खून में हीमोग्लोबिन की कमी ही एनीमिया रोग : एसडीएम

छात्राओं ने निकाली एनीमिया जागरूकता रैली

Advertisement

रुदौली। एनीमिया मुक्त भारत के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से आवासीय कस्तूरबा गांधी विद्यालय से सीएचसी तक शनिवार को जागरूकता रैली निकाली गई।रैली में छात्राओं के अलावा राष्ट्रीय बाल विकास स्वास्थ्य टीम व सीएचसी का स्टाफ शामिल रहा। सीएचसी पहुची जागरूकता रैली में शामिल छात्राओं को पुरुस्कार वितरित करते हुए एसडीएम विंपिन सिंह ने कहा कि एनीमिया के इलाज की सुविधा सीएचसी रुदौली पर भी उपलब्ध है।उन्होंने छात्राओं से घर के आस पास व घर मे एनीमिया के लक्षण पाए जाने पर तत्काल सरकारी अस्पताल भेजवाने का आग्रह किया। वही सीएचसी अधीक्षक डॉ पीके गुप्ता ने कहा कि खून में हीमोग्लोबिन की कमी ही एनीमिया रोग है। यह किसी को भी हो सकता है। थकान महसूस होना, बार-बार गला सूखना, आंखों में पीलापन, बालों का झड़ना आदि इसके लक्षण हैं। ऐसा कोई भी लक्षण दिखने पर डॉक्टर को दिखाना चाहिए। खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा पुरुषों में 12 से 16 और महिलाओं में 11 से 14 होनी चाहिए। गर्भवती महिलाओं को एनीमिया बीमारी होने का खतरा अधिक रहता है तो उन्हें गर्भावस्था के दौरान समय-समय पर जांच अवश्य करानी चाहिए। पेट के कीड़ों और परजीवियों के कारण अधिक यह बीमारी होती है। बच्चों को समय-समय पर अभियान के तहत एलबेंडाजोल की गोली भी खिलाई जाती है। इससे पूर्व सीडीपीओ सिद्धदात्री पांडेय व डॉ मनीष कुमार ने हरी झंडी दिखाकर रैली को रवाना किया । इस मौके ओर डॉ मोइनुद्दीन,सुनीता त्रिपाठी,चन्द्र बहादुर यादव,अनिल कुमार आदि लोग मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े  54वीं पुण्यतिथि पर वीर सावरकर को हिंदू महासभा ने किया नमन