लापता अनुजा को लेकर प्रशासन ने नहीं होने दिया धरना



पार्टी नेताओं व व्यापारियों में आक्रोश

अयोध्या। 70 दिन से लापता 19 वर्षीया अनुजा गुप्ता को खोज पाने में विफल पुलिस के खिलाफ पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत सदर तहसील के सामने स्थित तिकोनिया पार्क में गुरूवार को आयोजित धरना को प्रशासन ने नहीं होने दिया। धरना की अनुमति जहां प्रशासन ने नहीं दिया वहीं बड़ी संख्या में पुलिस धरना स्थल पर पहुंचकर लोगों को वहां से खदेड़ा। प्रशासन के इस रूख से विभिन्न पार्टियों के राजनेताओं, समाजसेवियों और व्यापारियों में आक्रोश व्याप्त है।
धरना पर रोंक लगाये जाने से क्षुब्ध नेताओं और व्यापारियों ने पत्रकार वार्ता कर अपना आक्रोश व्यक्त किया। सपा के पूर्व राज्यमंत्री तेजनारायण पाण्डेय पवन ने कहा कि अनुजा के लापता होने का प्रकरण आम जनमानस की इज्जत से जुड़ा है। अनुजा के लापता हुए 70 दिन पूरे हो गये हैं और पुलिस की खोज जस की तस अटकी हुई है। उन्होंने कहा कि लापता बालिका के पिता प्रेम मोदनवाल भाजपा विधायक, जिलाधिकारी, एसएसपी सहित तमाम अधिकारियों से मिलकर गुहार लगा चुके हैं कि मेरी बेटी को बरामद करा दें या उसका लोकेशन हीं बता दें उन्होंने कहा कि प्रशासन के कान पर जूं नहीं रेंग रही है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का प्रशासन बेटी, बचाओ, बेटी पढ़ाओ का ढ़िढोरा पीट रहा है प्रशासन केवल चाटुकारिता में लगा है। व्यापारी वर्ग ने वोट देकर भाजपा की सरकार बनवाया है परन्तु इसी वर्ग से जुड़ी बालिका लापता है और पुलिस प्रशासन बालिका को खोजने के बजाय उसके पिता प्रेम मोदनवाल के घर पुलिस भेजकर उत्पीड़न कर रहा है। पत्रकार वार्ता में लापता बालिका के पिता प्रेम मोदनवाल, आप के प्रवक्ता सभाजीत सिंह, मनोज जायसवाल आदि मौजूद रहे।



Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More