वरिष्ठ पत्रकार व पूर्व राज्यसभा सदस्य राजनाथ सिंह ‘सूर्य’ का निधन

ब्यूरो । अयोध्या जनपद के जनौरा मोहल्ले के निवासी भारतीय जनता पार्टी के पूर्व राज्यभा सदस्य, प्रख्यात चिंतक और विचारक राजनाथ सिंह सूर्य का 84 वर्ष की उम्र में गुरूवार की सुबह गोमतीनगर के पत्रकारपुरम स्थित आवास में निधन हो गया। वह कंपन रोग से पीडित थे। उन्होंने काफी समय पहले से ही मेडिकल कॉलेज को अपने शरी के देहदान की घोषणा की थी। राजनाथ सिंह सूर्य का पार्थिव शरीर किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ में रखा जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दी अन्तिम विदाई

राजनाथ सिंह सूर्य के निधन की सूचना पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ ही डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन, लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया के साथ वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी तथा नेता उनके आवास पर पहुंचे और उनको अंतिम विदाई दी। राजनाथ सिंह सूर्य के निधन की सूचना के भाजपा के दिग्गज नेताओं के साथ पत्रकारिता जगत भी स्तब्ध रह गया। राजनाथ सिंह सूर्य के निधन की खबर मिलते ही सुबह से आवास पर पत्रकार जगत के साथ ही राजनेताओं के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। सभी ने शोक संतप्त परिवार को अपनी सांत्वना दी। उन्होंने लोकसभा चुनाव 2019 से पहले ही मीडिया के पक्ष में जोरदार अभियान चलाया था। उनका मानना है कि हर विषय पर मीडिया को झूठा सिद्ध करने का प्रयास किया जाता है। उन्होंने कहा कि जिनका अस्तित्व समाप्त हो रहा है, वे तो अपनी खीझ मिटाने के लिए इस तरह की बातें करते हैं। यह खुद की आत्महत्या करने जैसी बात है। इससे उनका खुद का नुकसान हो रहा है। जिसका राजपाट छिनता है, वह गाली तो दे ही सकता है। उन्होंने कहा कि इस समय चाहे लोग अच्छा कहें या बुरा कहें, सबकुछ दिखाने की छूट है।
राजनाथ सिंह सूर्य का जन्म 3 मई 1937 को अयोध्या जनपद के मोहल्ला जनौरा के एक सामान्य किसान परिवार में हुआ। उनकी प्रारम्भिक शिक्षा आर्यसमाज के विद्यालय में हुई और बाल्यावस्था में ही वह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सम्पर्क में आये। देश के स्वतंत्रता संग्राम के साथ ही संघ कार्य का दायित्व निभाया। इसके बाद गोरखपुर विश्वविद्यालय से 1960 में एमए करने के बाद वह तत्कालीन प्रान्त प्रचारक भाउराव देवरस की प्रेरणा से संघ के प्रचारक बने। राजनीतिक सोच और वैचारिक स्पष्टता के कारण उन्हें पत्रकारिता और राजनीति दोनों ही क्षेत्रों में सफलता मिली। देश के दिग्गज नेता भी उनकी लेखनी का लोहा मानते रहे। हिन्दी पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने लम्बे अनुभव के कारण उनका नाम हमेशा से ही बड़े आदर के साथ लिया जाता रहा।
उन्होंने भाजपा के प्रदेश महामंत्री का भी दायित्व संभाला। वह 1996 से 2002 तक राज्यसभा सांसद भी रहे। श्री सिंह के दो बेटे और एक बेटी हैं। राजनाथ सिंह अपने लेखन के जरिए पत्रकारिता जगत में सक्रिय रहे। वह लगातार समसामयिक मुद्दों पर लेखन के जरिए अपने विचार व्यक्त करते रहे। उनकी श्अपना भारतश् पुस्तक पाठकों के बीच आज भी बेहद लोकप्रिय है।
राजनाथ सिंह सूर्य हिन्दुस्तान समाचार, बहुभाषी न्यूज एजेंसी लखनऊ से पत्रकारिता की शुरुआत की। कई वर्षों तक आज समाचार पत्र के ब्यूरो प्रमुख रहे। 1988 में वह दैनिक जागरण के सहायक सम्पादक बने और बाद में स्वतंत्र भारत के सम्पादक भी रहे। इसके बाद स्वतंत्र पत्रकारिता के माध्यम से हमेशा अपनी लेखनी को धार देते रहे।

इसे भी पढ़े  कुल्हाड़ी से हमलाकर चचेरे भाई ने किया मरणासन्न, लखनऊ रेफर

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More