क्यू क्लब के प्रशिक्षार्थियों को दिया गया प्रमाण पत्र

Advertisement

अयोध्या। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन व सिफ़्सा के संयुक्त तत्वधान में यूथ फ्रेंडली केंद्र क्यू क्लब के 40 प्रशिक्षार्थियों का दो दिवसीय कार्यशाला डॉ राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग में संपन्न हुआ ।इस प्रशिक्षण कार्यशाला में युवाओं के विभिन्न मनोस्वास्थ्य समस्याओं का निदान व समाधान का व्यवहारिक प्रशिक्षण दिया गया । युवा मनोपरामर्श की युवा सड़क दुर्घटना विशेष कार्यशाला सत्र का समापन क्यू क्लब के नोडल अधिकारी व समाजकार्य विभाग के समन्यवक डॉ विनय मिश्रा द्वारा किया गया।ट्रेनिंग सत्र का संचालन सिफ़सा के कार्यक्रम अधिकारी डॉ दिनेश सिंह व किशोर व युवा मनोपरामर्षदाता डॉ आलोक मनदर्शन द्वारा किया गया।
कार्यशाला में यह बात उभर कर सामने आयी कि बढ़ती हुई किशोर सड़क दुर्घटनाएं उनमें बढ़ते हुए मानसिक तनाव व मनो अगवापन का भी एक उदाहरण है। जिस तरह आज के किशोरों में तनाव, कुण्ठा, हताषा,अवसाद व उन्माद जैसी नकारात्मक मनोदशायें उन्हे अपना शिकार बना रही हैं, तथा हर साल टीनेज ड्राइवर्स की संख्या बढ़ रही है। उसका परिणाम बढ़ती हुई किशोर सड़क दुर्घटनाओं के रूप में भयावक रूप लेती जा रही है।
अन्य आयु वर्ग के मुकाबले किशोर सड़क दुर्घटनाओं की सम्भावना चार गुना अधिक हो गयी है। प्रत्येक तीन किशोरो में से एक की मौत सड़क दुर्घटना से हो रही है। तनाव, कुण्ठा, अवसाद व उन्वाद ग्रसित किशोर वाहन चलाते समय भी पूर्ण चैतन्य की अवस्था में न रहकर अपने अर्धचेतन में चल रहे तनाव व द्वन्द वाले विचारों व मनोभावों में खोये रहते हैं। जिससे वह अपेक्षित सतर्कता व ध्यान से वाहन नहीं चला पाते। दूसरी तरफ उन्माद से ग्रसित लोग अति आत्मविश्वास व हैरत अंगेंज रोमांचंक मनोदशा को संतुष्ट करने के लिए तेज रफ्तार से रोमांच की प्राप्ति करते हैं और यह असंयमित मनोदशा सड़क दुर्घटना का कारण बन सकती है।रही कसर नशावृत्ति पूरी कर रही है ।पैरेन्टल रोड मॉडलिंग व पीयर ग्रुप कम्प्लायन्स का भी अहम रोल है। प्रशिक्षण के समापन सत्र में क्विज़ प्रतियोगिता में सौरभ श्रीवास्तव विनर व हर्षित कुशवाहा रनर रहे। साक्षी श्रीवास्तव , रजनीश पांडेय व सौरभ सिंह तीसरे , चौथे व पांचवे स्थान पर रहे। सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र भी दिया गया।