को कैसे बेहतर उपयोग के लिए बनाया जा सके इस विषय पर तकनीकी पक्षों को प्रस्तुत किया। कोरिया गणराज्य के इं0 विशाल करिरा ने वर्तमान ट्रेंड एवं तकनीक 5-जी के लिए जो मुख्य रूप आवश्यक है उस पर विस्तार से प्रकाश डाला। कार्यपरिषद सदस्य ओम प्रकाश सिंह ने कहा संस्थान निरन्तर तकनीकी शिक्षा में प्रगति की ओर अग्रसर है। यदि प्रगति की इसी गति पर हम गतिशील रहे तो आने वाले वर्षाें में संस्थान प्रदेश के अग्रणी संस्थानों में होगा।
कार्यशाला की अध्यक्षता कार्यशाला की नोडल आॅफिसर डाॅ0 प्रियंका श्रीवास्तव ने बताया कि कार्यशाला दूसरे दिन आई0 आई0 एम0 ट्रिची के डाॅ0 प्रशांत गुप्ता, डाॅ0 अंबेडकर इस्टीट्यूट की डाॅ0 रश्मि गुप्ता एवं मन्जू खारी का प्रमुख व्याख्यान प्रस्तुत करेंगे। संस्थान के शिक्षक इं. रमेश मिश्र ने स्वागत उद्बोधन में कार्यशाला के उद्देश्यों पर विस्तार से प्रकाश डाला । कार्यशाला का शुभारम्भ माॅ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन के साथ किया गया। अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ, स्मृति चिन्ह एवं अंगवस्त्रम भेंटकर किया गया। इस अवसर पर प्रथम एलुमिनी मीट के एलबम का अनावरण कुलपति द्वारा किया गया। कार्यशाला का संचालन इं. शाम्भवी शुक्ला ने किया। धन्यवाद ज्ञापन इं. अनुराग सिंह द्वारा दिया गया।
इस अवसर पर संस्थान के डॉ0 महिमा चैरसिया, डॉ0 ब्रजेश भारद्वाज, डॉ0 अतुल सेन, श्री अभिनव, इं. पारितोष त्रिपाठी,इं0 विनीत सिंह, इं. रमेश मिश्र, इं. कृति श्रीवास्तव, इं. श्वेता मिश्रा, इं. समृध्दि सिंह, सुप्रिया त्रिवेदी, इं. समरेन्द्र प्रताप सिंह, इं. अंकित श्रीवास्तव, इं. शोभित श्रीवास्तव, इं. नूपूर केसरवानी, ज्योति यादव, इं. आस्था कुशवाहा, इं. अवधेश दीक्षित, इं. प्रवीन मिश्रा, इं. अवधेश मौर्या, इं. अनुराग सिंह, इं. मनीषा यादव, इं. निशान्त सिंह, इ. पीयूष राय, दिलीप यादव , सुनील प्रभाकर , सौहार्द ओझा, शिक्षा जैन, आशीष पाण्डेय, निधि प्रसाद, रजनीश पाण्डेय, शाम्भवी शुक्ला, प्रदीप कुमार, अमित भाटी, अमित भारद्वाज, प्रेम शंकर, दीपक कोरी, मुरली, अमितेश, दीपक खरे, चन्द्रशेखर वर्मा, चन्दन अरोड़ा, महेश चैरसिया, आशुतोष मिश्रा, एवं अन्य कर्मचारी एवं छात्र छात्राए उपस्थित रहें।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.