योग प्रदर्शन का नहीं दर्शन का विषय: प्रो. मनोज दीक्षित

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरू हुई तैयारी

अयोध्या। डा. राम मनोहर लोहिया अवध विवि में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून के लिए निर्धारित सामान्य योगाभ्यास क्रम में योगोपचार विभाग द्वारा एक दिवसीय प्रशिक्षण का उद्घाटन कुलपति प्रो. मनोज दीक्षित, व मुख्य प्रशिक्षक, डॉ. सुधीर मिश्रा, लखनऊ विश्वविद्यालय द्वारा किया गया।
प्रशिक्षण प्रतिदिन प्रातः 07.00 बजे से 09.00 बजे तक 20 जून तक नियमित चलता रहेगा। इसका मुख्य उद्देश्य अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को एक आदर्श योगाभ्यास के बारे में सम्यक रूप से अवगत कराना है। इस सामान्य योगाभ्यास में सूक्ष्म व्यायाम, संधि संचालन एवं सभी प्रकार के आसन (खड़ेहोकर, बैठकर, पेट के बल, पीठ के बल) शोधन क्रिया तथा ध्यान सम्मिलित है। इस योगाभ्यास के पालन से स्वस्थ व्यक्ति स्वस्थ बना रहेगा तथा रुग्ण व्यक्ति पुनः स्वस्थ हो जायेगा।
इस मौके पर कुलपति ने कहा कि योग के सर्वांगीण पक्ष को प्रधानता देते हुए कहा कि योग प्रदर्शन का नहीं दर्शन का विषय है। वास्तव में योग केवल शारीरिक स्तर (बड़े बड़े आसनों को करने हेतु लचीलेपन) तक ही सीमित नहीं होना चाहिए, अपितु योग के समग्र अभ्यास के माध्यम से मानसिक व आत्मिक स्तर पर सजगता एवं चैतन्यता का श्रेष्ठतम स्थिति को प्राप्त करने का प्रयास पुरुषार्थ भी अतिआवश्यक है।
मुख्य प्रशिक्षक डॉ. सुधीर मिश्र, ने सामान्य योगाभ्यास के क्रम में अनुशंसित शारीरिक क्रियाओं, प्राणायाम, आसन तथा अन्य आवश्यक गतिविधियों को प्रतिभागियों के साथ करके अभ्यास करवाया द्य साथ ही, दैनिक दिनचर्या में किन आवश्यक क्रियाओं का अभ्यास करना चाहिए, इस पर भी प्रकाश डाला । ं योगोपचार विभाग के समन्वयक प्रो० एस० एस० मिश्र ने प्रतिभागियों तथा अतिथियों का स्वागत करते हुए सामान्य योगाभ्यास क्रम के महत्त्व पर प्रकाश डाला तथा प्रतिदिन इसके अभ्यास किये जाने की आवश्यकता पर बल दिया।
कार्यक्रम का संचालन में आलोक तिवारी ने किया तथा योगोपचार विभाग के अन्य शिक्षक श्रअनुराग सोनी, सुश्री गायत्री वर्माने अपना सहयोग प्रदान किया इस अवसर पर कार्यपरिषद के सदस्य ओम प्रकाश सिंह, राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रमाधिकारी गण, आई.ई.टी. के निदेशक के साथ उनके अन्य सहयोगी गण, डॉ. महेन्द्र पाल सिंह, संदीप रावत, बीर बहादुर सिंह, डॉ. संजीव सिंह, एवं योगोपचार विभाग के विद्यार्थीगण उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े  दुनियां का सबसे बड़ा लिखित भारतीय संविधान : प्रो. रविशंकर सिंह

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More