in ,

अवध विवि ने इंफ्रास्ट्रचर के लिए शासन से मांगा 21.02 करोड़

-कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह की अध्यक्षता में हुई कार्यपरिषद की बैठक

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के कौटिल्य प्रशासनिक भवन में बुधवार को कार्यपरिषद की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह ने की। कुलसचिव उमानाथ ने कार्यवृत्त पटल पर रखा।

बैठक में विश्वविद्यालय 3,900 हैक्टेयर भूमि व उस पर अवस्थित परिसम्पत्तियों को उच्च शिक्षा विभाग द्वारा नागरिक उड्डयन विभाग को निःशुल्क अन्तरित किए जाने हेतु अनुमोदन प्रदान किया गया। इसमें प्रमुख रूप से कुलपति आवास सहित कुल 27 भवन हवाई पटटी अंतरित किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त नवीन परिसर के तीन नये भवन भी है। विश्वविद्यालय ने शासन से इंफ्रास्ट्रचर के लिए 21.02 करोड़ रूपये की मांग का प्रस्ताव भेजा है।

बैठक में संघटक राजकीय महाविद्यालयों जिसमें राजकीय महाविद्यालय, चुग्घूपुर सुलतानपुर, राजकीय महाविद्यालय, खण्डासा मिलकीपुर, अयोध्या, राजकीय महाविद्यालय भवानीपुर, इटिया गोण्डा की सामान्य व्यवस्था, प्रशासनिक व्यवस्था, वित्तीय व्यवस्था एवं शैक्षिक व्यवस्था के संचालन हेतु गठित परिषद् की बैठक 28 सितम्बर, 2021 में लिए गये निर्णयों के अनुमोदन पर विचार किया गया। बैठक में आवासीय परिसर में स्ववित्तपोषित योनान्तर्गत संचालित पाठ्यक्रमों में संविदान्तर्गत रिक्त पदो के सापेक्ष अध्यापन कार्य हेतु 25 व 26 सितम्बर, 2021 को सम्पन्न चयन समिति की संस्तुतियों का अनुमोदन किया गया।

बैठक के पूर्व 31 जुलाई ,2021 की कार्यवृत्त की पुष्टि किया गया। परीक्षा समिति की बैठक दिनांक 14 अगस्त, 2021 एवं 24 सितम्बर, 2021 की कार्यवृत्त की पुष्टि किया गया। इसी क्रम में वित्त समिति की बैठक 24 सितम्बर 2021 एवं सम्बद्धता समिति की बैठक की कार्यवृत्त का अनुमोदन किया गया। बैठक में प्रो० आशुतोष सिन्हा, डॉ० संग्राम सिंह, डॉ० जगदीश सिंह, डॉ० इन्दुशेखर उपाध्या, प्रो० अरविन्द कुमार मिश्रा, प्रो० गोपालनाथ, प्रो० रवीन्द्र नाथ खरवार, डॉ० सिन्धू सिंह, डॉ० जगवीर सिंह, प्रो० चयन कुमार मिश्रा, वित्त अधिकारी विशेष आमंत्रित सदस्य उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े  कांवड़ यात्रा को लेकर मण्डलायुक्त ने व्यवस्थाओं का किया निरीक्षण

What do you think?

Written by Next Khabar Team

बढ़ता मनोसन्ताप बढ़ा रहा रक्तचाप : डा. आलोक मनदर्शन

नौकरी के पीछे भागने के बजाए स्वयं को बनाएं रोजगार देने योग्य : डॉ. डी.एस. चौहान