राम काज किन्हें बिना मोहि कहां विश्राम.. : योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री ने महंत नृत्य गोपाल दास के जन्मोत्सव का किया उद्घाटन

अयोध्या। सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया महंत नृत्य गोपाल दास के जन्मोत्सव का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम का जन्म इस धरा धाम पर जिस हेतु हुआ था उन मूल्यों एवं आदर्शों का स्थापना के लिए हम कैसे सहभागी बन सकते हैं, उस पर चिंतन मनन का अवसर इस धार्मिक आयोजन से हमें प्राप्त होता है । राम का जीवन लोकमंगल के लिए धर्म सत्य की स्थापना के लिए है जीवन मूल्यों की स्थापना के लिए है । जहां बिना भेदभाव के आगे बढ़ने के संदेश प्राप्त होता है। इस देश का सौभाग्य है कि इस वर्ष दो बड़ी घटनाएं हुई हैं पहली घटना या है कि नरेंद्र मोदी की सरकार को भारत की जनता ने फिर से बंद बहुमत देकर विजई बनाया है। लोक कल्याण के लिए समर्पित मोदी सरकार को आशीर्वाद दिया है । मोदी सरकार की विजय भारत को महाशक्ति के रूप में स्थापित करने के साथ ही दुनिया के सामने मानवता के कल्याण का मार्ग भी प्रशस्त करेगी । कहा कि शांति और सौहार्द की बात तभी होती है जब कोई राष्ट्र शक्तिशाली शक्तिशाली होता है। कमजोर व्यक्ति समाज, राष्ट्र शांति की बात नहीं कर सकता। पिछले 5 वर्षों में भारत जिस तरह से आगे बढ़ा है वैश्विक मंच पर ही पहचान भारत के संस्कृति परंपरा के प्रति दुनिया के मन में नया भाव पैदा हुआ है । 21 जून को पूरे देश में योग दिवस मनाया जाता है इस वर्ष की दूसरी बड़ी उपलब्धि कुंभ महोत्सव रहा। यूनेस्को ने कुंभ महोत्सव को अमूर्त धरोहर घोषित किया तो वहीं कुंभ में 72 देशों के राजदूत 193 देशों के लोगों ने सहभागिता की तो भारत भी कहां पीछे रहता भारत के 24 करोड़ों श्रद्धालुओं ने संगम तट पर डुबकी लगाई। इन दो घटनाओं से दुनिया को एक बड़ा संदेश गया। कहां की इस लोकसभा चुनाव में नकारात्मक आरोप-प्रत्यारोप विध्वंसात्मक राजनीति करने वाले लोग खारिज कर दिए गए। सकारात्मक सोच देश व समाज के लिए जो अंतःकरण से सोचेगा देश उसके साथ खड़ा होगा। यह जनता ने दिखाया है देश धर्म से धर्म से हम सुरक्षित हैं यहीं से मानवता के कल्याण का संदेश जाता है। हमारे संविधान में भगवान राम का चित्र है, पुष्पक विमान से राम अयोध्या आ रहे हैं भगवान कृष्ण के संदेश को भी स्थान मिला है लेकिन 1947 के बाद से बनने वाली सरकारों ने राम के नाम से परहेज किया मोदी सरकार ने रामायण सर्किट से पौराणिक स्थलों को नई ताजा के साथ प्रस्तुत करने की पहल की है दीपोत्सव से दुनिया को जोड़ने का प्रयाश हुआ है ।अपनी संस्कृति को विस्मृत कर कोई आगे नहीं बढ़ सकता अलग अलग सर्किट के माध्यम से हम अपनी धरोहरों को विकसित कर रहे हैं । अय्योध्या की विकास योजनाएं इसी की पहल है । विश्व में अयोध्या की पहचान राम जन्म भूमि से है जनपद का नाम अय्योध्या किया, नगर निगम का गठन किया, कमिश्नरी को भी अयोध्या किया। कभगवान राम की परंपरा को आगे बढ़ाना का काम जारी रहेगा । पिछली सरकारों ने रामलीला मंचन बंद कर दिया था हमने शुरू किया दुनिया के अंदर जहां से राम से जुड़ी स्मृतियों हैं उनको संग्रहित करने का काम किया जा रहा है। कई देशों की रामलीला के माध्यम से की पहचान दुनिया तक पहुंचाई जा रही है । विश्वरूप सांस्कृतिक संबंधों के माध्यम से नई ऊंचाई को प्राप्त कर रहा है। योगी जी ने कहा कि विकास होना चाहिए हो चुकी है चाहे रामलीला मंचन हो आरती की परंपरा को आगे बढ़ाने का काम हो या हर की पैड़ी की तरह अविरल प्रवाह का प्रयास कार्यक्रम चल रहा है । कहा कि राम मंदिर पर अप्रत्यक्ष रूप से कहा कि राम काज किन्हें बिना मोहि कहां विश्राम.. राम का कार्य है लोकमंगल का कार्य है इसे करना ही होगा संतों के सानिध्य में समाज में एक सकारात्मक पहल भेदभाव रूढ़िवादिता अव्यवस्था अराजकता के खिलाफ समय-समय पर करनी होगी . हमारी वृत्ति राम की वृत्ति होनी चाहिए । राम की वृत्ति सकारात्मक है नई ऊंचाइयों की ओर ले जाती है राम की वृत्ति को आगे बढ़ाना है सबके मंगल की कामना जिसने निहित होती है वही राम की वृत्ति है देश दुनिया की भावना के अनुरूप अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मार्ग भी प्रशस्त होना चाहिए।

इसे भी पढ़े  रालोद ने केंद्र सरकार के कृषि बिल के खिलाफ सौंपा ज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More