डीएम ने पशु आश्रय स्थल का किया निरीक्षण

अयोध्या। जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने ग्राम पंचायत, शहबाबाद गरंट, विकास खण्ड मिल्कीपुर में निर्माणाधीन पशु आश्रय स्थल तथा विकास खण्ड आमनीगंज के ग्राम पंचायत रामपुर गौहनिया में क्रियाशील चारागाह/पशुचर/पशुआश्रय स्थल का स्थलीय निरीक्षण किया।
जिलाधिकारी श्री झा ने शहबाबाद गरंट के पशु आश्रय स्थल के निरीक्षण के दौरान पशुओं को खाने के लिए बनाये जा रहे नाद की ऊचांई एक फिट और बढ़ाने के निर्देश कार्यदायी संस्था को दिए। उन्होनें कहा कि निर्माण कार्य गुणवत्ता में कोई कमी नही होनी चाहिए, टीन शेड के निर्माण में अच्छी क्वालटी पाइप, सीमेन्ट की चादर को लगाये, दिवार चुनाई में अच्छी क्वालटी की ईंटो एवं बालू का प्रयोग करें, सीमेन्ट की मात्रा मानक के अनुसार हो। उन्होनंे निर्माणाधीन भूसे/चारा के रखने हेतु घर तथा केयरकेटर के निर्माणाधीन आवास का भी निरीक्षण किया।
जिलाधिकारी ने उक्त सभी निर्माण कार्यो की गुणवत्ता की जांच करने हेतु मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा0 अशोक कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में 03 सदस्यीय तकनीकी समिति के गठन के निर्देश दिये, जिसमें 02 एक्सईएन होगें। उन्होनंे मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि यह समिति प्रत्येक सप्ताह कराये गये कार्यो के गुणवत्ता की जांच रिपोर्ट फोटो के साथ हमे उपलब्ध करायें। उन्हांेने कार्यदायी संस्था से कहा कि कार्य में तेजी लाये और निर्माणाधीन टीन शेड पशुओं के पीने हेतु पानी के टैंक, भूसे के घर, केयरटेकर के आवास व शौचालय के निर्माण कार्य को शीघ्र पूर्ण करें। उन्होनें एक हैण्डपम्प, समरसीवर के लिये सोलर पैनल व छाया हेतु वृक्षारोपण कराने के भी निर्देश दिए।
जिलाधिकारी ने पशु आश्रय स्थल के बाउण्ड्री के कार्य को भी शीघ्र करायंे व पशुओं के चारे की व्यवस्था हेतु आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये, जिससे जल्द से जल्द आवारां पशुओं को पकड़कर इसमें रखा जा सके और इनके द्वारा किसानो की फसलों को हो रहे नुकसान से बचाया जा सके। इसके उपरान्त जिलाधिकारी ने विकास खण्ड अमानीगंज के ग्राम पंचायत रामपुर गौहनिया के चारागाह/पशुचर का निरीक्षण किया, यहां पर कुल 90 आवारांपशुओ को रखा गया है, पशुओं के चारे हेतु भूसे की पर्याप्त व्यवस्था है, पशुओं के पीने के पानी के लिए तालाब व टैंक की व्यवस्था की गई है, यहां पर जिलाधिकारी ने चारागाह के चारो तरफ बनाई गयी खांई पर सुबबूल के पेड़ो को रोपित कराने के निर्देश सीबीओ को दिए, जिससे खांई की मिट्टी के अपरदन को रोका जा सके, इस दौरान उन्होनंे पशुओं की संख्या के अनुसार प्रतिदिन चारे/भूसे की खपत पशुओं के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण व टीकाकरण तथा पशुओं के बधियाकरण के रजिस्टर को देखा, उन्होनें कहा कि सभी रजिस्टरो को अपडेट रखें और बधियाकरण से बचे हुये पशुओ के बधियाकरण का कार्य शीघ्र पूर्ण करें। इस अवसर पर मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा0 अशोक कुमार श्रीवास्तव, डिप्टी सीवीओ श्रीकृष्णा, डा0 धनंजय मिश्रा, डा0 अमित श्रीवास्तव, कार्यदायी संस्था के एक्सईएन एसके मिश्रा आदि उपस्थित थे।

Facebook Comments
इसे भी पढ़े  कीटनाशक पीने से विवाहिता की दर्दनाक मौत