The news is by your side.

विद्युत इंजीनियरों ने शुरू किया अनशन

-संगठन की 18 सूत्रीय मांगो को लेकर कर रहे प्रदर्शन

अयोध्या। संगठन की लंबित 18 सूत्रीय मांगों को लेकर राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर संगठन उत्तर प्रदेश की अयोध्या इकाई के जूनियर इंजीनियरों ने मंगलवार को मुख्य अभियंता मध्यांचल विद्युत वितरण खंड के कार्यालय प्रांगण में दो दिवसीय क्रमिक अनशन शुरू कर दिया अपने संगठन की मांगों को लेकर आंदोलित जूनियर इंजीनियरों ने जोरदार नारेबाजी करके विरोध को प्रकट किया।

Advertisements

इस संबंध में जानकारी देते हुए संगठन के अवर अभियंता जनपद अध्यक्ष इंजीनियर दिलीप कुमार ने बताया कि संघ प्रमुख लंबित मांगों में अवर अभियंता की एसीपी दीर्घा में आने वाले नान फंक्शनल ग्रेड वेतन 4800 वेतन मान को एसीपी की दीर्घा से विलोपित कर प्रथम समय बाद वेतनमान ग्रेड पे 5400 किया जाना इसके साथ ही सीधी भर्ती के सहायक अभियंता के द्वितीय एसीपी के प्रारंभिक वेतन वेतन वृद्धि लाभ के अनुरूपता में प्रोन्नति सहायक अभियंता के तृतीय एसीपी में प्रारंभिक वेतनमान पर दो वेतन वृद्धि का लाभ प्रदान किया जाना है का आदेश निर्गत किये जाना के अलावा सेवानिवृत्त अवर अभियंताओं और उन्नत अभियंताओं के विभिन्न समस्याओं के संदर्भ में पूर्व में संगठन द्वारा प्रेषित मांगों पर विचार कर लंबित प्रकरणों का निस्तारण शीघ्र कराया जाना शामिल है।

इसके साथ ही कोरोना संक्रमण से दिवंगत विद्युत कार्मिकों जूनियर इंजीनियर अभियंताओं के परिजनों को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा निर्धारित आर्थिक अनुग्रह राशि 50 लाख की स्वीकृति वह भुगतान यथाशीघ्र किया जाना के अलावा कुल 18 मांगें शामिल हैं जिनको लेकर अवर अभियंता आंदोलित हैं अब 21 और 22 सितंबर को दो दिवसीय क्रमिक अनशन होगा और 27 सितंबर तक मांगे ना पूरे होने की स्थिति में अनिश्चितकालीन क्रमिक अनशन शुरू कर दिया जाएगा धरना प्रदर्शन में इंजीनियर डीके शर्मा इंजीनियर डीपी सिंह इंजीनियर डीके यादव इंजीनियर प्रवीण त्रिपाठी इंजीनियर वाई के द्विवेदी इंजीनियर दिलीप कुमार के अलावा बड़ी संख्या में अवर अभियंता शामिल रहे संघ के जनपद अध्यक्ष दिलीप कुमार ने बताया है कि यदि मांगों पर विभागीय स्तर से आगामी 27 सितंबर तक प्रभावी कार्यवाही नहीं होती है तो अनिश्चितकालीन क्रमिक अनशन शुरू कर दिया जाएगा।

इसे भी पढ़े  उत्तर प्रदेश की 80 सीटें जीत रही है भाजपा : केशव प्रसाद मौर्या

 

Advertisements

Comments are closed.