The news is by your side.

कोविड प्रोटोकॉल में मनाया जायेगा दुर्गापूजा महोत्सव

-6 अक्टूबर को नया घाट से निकाली जाएगी कलश यात्रा

अयोध्या। केंद्रीय दुर्गा पूजा रामलीला समन्वय समिति अयोध्या धाम मंडल की बैठक नया घाट स्थित तिवारी मंदिर में महंत गिरीश पति त्रिपाठी की अध्यक्षता संपन्न हुई जिसमें पंचकोसी परिक्रमा मार्ग के अंतर्गत आने वाली 63 समितियों के पदाधिकारी एवं केंद्रीय समिति के पदाधिकारी शामिल हुए और सभी ने निर्णय लिया कि इस वर्ष भी दुर्गा पूजा का महा उत्सव कोविड प्रोटोकॉल के अंतर्गत मनाया जाएगा क्योंकि पूरे विश्व से कोरोना महामारी अभी समाप्त नहीं हुई है।

Advertisements

बैठक की अध्यक्षता करते हुए महंत गिरीश पति त्रिपाठी ने कहा कि पिछले डेढ़ वर्षो से देश ही नहीं पूरा विश्व कोरोना जैसी भयंकर बीमारी से लड़ रहा है इसमें हमारे बीच के ही हजारों लोग अब नहीं रहे इसलिए हमें सनातन परंपरा के अंतर्गत अपना उत्सव मनाना चाहिए लेकिन सरकार, डॉक्टर, वैज्ञानिकों के द्वारा जो प्रोटोकाल बताया जा रहा है उसको हम सभी को पालन करना चाहिए और केंद्रीय समिति सभी दुर्गा पूजा समितियों से नियमों का पालन करने का अनुरोध करती है।

अध्यक्ष रमापति पांडे ने बताया की जिला अधिकारी ने प्रशासनिक बैठक में यह बताया कि पिछले वर्ष जैसे हमने दुर्गा पूजा और रामलीला मनाया था वैसे ही इस वर्ष भी उत्सव मनाएंगे सार्वजनिक स्थल पर पंडाल नहीं लगाए जाएंगे पंडाल छोटे होंगे और नगर निगम द्वारा सभी पूजा स्थलों पर सफाई और दवा का छिड़काव किया जाएगा। संयोजक महंत धनुषधारी शुक्ला ने दुर्गा पूजा समितियों द्वारा दिए गए सुझाव को प्रशासन नगर निगम के अधिकारियों से बात करके पूजा बैठने के पहले समस्या का समाधान कराने का आश्वासन दिया और बताया कि पिछले वर्ष 63 स्थानों पर दुर्गा पूजा मनाया गया था इस वर्ष भी लगभग उतनी समितियां सभी नियमों का पालन करते हुए दुर्गा पूजा उत्सव मनाएगी। केंद्रीय समिति सभी पूजा समितियों की समस्याओं का समाधान कराने का प्रयास करेगा। उन्होंने बताया कि कलश स्थापना 7 अक्टूबर को होगी और विजयदशमी मां के प्रतिमा का विसर्जन 15 अक्टूबर को होगा।

इसे भी पढ़े  कुलपति ने प्रवेश प्रक्रिया को लेकर विभागाध्यक्षों के साथ की बैठक

कलश यात्रा प्रभारी बिंदु सिंह ने बताया कलश यात्रा 6 अक्टूबर को नया घाट से 3 बजे निकाली जाएगी। विसर्जन प्रभारी नंद कुमार मिश्र पेड़ा महाराज ने बताया कि फैजाबाद से अधिक मूर्तियां अयोध्या नया घाट पर विसर्जित होती हैं जिससे प्रशासन को अन्य वर्षो की अपेक्षा इस वर्ष विसर्जन की विशेष व्यवस्था करनी चाहिए केंद्रीय समिति विसर्जन के लिए विशेष प्रयास करें क्यों कि गोंडा बस्ती अयोध्या के आसपास की लगभग हजारों मूर्तियां नया घाट पर विसर्जित होती है। उपाध्यक्ष रमेश गुप्ता राना, प्रवक्ता अनु प्रताप सिंह, देवर्षिराम त्रिपाठी , पंकज गुप्ता,नितिन मिश्रा , अनुराग मिश्रा,विनोद पाठक, इंद्रजीत शुक्ला, कुलदीप यादव, प्रदीप पांडे सहित दर्जनों लोग उपस्थित रहे।

Advertisements

Comments are closed.