धान की उन्नत प्रजाति के बीज कृषि विवि में उपलब्ध

मिल्कीपुर। नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज में धान की उन्नत प्रजातियों के बीज जनसामान्य कृषकों के लिए उपलब्ध हैं। ज्ञात हो विश्वविद्यालय सरकारी संस्थाओं को प्रमुखरूप से फसलों के अभिजनक,आधारीय बीज बीज उत्पादन की दृष्टि से प्रत्येक सीजन में उपलब्ध कराता है। इस वर्ष खरीफ फसलों के प्रमुख धान की एनडीआर 3112-1 का 766.80 क्विंटल, एनडीआर 2065 का 450, सरयू 52 का 17.50, एनडीआर 2064 का 126. 60 बढ़ अवरोधी प्रजाति स्वर्णा सब1 का 30 तथा सांभा सब1 का 54.10 क्विंटल आधारीय एवं एन डी आर 2065 का 350 व स्वर्णा सब1का 329. 50 क्विंटल प्रमाणित बीज उपलब्ध है।
विश्वविद्यालय के संयुक्त निदेशक बीज एवं प्रछेत्र डॉ सी इन राम ने बताया कि विश्वविद्यालय के मसौधा केंद्र पर एन डी आर 3112, सांभा महसूरी व स्वर्णा महसूरी समेत अल्पावधि की एनडीआर 97 धान की प्रजातियों के अभिजनक बीज विक्रय हेतु उपलब्ध है। वहीं अन्य बीज विश्वविद्यालय के मुख्य परिसर के मुख्य द्वार पर स्थित बीज विक्रय केंद्र व वीज विधायन केंद्र अमरहर पर विक्रय हेतु उपलब्ध हैं। विश्वविद्यालय के निदेशक शोध डॉ. वी. एन. राय के अनुसार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो जे एस समधू ने उपलब्ध बीजों को कृषकों तक पहुंचाने व उन्हें इस सम्बंध में आवजीत कराने के साथ साथ सभी प्रजातियों की उत्पादकता व अन्य गुणों को प्रसारित करने का निर्देश दिया है। निदेशक शोध डॉ राय ने बताया कि बीजों के कार्य अथवा किसी भी सम्बन्ध में जानकारी के लिए किसान भाई संयुक्त निदेशक बीज के मोबाइल नं 9451205196 पर सम्पर्क कर सकते हैं। किसान भाई प्रसार निदेशालय के कृषि तकनीकी सूचना केंद्र (एटिक) पर दूरभाष स्कंख्य 05270 262056 पर भी सम्पर्क कर बीज की उपलब्धता व तकनीकी पर जानकारी विशेषज्ञों से प्राप्त कर सकते हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More