The news is by your side.

बेटियाँ देश का भविष्य, राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान : आर.एन. यादव

-घर बैठे खाता खुलवाने के लिए जारी हुआ फोन नम्बर, 14 अक्टूबर तक चलेगा अभियान

अयोध्या । मण्डल के सभी डाकघरों में “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान के अन्तर्गत “समृद्धि सुकन्या- समृद्ध समाज“ अभियान की शुरूआत रौनाही तथा भेलसर उपडाकघर में डाक कर्मियों को डोर टू डोर के लिए हरी झंडी दिखाकर मण्डल के प्रवर अधीक्षक डाकघर आर एन यादव ने किया ।  अभियान की शुरुआत के दौरान डाक कर्मियों ने घर घर जाकर ग्रामवासियों को सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाने के लिए जागरूक भी कर रहे हैं ।

Advertisements

रौनाही डाकघर में “समृद्धि सुकन्या-समृद्ध समाज“ अभियान की शुरूआत करते हुए श्री यादव ने कहा कि जब आज की बेटियाँ समृद्ध होंगी तभी होगा देश खुशहाल क्योंकि बेटियाँ देश का भविष्य है और राष्ट्र निर्माण में इनका महत्वपूर्ण योगदान है। भारत सरकार के अभियान ’बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ’ के अन्तर्गत हम सभी लोगों का दायित्व है कि बेटियों के भविष्य को संवारने के लिए एक सार्थक कदम उठाएं। बेटियां ही 21 वीं सदी में हमारे देश का भविष्य हैं। साथ ही यह भी कहा कि भारत सरकार द्वारा नारी सशक्तिकरण की दिशा में तमाम महत्वपूर्ण योजनाएँ चलायी जा रही हैं।

इसी क्रम में डाकघरों में सुकन्या  समृद्धि योजना में धन जमा करने से माँ-बाप अपनी बेटी के भविष्य को संवारने में अहम भूमिका निभायेंगे। इससे बेटियों को आर्थिक व सामाजिक रूप से भविष्य में मजबूत किया जा सकता है कन्या भ्रूण हत्या रोकने, महिला सशक्तिकरण, उच्च शिक्षा में  सुकन्या समृद्धि योजना राष्ट्र निर्माण में सहायक होगी। इस दौरान डाक निरीक्षक सिंकू रावत  ने कहा कि डाकघर गरीब अमीर सभी वर्ग के साथ एक सामान व्यवहार करता है डाकघर में छोटी छोटी रकम जमा करके अधिक धन एकत्र किया जा सकता है डाकघर की सभी योजनाएं जनता के लिए लाभकारी हैं ।

इसे भी पढ़े  कृषि विवि में स्नातक अंतिम वर्ष का फाइनल रिजल्ट घोषित

मुख्य विपणन अधिकारी सत्येन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि “समृद्धि सुकन्या-समृद्ध समाज“ अभियान का मुख्य उद्देश्य सभी बेटियों को आर्थिक मजबूती देना है । साथ ही यह भी बताया कि यदि कोई अविभावक डाकघर नही पहुंच सकता है उनके लिए 05278-222215, 9415140809 पर फोन व्हाट्सएप करके अपने घर बैठे खाता डाकिया के माध्यम से खाता खुलवाया जा सकता है। इस दौरान जयशंकर प्रसाद वर्मा, अम्बिका दुबे, पवन गुप्ता, रवि गुप्ता, बृजेन्द्र पाण्डेय शशि कला, साक्षी दीक्षित, शैव्या स्वाति, सरोज आदि मौजूद रहे।

 

Advertisements

Comments are closed.