in

समाज में महिलाओं के साथ नहीं होना चाहिए भेदभाव : करुणा सिंह

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर विधिक साक्षरता शिविर का हुआ आयोजन

अयोध्या। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण फैजाबाद के अध्यक्ष/जनपद न्यायाधीश के निर्देशन में द्वापर विद्यापीठ इण्टर कालेज बरईपारा में राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए राजेन्द्र प्रसाद तिवारी नामिका अधिवक्ता ने कहा कि हमारे देश में बालिका दिवस का आयोजन देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री श्रीमती इन्दिरा गांधी के प्रधानमंत्री पद पर पदस्थ होने के दिनांक 24 जनवरी 1966 से मनाया जा रहा है। सरकार द्वारा महिलाओं के लिए कई प्रकार के कानून बनाये गये हैं जिससे वे अपने अधिकारों के विषय में जानकारी प्राप्त कर सकती हैं और उनके साथ यदि किसी प्रकार की कोई घटना अथवा अपराध होता है तो वह नजदीक के थाने अथवा पुलिस अधीक्षक के माध्यम से प्रार्थना पत्र देकर अपने अधिकार के विषय में जानकारी व मदद ले सकती हैं। आज के समय में महिलाएं हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं चाहे वह शिक्षा का क्षेत्र हो या अन्य कोई क्षेत्र हो। हमें चाहिए कि हम महिलाओं का सम्मान करें और सहयोग प्रदान करें। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव करूणा सिंह ने बताया कि भारतीय संस्कृति में पितृ सत्ता प्रारम्भ से ही सर्वोपरि रही है पारम्परिक प्रथाओं में महिलाओं के साथ भेदभाव को आसानी से देखा जा सकता है। बालिकाओं के साथ भेदभाव करना हमारी मानसिकता में गहराई से समाया हुआ है यह भेदभाव बालिकाओं के साथ शिक्षा, पौष्टिक आहार, स्वास्थ्य देखभाल जैसी मूलभूत जरूरतों में देख सकते हैं। इन सामाजिक कुरीतियों को बनाने एवं पोषित करे वाला कोई और नहीं अपितु हमारा समाज है। गर्भ में भी कन्या को समाप्त करना केवल बच्चों के अधिकारों का हनन ही नहीं बल्कि एक मां के अधिकारों का भी हनन है। समाज में लोगों को महिलाओं के प्रति अपनी सोच को बदलना चाहिए और लड़का व लड़की में कोई भेदभाव न करते हुए सभी को समान रूप से पूरा अवसर देना चाहिए जिससे बालिकाओं में हीन भावना दूर हो सके। आज की बालिकाएं ही आगे चलकर अपने परिवार व देश का नाम उज्जवल करेंगी। कार्यक्रम का संचालन प्रभारी प्रधानाचार्य टी.पी. मिश्रा ने किया। कार्यक्रम में छात्रा प्रीती प्रजापति व स्वेता कसौधन ने गीत के माध्यम से लोगों जागरूक किया। कार्यक्रम को धु्रव गुप्ता व दान बहादुन ने भी सम्बोधित किया। इस मौके पर ठाकुर प्रसाद उपाध्याय, कपिल देव तिवारी, सीमा श्रीवास्तव, राम आशीष गौड, अनन्तराम यादव, रामवचन माझी, अभिषे गौतम, सत्य नारायण सिंह, बच्चू पाल, मिथलेश्वरी मिश्र, राजेश प्रताप सिंह व क्षेत्र के तमाम लोग उपस्थित रहे।

What do you think?

Written by Next Khabar Team

प्रो. कल्याण सिंह के निधन पर हुई शोक सभा

उद्यमिता विकास के लिए छात्राएं रहे तैयार : डॉ. सुमन