नकली आईडी बनाकर बैंक से उड़ा लिए 11 लाख रुपये

गोसाईगंज में बड़ी साजिश का हुआ भंडाफोड़

गोसाईगंज । पंजाब नेशनल गोसाईगंज के मामले में गोसाईगंज कोतवाली के विवेचक उपनिरीक्षक रामउग्रह कुशवाह के प्रयास से एक अभियुक्त महेंद्र कुमार उर्फ जोखू पुत्र हरिहर पांडे गिरफ्तार किया।
फेक आईडी युक्त खाते में भुगतान हो गया गरीब राम उदित को आज भी भुगतान पाने के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है।   ऐसे मामले का सफल अनावरण कर विवेचक राम उग्रह कुशवाह ने शातिर अपराधी को किया गिरफ्तार। यह एक सामाजिक अपराध है। संदीप श्रीवास्तव मधुर कोरियर का काम करता है 13 लाख रुपये का 4 चेक एक लिफाफे में पैक हुआ लिफाफे में एक होने के बाद कम कम अकाउंट का चेक वेरीफिकेशन होकर चला आया उसमें से दो चेक गायब कर दिया जो 11 लाख के ऊपर अमाउंट का था। उसके बाद फर्जी आईडी कोलकाता में खाता खुलवा दिया गया। जगाधरी हरियाणा के बैंक के कैनारा बैंक में लगा दिया गया। वहीं से क्लियर कर के भुगतान कर दिया गया। फेक आईडी कोलकाता भेज गया। जो आदमी उसको निकाल लिया। उस आदमी पहचान नहीं हो पाई। ऐसे मामले में छह ब्रांच मैनेजर व कोरियर वाले के संलिप्तता पर अभी और इस रैकेट के सदस्य हो सकते हैं गिरफ्तार।
इस मामले में गोसाईगंज कोतवाली के एसएसआई राम उग्रह कुशवाह ने पत्रकारों को बताया कि मुकदमा संख्या 15/2013 धारा 419 420 467 468 471 406 120 बी आईपीसी बनाम संजय श्रीवास्तव तत्कालीन शाखा प्रबंधक पंजाब नेशनल बैंक गोसाईगंज के मामले में विवेचक उप निरीक्षक राम उग्रह कुशवाह प्रकाश कुमार गुप्ता रंजीत सिंह रजौरी सिंह जगाधारी बैंक हरियाणा विनोद कुमार सिंह श्रीमती भावना आर्य केनरा बैंक यमुनानगर हरियाणा पार्थ सार्थी दास गरियाहाट रोड कोलकाता इन लोगों की संलिप्तता पाई गई। पीड़ित राम उदित विष्णु जमुनीपुर स्नेही पांडे का पूरा थाना गोसाईगंज ने की तहरीर पर 8 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। जिसमें मधुर कोरियर के अभियुक्त महेंद्र कुमार उर्फ़ जोखू पुत्र हरिहर पांडे निवासी सेमरी बल्लीपुर थाना हैदरगंज अयोध्या को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। एसएसआई राम उग्रह कुशवाहा कहा कि इस रैकेट में और भी लोग गिरफ्तार हो सकते हैं।

इसे भी पढ़े  बिम के नीचे दबकर मजदूर की मौत

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More