The news is by your side.

प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की व्यवस्थाओं का डीएम ने लिया जायजा

-सभी टेंट सिटियों को अपेक्षित समय में पूर्ण करने का दिया निर्देश


अयोध्या। जिलाधिकारी नितीश कुमार ने आगामी 22 जनवरी को श्री राम जन्मभूमि मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में आमंत्रित विशिष्टजनों तथा उसके उपरांत अयोध्या धाम आने वाले श्रद्धालुओं/पर्यटकों को अयोध्या धाम में ठहरने की सुगम एवं उच्च स्तरीय व्यवस्था सुनिश्चित करने तथा उनके वाहनों को सुगमता से पार्किंग किए जाने आदि के दृष्टिगत बनायी जा रही टेंट सिटियों एवं वाहन पार्किंग स्थलों का स्थलीय निरीक्षण कर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये।

Advertisements

जिलाधिकारी ने साकेत पेट्रोल पंप के निकट नगर निगम द्वारा बनाई जा रही वीवीआईपी टेंट सिटी का निरीक्षण किया गया इस दौरान जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्था को टेंट सिटी में बेहतर से बेहतर व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने ठंड से बचाव हेतु अच्छे कंबल रखने तथा बेडशीट, कम्बल आदि सहित शौचालय व संपूर्ण टेंट सिटी में साफ सफाई की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित रखने के निर्देश दिए। उन्होंने टेंट सिटी के शेष कार्यों को तीव्र गति से करने तथा अपेक्षित समय में समस्त कार्यों को पूर्ण करने के निर्देश दिए। तदोपरांत जिलाधिकारी द्वारा स्फटिक शिला के निकट कच्चा पार्किंग की निरीक्षण किया वहां आने वाले लोगों हेतु उपलब्ध शौचालय आदि की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया तथा संबंधित कार्यदायी संस्था को समस्त शौचालय में निरंतर बेहतर साफ सफाई रखने के निर्देश दिए तथा शौचालय हेतु जगह-जगह निशुल्क शौचालय का शाइनिंग बोर्ड लगाए जाने के निर्देश दिए।

इसके उपरांत जिलाधिकारी द्वारा स्फटिक शिला के निकट मीरपुर ढाबा में बनाए जा रहे टेंट सिटी का निरीक्षण किया तथा कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए गए। जिलाधिकारी द्वारा बस अड्डे के निकट पर्यटन विभाग द्वारा बनाए जा रहे कला ग्राम (विभिन्न राज्यो एवं जनपदों से आने वाले कलाकारों के ठहरने हेतु बनाई जा रही टेंट सिटी) का निरीक्षण किया। इस अवसर पर उन्होंने बस अड्डे पर नगर निगम द्वारा बनाई जा रही डोरमेट्री का भी निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने सभी टेंट सिटियों को अपेक्षित समय में पूर्ण करने के निर्देश दिए तथा सभी टेंट सिटीयों में बेहतर साफ सफाई व्यवस्था रखने, शौचालय को एवं पेयजल की अच्छी व्यवस्था रखने के निर्देश दिए।

इसे भी पढ़े  दबंगों ने दो युवकों को खंभे में बांधकर पीट, एक की मौत, दूसरा बेहोश

उन्होंने प्रत्येक टेंट सिटी में वर्षा जल निकासी के भी अच्छी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर जिलाधिकारी द्वारा बस अड्डे पर पहुंच चुके इलेक्ट्रिक वाहनों का भी जायजा लिया उन्होंने बताया कि 14 जनवरी तक 50 इलेक्ट्रिक बसें तथा 50 ऑटो अयोध्या में आ जाएंगे जिनका संचालन योजनाबद्ध तरीके से किया जाएगा। इससे यहां आने वाले श्रद्धालुओं एवं पर्यटकों को श्री राम जन्म भूमि मंदिर सहित विभिन्न मठ मंदिरों एवं प्रमुख पर्यटक स्थलों तक पहुचने में सुगमता होगी। इस अवसर पर विशेष सचिव नगर विकास राजेंद्र पेंसिया व अन्य संबंधित अधिकारी भी उपस्थित रहे।

20 जनवरी से बंद हो जाएंगे रामलला के दर्शन

-रामलला का दर्शन-पूजन के लिए आने वाले श्रद्धालु 20 जनवरी से रामलला के दर्शन नहीं कर पाएंगे। प्राण-प्रतिष्ठा समारोह के चलते ट्रस्ट ने दर्शन-पूजन पर रोक लगाने का निर्णय लिया है। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के मंदिर निर्माण में सहयोगी गोपाल जी राव ने बताया कि समारोह को देखते हुए अब 23 जनवरी से श्रद्धालुओं को रामलला के दर्शन भव्य राम मंदिर में मिलेंगे। साथ ही उन्हें यात्री सुविधाओं का लाभ भी मिलेगा

उन्होंने बताया कि यहां प्रतिदिन लगभग दो लाख श्रद्धालुओं के लिए यात्री सुविधाओं के रूप में लॉकर, आराम करने की जगह, चिकित्सा सुविधा के साथ शौचालय की व्यवस्था होगी। यात्री सुविधा केंद्र में एक साथ 25 हजार लोग अपने मोबाइल, पर्स व सामान रख सकते हैं। यहां पर तीन हजार यात्रियों के एक साथ बैठने की सुविधा भी होगी। उन्होंने कहा कि एक लॉकर में कई यात्री अपने सामान रख सकेंगे। इसी तहर दिन भर में पांच बार बारी-बारी से दो लाख लोगों को यात्री सुविधा केंद्र के लाभ से लाभांवित होंगे।

इसे भी पढ़े  54 फैजाबाद लोकसभा : मतदान केन्द्रों पर पहुंची पोलिंग पार्टियां

वहीं यात्रियों के लिए 10 बेड का मिनी अस्पताल भी होगा। जहां चिकित्सकों की टीम 24 घंटे उपलब्ध रहेगी। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचित चम्पत राय का कहना है कि 16 जनवरी से ही प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान शुरू हो जाएगा। 18 जनवरी से अधिवास पूजन व अन्य पूजन का कार्य प्रारंभ होंगे। जिसको देखते हुए 20 जनवरी से भक्तों को रामलला के दर्शन नहीं होंगे। पूजन के दौरान सिर्फ कुछ लोग ही वहां पर मौजूद होंगे। 20 से 22 तक अयोध्या में विशिष्ट अतिथियों का आवागमन होगा। ऐसे में यहां पर आना संभव नहीं हो सकेगा। लोग अपने घरों और निकट के मंदिरों पूजन और धार्मिक अयोजन करें और शाम को अपने घरों के बाहर पांच दीपक जरूर जलाएं। 23 जनवरी से अयोध्या आने की योजना बनाएं।

Advertisements

Comments are closed.