प्रशासन ने धर्मसेना को मुख्य मंत्री से मिलने से रोका

धर्मसेना का आरोप प्रशासन लोकतंत्र व रामभक्तों का घोट रहा है गला

 भव्य राम मन्दिर में अडंगा डालने वाले कालनेमियों का होगा बुरा हश्र

Advertisement

अयोध्या-फैजाबाद। प्रशासन द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ से मिलने से रोके जाने से धर्म सेना के पदाधिकारी बुरी तरह आक्रोशित हो उठी है धर्मसेना /हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनीष पाण्डेय ने प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा है कि प्रशासन जान बूझ कर ऐसा कर रहा है दोहरी व तुच्छ मानसिकता से ग्रसित होकर प्रशासन राम भक्तों व लोकतंत्र का गला घोंट रहा है इससे पूर्व भी मण्डलायुक्त ने धर्मसेना का ज्ञापन लेने से इनकार कर अपनी मंशा जाहिर कर दी थी धर्मसेना के संस्थापक संतोष दूबे ने कहा कि राम मन्दिर की असली बाधा जिला प्रशासन ही है सामाजवादी मानसिकता से पीड़ित न सिर्फ प्रशासन को बल्कि भविष्य में केन्द्र व राज्य सरकार को इसके गंम्भीर परिणाम भुगतने पडे़गें साकेत महाविद्यालय के पूर्व प्राचार्य डा0 एच0बी0सिंह ने कहा कि शासन प्रशासन की नियम साफ नहीं है इसी लिए वह ऐसे अड़गें बार-बार लगा रही है सामाजिक कार्यकर्ता वेद राजपाल ने कहा कि धर्म सेना की बढ़ती लोकप्रियता कुछ लोगों को हजम नही हो रही है मंहत सोमेश नाथ , सामाजिक कार्यकता संजय महेन्द्रा व अधिवक्ता कमलेश सिंह, ने भी प्रशासन पर जोर दार हमला बोलते हुए कहा कि राम मन्दिर मुद्दे पर आने वाली ऐसी छुट पुट बाधाओं से हम विचलित नहीं होगें कालनेमियों को उनके किये के परिणाम जल्द ही भुगतना पड़ेगां।

इसे भी पढ़े  बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया प्रधानमंत्री मोदी का जन्मदिन